दौलतपुर में मिला अज्ञात युवक का शव, फैली सनसनी_रिपोर्ट--घनश्याम तिवारी     संतकबीरनगर में स्प्रे मशीन फटने से बड़ा हादसा...     संतकबीरनगर_महुली क्षेत्र में पेड़ से लटकता मिला युवक का शव-राशिदा खान की रिपोर्ट     जनता कर्फ्यू का रहा व्यापक असर, हमेशा गुलजार रहने वाले चौराहे रहे सुनसान_रिपोर्ट- मु.परवेज़ अख्तर     पालघर स्टेशन पर उतारे गये कोरोना वायरस के संक्रमण के चार संदिग्ध     सुलतानपुर-रफ्तार का कहर,दो की मौत,चार रेफर_रिपोर्ट_अज़हर अब्बास     मदरसों में बच्चों के अन्दर छिपी हुई प्रतिभा को निखारा जाता हैः मौलाना हलीमुल्लाह कासिमी     सुल्तानपुर, फ्लैश     संतकबीरनगर-विज्ञान महोत्सव का डीएम-एसपी ने किया शुभारम्भ_रिपोर्ट-बिट्ठल दास     संतकबीरनगर- संघर्ष समिति संयोजक ने किया भ्रमण_रिपोर्ट-नूर आलम सिद्धीकी     पीएचसी दुधारा पर लगा मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेला     जनपद बदायूं के नगर कोतवाली क्षेत्र उझानी मे चल रहे वाछितं अपराधियो को गिरफ्तार कर जेल भेजा     

COVID 19-मुंबई के पोद्दार काॅलेज में डिसइन्फेक्शन चेंबर शुरू,20 सेकंड में खत्म होगा वायरस

 

 

मुंबई
कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए तरह-तरह की तकनीक खोजी जा रही है। इसी के तहत मुंबई में डिसइंफेक्शन चेंबर (Corona Preventions) की शुरुआत की गई है। इन चेंबर्स को कोरोना के खिलाफ (Fight Against Corona) सुरक्षित होने के तरीके के तौर पर देखा जा रहा है। वर्ली में स्थित पोद्दार कॉलेज में मुंबई के पहले डिसइंफेक्शन चेंबर की शुरुआत की गई है। इसका लाभ कॉलेज में क्वारंटीन किए गए लोगों के साथ वहां के हेल्थ वर्कर ले सकेंगे।
चेंबर में निकलने वाला मिस्ट सोप वॉटर (साबुन का पानी) है, जिसका शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं है। यह वैसे ही है, जैसे हम साबुन से हाथ धोते हैं।
डॉ. मुफ्फजल लकड़ावाला
चेंबर की शुरुआत बीएमसी और मोटापा रोग विशेषज्ञ डॉ मुफ्फजल लकड़ावाला के आपसी सहयोग से की गई है।
लकड़ावाला के अनुसार, 'यह एक तरीके का अतिरिक्त प्रिकॉशन है, जो कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में मदद कर सकता है। चेंबर में एक खास तरह का मिस्ट निकलता है, जो कपड़ों पर रहने वाले वायरस को खत्म करने में मददगार है। कॉलेज आने वाले लोगों को हम 20 सेकंड इस चेंबर में रहने की सलाह देते हैं। इससे अगर उनके कपड़ों पर किसी भी तरह का वायरस यहां तक कि कोरोना भी होगा, तो वह मर जाएगा, जिससे वायरस के प्रसार में कमी आएगी।'

डॉ. लकड़ावाला ने बताया कि चेंबर में केवल सोप वॉटर का इस्तेमाल किया जा रहा है। हाइपो सोडियम क्लोराइड का इस्तेमाल हमें पर्सनल डिसइन्फेक्शन के लिए नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसका दुष्प्रभाव भी शरीर पर हो सकता है।

बीएमसी फायर विभाग के प्रमुख पी राहंगदले के अनुसार पर्सनल डिसइंफेक्शन के लिए हाइपो सोडियम क्लोरोइड नहीं है। देश में कुछ जगहों पर हाइपो सोडियम क्लोरोइड का इस्तेमाल पर्सनल डिसइन्फेक्शन के लिए किए जाने की बात सामने आई है। ऐसे में मुंबई में शुरू हुए इस चेम्बर में भी इसका इस्तेमाल होने को लेकर चर्चा शुरू हो उसके पहले ही डॉक्टरों ने साफ कर दिया है कि इसमें केवल सोप वाटर का इस्तेमाल किया जा रहा है।फिलहाल बीएमसी एवं महाराष्ट्र सरकार कोरोना को मात देने के लिए हर संभव कोशिश कर रहा है ।

हाल के पोस्ट

S.R International Academy
Police banner