ब्रेकिंग न्यूज़- गाजीपुर-टहलने गया था युवक, घर पहुँची मौत की खबर      दौलतपुर में मिला अज्ञात युवक का शव, फैली सनसनी_रिपोर्ट--घनश्याम तिवारी     संतकबीरनगर में स्प्रे मशीन फटने से बड़ा हादसा...     संतकबीरनगर_महुली क्षेत्र में पेड़ से लटकता मिला युवक का शव-राशिदा खान की रिपोर्ट     जनता कर्फ्यू का रहा व्यापक असर, हमेशा गुलजार रहने वाले चौराहे रहे सुनसान_रिपोर्ट- मु.परवेज़ अख्तर     पालघर स्टेशन पर उतारे गये कोरोना वायरस के संक्रमण के चार संदिग्ध     सुलतानपुर-रफ्तार का कहर,दो की मौत,चार रेफर_रिपोर्ट_अज़हर अब्बास     मदरसों में बच्चों के अन्दर छिपी हुई प्रतिभा को निखारा जाता हैः मौलाना हलीमुल्लाह कासिमी     सुल्तानपुर, फ्लैश     संतकबीरनगर-विज्ञान महोत्सव का डीएम-एसपी ने किया शुभारम्भ_रिपोर्ट-बिट्ठल दास     संतकबीरनगर- संघर्ष समिति संयोजक ने किया भ्रमण_रिपोर्ट-नूर आलम सिद्धीकी     पीएचसी दुधारा पर लगा मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेला     जनपद बदायूं के नगर कोतवाली क्षेत्र उझानी मे चल रहे वाछितं अपराधियो को गिरफ्तार कर जेल भेजा     

हीमोफीलिया दिवस पर विशेष_रिपोर्ट-रवि गुप्त

 

 


मसूढ़े से लगातार खून बहे तो हो जाएं सावधान, हो सकता है हीमोफीलिया
-हीमोफीलिया रक्तस्राव संबंधी अनुवांशिक बीमारी, प्रदेश के 26 केन्द्रों पर होता है हीमोफीलिया का इलाज
बलरामपुर 18 अप्रैल। यदि आपके बच्चे के दूध के दांत टूटने एवं नये दांत निकलते समय मसूढ़े से लगातार खून बह रहा हो। तो सावधान हो जाएं यह हीमोफीलिया के लक्षणों में से एक है। हीमोफीलिया रक्तस्राव संबंधी एक अनुवांशिक बीमारी है। इससे ग्रसित व्यक्ति में लम्बे समय तक रक्त स्राव होता रहता है। यह खून में थक्का जमाने वाले आवश्यक फैक्टर के न होने या कम होने के कारण होता है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने शनिवार को बताया कि हीमोफीलिया दिवस हर वर्ष 17 अप्रैल को मनाया जाता है। हीमोफीलिया रक्तस्राव चोट लगने या अपने आप भी हो सकता है। मुख्यतः रक्तस्राव जोड़ो, मांसपेशियों और शरीर के अन्य आंतरिक अंगों में होता है और अपने आप बन्द नहीं होता है। यह एक असाध्य जीवन पर्यन्त चलने वाली बीमारी है लेकिन इसको कुछ खास सावधानियां बरतने से और हीमोफीलिया प्रतिरोधक फैक्टर के प्रयोग से नियंत्रित किया जा सकता है। भारत में लगभग 80,000 से 100,000 लोग हीमोफीलिया से ग्रसित हैं इसमें से अब तक करीब 18,500 की पहचान ही हो पायी है। हीमोफीलिया के इलाज कि सुविधा प्रदेश के 26 स्वास्थ्य केन्द्रों पर उपलब्ध है।
-हीमोफीलिया के लक्षण
यदि प्रसव के समय नाभि की नाल, माँस से अलग करने पर लम्बे समय तक लगातार रक्तस्राव होता है। यदि बच्चे के शरीर पर किसी भी जगह नीले या काले दाग पड़ जाते हैं और महीने या उससे अधिक समय तक रहते हैं। यदि बच्चे के दूध के दांत टूटने एवं नये दांत निकलने की प्रक्रिया में मसूड़े से लगातार रक्तस्राव होता है। यदि बच्चे के किसी भी जोड़ में सूजन आ जाती है और वह रक्त अथवा फ्रेश फ्रोजन प्लाज्मा देने से ठीक हो जाती है। तो यह सभी लक्षण बच्चे के हीमोफीलिया से ग्रसित होने की प्रबल सम्भावना को दर्शाते हैं। हीमोफीलिया के रोगी के जोड़ो में सूजन के साथ अक्सर दर्द का होना असल में उसके जोड़ में आन्तरिक रक्तस्राव होना है यदि यह सूज नया आन्तरिक रक्तस्राव जोड़ो में बार-बार होता है तो वह जोड़ों को विकृत बना देता है और उस जोड़ को बेकार कर देता है। इस तरह रोगी में विकलांगता की शुरुआत हो जाती है। इसके अतिरिक्त यदि यह रक्तस्राव रोगी की आंतों में अथवा दिमाग के किसी हिस्से में शुरू हो जाये तो यह जान लेवा भी हो सकता है। इसका इलाज तुरन्त अथवा जल्द से जल्द होना अति आवश्यक है।
-हीमोफीलिया के प्रकार
यदि हीमोफीलिया रोगी के रक्त में थक्का जमाने वाले फैक्टर VIII की कमी हो तो इसे हीमोफीलिया ए कहते है। यदि रक्त में थक्का जमाने वाले फैक्टर IX की कमी हो तो इसे हीमोफीलिया बी कहते है। इस प्रकार मरीज को जिस फैक्टर की कमी होती है वह इंजेक्शन के जरिये उसकी नस में दिया जाता है। जिससे रक्तस्राव रूक सके, यही हीमोफीलिया की एक मात्र औषधि है। रक्त जमाने वाले फैक्टर अत्यधिक महंगे होने के कारण अधिकांश मरीज इलाज से वंचित रह जाते हैं। हीमोफीलिया से ग्रस्त व्यक्तियों को सही समय पर इंजेक्शन लेना, नित्य आवश्यक व्यायाम करना, रक्त संचारित रोग (एचआईवी, हीपाटाइटिस बी व सी आदि) से बचाव, दांतों की सुरक्षा के बारे में शिक्षित करना ही हीमोफीलिया से बचाव का उपाए है।

हाल के पोस्ट

S.R International Academy
Police banner