गोरखपुर -बीआरडी मेडिकल कॉलेज में कोरोना संक्रमण की जांच अब कोबास मशीन से हो सकेगी। इस मशीन से 24 घंटे में एक हजार नमूनों की जांच होती है। शासन ने इसकी अनुमति दे दी है। जून के प्रथम सप्ताह में इसके पहुंचने की उम्मीद है।

प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने बताया कि कोरोना संक्रमण की जांच में तेजी लाने के लिए यह मशीन मंगाई जा रही है। मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए आइसीयू को 20 बेड से बढ़ाकर 40 बेड का कर दिया गया है। 31 सिलेंडर लगाकर पाइप लाइन से ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। इसके अलावा 250 सिलेंडर कॉलेज के पास अतिरिक्त हैं, जिनका उपयोग इमरजेंसी में किया जा सकता है। गीडा स्थित एक कंपनी ने आश्वस्त किया है कि आवश्यकता पडऩे पर पर्याप्त सिलेंडर की आपूर्ति हो जाएगी।

कोरोना वार्ड में दो की हालत गंभीर

मेडिकल कॉलेज के कोरोना वार्ड में 62 मरीज भर्ती है। इनमें दो की हालत गंभीर है। प्रतिदिन लगभग पांच सौ नमूनों की जांच हो रही है। प्राचार्य के अनुसार 40 फीसद मरीज ठीक हो रहे हैं।

Read more

 

 


- अनुभव के आधार पर तय होगा-लोगों को कितने दिनों में हुआ फायदा
- आयुष मंत्रालय की सभी एडवाइजरी से भी लैस है संजीवनी एप
बलरामपुर 18 मई । कोरोना वायरस यानि कोविड-19 से लोगों की रक्षा करने में अग्रणी भूमिका निभा रहा आयुष मंत्रालय अब आयुष संजीवनी एप लेकर आगे आया है। इस एप में जहाँ आयुष मंत्रालय की सभी एडवायजरी हैं वहीं इसमें लोगों के सवाल-जवाब का भी प्रावधान किया गया है। इन्हीं सवाल-जवाब के आंकड़ों के आधार पर यह तय होगा कि आयुष मंत्रालय की सलाह लोगों के लिए कितनी फायदेमंद साबित हो रही है। लोग इस एप पर अपने अनुभव साझा कर सकेंगे कि वह आयुष मंत्रालय की सलाह को कब से अपना रहे हैं और कितने दिनों में फायदा हुआ। इसके अलावा किन दिशा-निर्देशों के पालन से ज्यादा लाभ हुआ।
क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी डा. दिग्विजयनाथ ने सोमवार को बताया सरकार का प्रयास है कि इस एप का ज्यादा से ज्यादा प्रचार-प्रसार हो ताकि और लोग इसका फायदा उठाकर निरोगी काया पा सकें। भारत में पारंपरिक चिकित्सा का लम्बा इतिहास रहा है और आयुर्वेद के क्षेत्र में अग्रणी होने के नाते आयुष मंत्रालय, आयुष प्रणालियों के नैदानिक अध्ययन के माध्यम से देश में कोरोना वायरस यानि कोविड-19 की समस्या का समाधान करने के लिए काम कर रहा है। इन्हीं आयुर्वेद से जुड़ीं पद्धतियों पर क्लिनिकल रिसर्च स्टडीज और आयुष संजीवनी एप की शुरुआत की गयी है। यह एप कोविड की रोकथाम के लिए आयुष चिकित्सा प्रणालियों के उपयोग की स्वीकृति और लोगों के बीच इसके प्रभावों से आंकड़े जुटाने में उपयोगी साबित होगा । मंत्रालय लोगों के बीच कोविड की रोकथाम के लिए आयुष प्रभाव का भी आकलन कर रहा है ।
-एप के जरिये 50 लाख लोगों के आंकड़े जुटाने का लक्ष्य
आयुष संजीवनी एप के जरिये देश भर के 50 लाख लोगों के अनुभवों के बारे में आंकड़े जुटाने का लक्ष्य तय किया गया है। यह आंकड़े कोविड-19 की रोकथाम के लिए आयुष चिकित्सा प्रणालियों के उपयोग की स्वीकृति और लोगों के बीच इसके प्रभावों के आकलन में उपयोगी साबित होंगे।
-जनसंख्या आधारित पारम्परिक अध्ययन पर जोर
आयुष मंत्रालय उच्च्च जोखिम वाली आबादी में कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम में आयुर्वेदिक दवाओं के प्रभाव का अध्ययन करने के लिए जनसंख्या आधारित अध्ययन भी शुरू करने जा रहा है। इससे निवारक क्षमता का पता चल सकेगा। देश में आयुष मंत्रालय के अनुसंधान परिषदों, राष्ट्रीय संस्थानों व कई राज्यों के माध्यम से यह अध्ययन किया जाएगा। इसके तहत पांच लाख की आबादी को कवर करने की योजना है। यह अध्ययन रिपोर्ट कोविड-19 के उपचार में आयुष पद्धति की क्षमताओं के आकलन के लिए वैज्ञानिक सबूतों के आधार पर अवसरों के नए द्वार खोलेगी।
-कोरोना से बचने के लिए आयुष मंत्रालय की सलाह
दिन में बार-बार गुनगुना पानी पिएं। रोजाना 30 मिनट तक योगा करें। भोजन में हल्दी, जीरा, धनिया और लहसुन का इस्तेमाल करें। एक चम्मच या 10 ग्राम च्यवनप्राश का हर रोज सेवन करें। दिन में एक-दो बार हर्बल चाय/काढ़ा पियें। दिन में एक या दो बार हल्दी वाला दूध पियें। तिल या नारियल का तेल या घी सुबह-शाम नाक के छिद्रों में लगायें। एक चम्मच नारियल या तिल का तेल को मुंह में लेकर इधर-उधर घुमाएँ और गुनगुने पानी के साथ कुल्ला करें (थूक दें)। गले में खरास या सूखा कफ हो तो पुदीने की पत्तियां व अजवाइन को गर्म कर भाप लें। गुड़ या शहद के साथ लौंग का पाउडर मिलाकर दिन में दो-तीन बार खाएं।

Read more

 

-नाखूनों के बीच जमी मैल में हो सकता है अदृश्य शत्रु
-इस वक्त हर कदम पर सजगता ही सबसे बड़ा हथियार
बलरामपुर 14 मई । कोरोना वायरस यानि कोविड-19 के खिलाफ जंग में सजगता ही हमारा सबसे बड़ा हथियार है। लड़ाई जब एक अदृश्य और अनजान वायरस के खिलाफ चल रही हो तो हमें हर एक छोटे-बड़े मोर्चों पर सतर्क रहना होगा तभी हम खुद के साथ घर-परिवार और समुदाय को सुरक्षित रख सकेंगे । इसलिए आपको यह भी पता होना चाहिए कि आपके नाखूनों के बीच जमा मैल में भी कोरोना वायरस या बैक्टीरिया हो सकते हैं जो कि खाते-पीते समय मुंह के रास्ते पेट तक पहुँच सकते हैं और इस लड़ाई में आपको कमजोर कर सकते हैं।
स्वास्थ्य विभाग द्वारा जहाँ इस मुश्किल दौर में हर किसी को सुरक्षित बनाने को लेकर तरह-तरह की अपील की जा रही है वहीं इस बारे में भी जागरूक किया जा रहा है कि अगर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचना है तो नाखूनों को छोटा रखें। इस बारे में कोरोना वायरस के नोडल अफसर व एसीएमओ डॉ. ए.के. सिंद्यल का कहना है कि हमारे नाखूनों के बीच मैल (गंदगी) बड़े आसानी से जमा हो जाती है। इस मैल में वायरस या बैक्टीरिया भी हो सकते हैं। इसलिए नाखून को छोटा रखें और हाथ अच्छी तरह से धोएं। बहुत से लोगों की आदत नाखूनों को चबाने की होती है, जो कि बहुत ही नुकसानदायक साबित हो सकती है, उससे तौबा करने में ही भलाई है। कोरोना वायरस को पूरी तरह से मात देने वाली वैक्सीन जब तक नहीं मिल जाती तब तक तो हमें इन्हीं छोटी-छोटी बातों का ख्याल रखते हुए सजगता के साथ लड़ाई लड़नी है।
बाहर निकलें, तो बरतें जरूरी सावधानी
-साबुन-पानी से बार-बार अच्छी तरह से हाथ धुलें।
-बाहर निकलें तो मास्क, गमछा या रूमाल से मुंह ढकें।
-सार्वजानिक स्थलों पर दो गज दूर से ही लोगों से मिलें।
-नाक, मुंह व आँख को अनावश्यक रूप से छूने से बचें।

Read more

 

 


- बच्चों पर जी भरकर लुटाती हैं ममता
- नर्सेज डे (12 मई) पर विशेष
श्रावस्ती, 12 मई। जिला अस्पताल के स्पेशल न्यूबॉर्न केयर यूनिट में विशेष नवजात शिशुओं पर पहले उनकी खास मांएं ही ममता लुटाती हैं। हम बात कर रहे हैं यहां पर तैनात स्टाफ नर्सों की, जो चौबीसों घंटे मां की भूमिका में रहकर नवजातों की देखभाल करती रहती हैं। इन बच्चों की किलकारियां यहां की स्टाफ नर्सों के चेहरों की मुस्कान को बढ़ा देती है। यहां पर वर्तमान में कुल 11 स्टाफ नर्स तैनात हैं। कहने को तो यह यहां पर अपनी ड्यूटी करती हैं, लेकिन यह ड्यूटी कब ममता और अपनत्व में बदल जाती है, इन्हें खुद ही पता नहीं चलता है।
समय से पूर्व जन्म लेने वाले अथवा अस्वस्थ नवजातों को पूरी तरह से स्वस्थ करने की जिम्मेदारी इनके कंधों पर होती है। इन बच्चों के रोने की आवाज सुनकर दौड़ी चली आती हैं, और बच्चों पर जी भरकर प्यार लुटाती हैं। यह नर्सें तब तक मां की भूमिका निभाती हैं, जब तक यह नवजात पूरी तरह से स्वस्थ होकर अपनी मां के आंचल में नहीं चले जाते हैं। यहां ऐसे बच्चे रखे जाते हैं जिनका जन्म नौ माह से पहले हुआ हो अथवा उनका वजन कम हो। इन नर्सों के सामने इस बात की चुनौती होती है कि समय से पूर्व जन्में बच्चे को किस तरह से स्वस्थ बनाया जाए। संकट की इस घड़ी में उसके साथ उसे जन्म देने वाली मां अथवा परिवार का कोई दूसरा सदस्य भी नहीं होता है। ऐसे में यह नवजातों को ट्यूब फीडिंग, स्पून फीडिंग या फॉर्मूला फीडिंग कराती हैं। यहां के प्रभारी डॉ. इमरान कहते हैं कि इन नर्सों के कामों को बेहद करीब से देखा है। यह अपने दायित्वों को सिर्फ ड्यूटी समझकर नहीं बल्कि एक मां के रूप में पूरा करती हैं।
इस यूनिट की शुरूआत अप्रैल 2016 में हुई थी। अब तक यहां पर 6,112 बच्चे भर्ती किए जा चुके हैं। वर्ष 2019 में यहां पर 1,394 बच्चे भर्ती हो चुके हैं। यूनिट के प्रभारी स्टाफ नर्स रमेश सिंह हैं। यहां पर तैनात मेनका सिंह, पार्वती देवी, हुमा इफ्तदार, योगिता पाठक, रिंकी कनौजिया, आकांक्षा गुप्ता, स्वर्ण लता विश्वकर्मा बच्चों पर जी भरकर ममता उड़ेलती हैं। इसके अलावा यहां पर शैलेंद्र यादव, अजय उपाध्याय, राकेश वर्मा भी इन बच्चों के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हैं। महिला स्टाफ नर्सों का कहना है कि इन नवजातों की देखभाल करना एक बड़ी चुनौती होती है। इनकी देखभाल करते करते जुड़ाव बहुत ज़्यादा हो जाता है। बच्चों को तब तक नहीं छोड़ते हैं जब तक उनका वजन 1500 ग्राम से ज़्यादा न हो जाए। इन शिशुओं के साथ जुड़ाव काफी अच्छा लगता है। बच्चे जब कई कई दिन रह लेते हैं तो काफी जुड़ाव हो जाता है। भेजते वक्त मन भर आता है।

Read more

 


सुलतानपुर---जिलाधिकारी सी इंदुमती ने अवगत कराया है कि बलबीर चौरसिया उम्र लगभग 40 वर्ष पुत्र राममूर्ति चौरसिया निवासी ग्राम राजा उमरी विकासखंड व तहसील लंभुआ जो विगत चार-पांच माह से मुंबई के अंधेरी वेस्ट में रह रहे थे दिनांक 28-4 -2020 को मुंबई से अपनी यात्रा प्रारंभ कर दिनांक 1 मई 2020 को अपने ग्राम राजा उमरी पहुंचे थे दिनांक 2-5 -2020 को फैसिलिटी क्वॉरेंटाइन सेंटर फरीदीपुर में क्वॉरेंटाइन किया गया दिनांक 3:05 2020 को इनका सैंपल लिया गया तथा आज दिनांक 6 मई 2020 को रात्रि में जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई जिसमें बलबीर चौरसिया को एसजीपीजीआई लखनऊ की लैबरिपोर्ट के आधार पर कोविड - 19 पॉजिटिव पायागया परंतु कोविड 19 के कोई भी लक्षण नहीं है उक्त पाए गए कोविद 19 पॉजिटिव केस को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कुड़वार में निर्मित L1 हॉस्पिटल में शिफ्ट कर समुचित इलाज किया जा रहा है इस प्रकार जनपद में चौथा को कोरोना पाया गया ग्राम राजा उमरी तहसील लंभुआ के 1 किलोमीटर क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए सील करने की कार्यवाही की जा रही है समस्त जनपद वासियों से अपील की जाती है कि कोरोना वायरस 19 के बचाव के जो भी उपाय बताए गए हैं उन्हें अपनाते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करें ताकि हम सब जनपद वासी कोरोना वायरस के संक्रमण से बच सकें सतर्क रहें अपने घर में रहें सुरक्षित रहें

Read more

 

सिद्धार्थ नगर।आज मंगलवार को जिले में दस कोविट 19 से संक्रमित मिलने से स्वास्थय विभाग में हड़कंप मच गया है। पिछले चार दिन पहले दो पाज़िटिव मरीज मिले थे। उसके बाद क्वारेंटीन में रह रहे जिले के 295 नमूनों की जांच भेजी गई थी जिसमें दस की रिपोर्ट पॉजिटिव आईं है। यह सभी सदर तहसील के गंगा इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में क्वारंटाइन हैं। इन्हें बर्डपुर सीएचसी में बने एल-वन सेंटर में भेजा जा रहा है। इसके पहले दो और पॉजिटिव मिले थे, जिसमें से एक इसी स्कूल में क्वारंटाइन था। दूसरा बाँसी तहसील के महामाया आईटीआई में मिला था। इन दोनों का इलाज संतकबीर नगर में हो रहा है। इस तरह से कुल पॉजिटिव की संख्या 12 हो गई है। रिपोर्ट मंगलवार आई है।
तीन दिनों में लगभग 300 लोगों का सेंपल लिया गया है। जिसमें 205 का सेंपल आयुर्विज्ञान अनुसंधान केंद्र में जांच के लिए भेजा गया था। यहां दस के पॉजिटिव की पुष्टि हुई है। शेष 90 की जांच किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय लखनऊ में भेजा गया है। इनमें 80 की रिपोर्ट आ गई है। सभी निगेटिव मिले हैं। दस की जांच रिपोर्ट आनी है। जानकारी मिलते ही प्रशासन में हड़कंप की स्थिति है।

Read more

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

बलरामपुर 29 अप्रैल। कोरोना यानि कोविड-19 के सुपर हीरो वायरस के हर हमले को नाकाम करने की पूरी ताकत रखते हैं। इसलिए जब तक सुपर हीरो का साथ है तब तक आपको बहुत चिंता करने की जरूरत नहीं हैं, सिर्फ जरूरत उनके सही तरीके से इस्तेमाल करने की है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा भी इन्हीं सुपर हीरो पर फोकस किया जा रहा है।
कोरोना वायरस के नोडल व एसीएमओ डा. ए.के. सिंघल ने बुधवार को ये जानकारी देते हुए बताया स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने भी इन तीनों सुपर पावर के साथ चलने की बात की है और “मिलिए कोविड-19 के सुपर हीरो से” नाम से एक पोस्टर भी जारी किया है, जिसमें साबुन, मास्क और अल्कोहल आधारित हैण्ड सैनिटाइजर को इस वायरस का सही मायने में मुकाबला करने वाले सुपर हीरो के रूप में प्रदर्शित किया गया है।
कोविड 19 के पहले सुपर हीरो साबुन को महत्वपूर्ण बताया गया है। इसके जरिये यह सन्देश दिया जा रहा है कि कोरोना के संक्रमण से सुरक्षित रहना है तो साबुन और पानी से बार-बार अच्छी तरह से हाथ धोएं। बाहर से जब भी घर के अंदर आयें तो हाथों को अच्छी तरह से धोना कतई न भूलें। नाक, मुंह व आँख को न छुएं।
कोविड-19 के दूसरे सुपर हीरो मास्क को भी संक्रमण से खुद बचने और दूसरों को बचाने के लिए बहुत ही आवश्यक बताया गया है। कोरोना का वायरस खांसने व छींकने से निकलने वाली बूंदों के संपर्क में आने से दूसरे व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है, इसलिए खांसते या छींकते समय नाक व मुंह को ढककर रखें। मास्क को आसानी से घर पर भी बनाया जा सकता है और अच्छी तरह से धुलकर दोबारा भी इस्तेमाल किया जा सकता है। मास्क की जगह पर रूमाल, गमछा या स्कार्फ को दो-तीन परत कर इस्तेमाल किया जा सकता है ।
कोविड-19 के तीसरे सुपर हीरो अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर भी कोरोना की जंग में अहम भूमिका निभा रहे हैं। कोरोना को फैलने से रोकने के साथ ही कीटाणुओं को खत्म करने और खुद को सुरक्षित रखने में इनका इस्तेमाल बहुत ही प्रभावी है। इन तीनों सुपर हीरो को अतिरिक्त ताकत सोशल डिस्टेंशिंग के पूर्ण पालन से मिलती है। इस तरह कोरोना से जंग में इन सभी का सही से इस्तेमाल करिए और अपने साथ अपनों को सुरक्षित रखिये।
-कंट्रोल रूम व हेल्पलाइन में दें जानकारी
कोरोना वायरस महामारी के लिए जिला प्रशासन द्वारा 24 घंटे के लिए कंट्रोल रूम बनाये गये हैं जिसमें काॅल करके आप कोरोना वायरस संबंधी कोई भी जानकारी दे सकते हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में स्थापित कंट्रोल रूम का नम्बर 7880831068 व 7081224641, पुलिस अधीक्षक कार्यालय में कंट्रोल रूम का नम्बर 9454417381 व 8957422023 व कलेक्ट्रेट में कोरोना रोकथाम व नियंत्रण के लिए इन्टीग्रेटेड कंट्रोल रूम का नम्बर 05263-232046, 05263-236250 जारी किया गया है। प्रदेश सरकार के हेल्पलाइन नंबर 18001805145 पर भी संपर्क कर सकते हैं।

Read more

 

 

कोरंटीन सेंटर में मौजूद 49 लोगों की होगी जांच
-डीएम व एसपी ने पचपेड़वा पहुंचकर कोरंटीन सेटर का लिया जायजा, युवक से की बात

-ड्यूटी में लगे सभी पुलिस, स्वास्थ्यकर्मियों व चिकित्सकों को विशेष सर्तकता बरतने के निर्देश

 


बलरामपुर। कोरंटीन सेंटर में आये व्यक्ति की जांच रिपोर्ट आने पर जिले में पहले कोरोना पाॅजिटिव मरीज का केस सामने आया है। मामला सामने आते ही स्वास्थ्य विभाग ने एडवाइजरी जारी कर जिले में सभी लोगों को सर्तकता बरतने के निर्देश दिये है। डीएम एसपी ने मौके पर पहुंचकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मरीज से बात की। मरीज में पहले से कोरोना वायरस के कोई लक्षण नहीं थे। विभाग अब कोरंटीन सेंटर में मौजूद सभी लोगों के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजेगा।
गुरूवार को जिले में पहला कोरोना पाॅजिटिव मरीज मिलने का मामला सामने आया है। यहां पर पचपेड़वा थाना क्षेत्र का रहने वाला 23 वर्षीय युवक 18 अप्रैल को अपने दो साथियों के साथ 10 अप्रैल को मुम्बई से पैदल व अन्य साधनों से वाया सिद्धार्थनगर जिले के बढ़नी, इटवा और बिस्कोहर होकर 18 अप्रैल को बलरामपुर आया था। इससे पहले तीनों सिद्धार्थनगर जिले के अलफारूक इंटर काॅलेज इटवा में 15 से 17 अप्रैल तक रहे। इनके जिले में प्रवेश करने से पहले बलरामपुर-सिद्धार्थनगर बार्डर पर थर्मल स्कैनिंग भी हुई थी। जब वे 18 अप्रैल को अपने गांव पहुंचे तो तीनों को गांव के बाहर स्थित प्राथमिक विद्यालय पर रखा गया और उसी दिन तीनों को पचपेड़वा के फजले रहमानिया इंटर कालेज में बने कोरंटीन सेंटर में रखा गया। मुम्बई जैसे अति संवेदनशील स्थान से आने के कारण 19 अप्रैल को तीनों के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजे गये थे जिसमें से 23 अप्रैल को मिली रिपोर्ट में एक युवक पाॅटिटिव निकला है जबकि युवक में कोरोना के कोई भी लक्षण नहीं दिख रहे थे। कोरोना पाॅजिटिव मिलने पर डीएम कृष्णा करूणेश, एसपी देव रंजन वर्मा व एसीएमओ डा. बी.पी. सिंह ने कोरंटीन सेंटर पहुंचकर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कोरोना पाॅजिटिव मरीज से बात की और उसे सांत्वना दी कि वो 14 दिन बाद ठीक होकर अपने घर जा सकेगा। एसपी ने पचपेड़वा थाने में पहुंचकर क्षेत्र में ड्यूटी में लगे सभी पुलिस व प्रशासनिक कर्मचारियों को विशेष सर्तकता बरतने के निर्देश दिये और उन्हे बताया कि मरीज मिलने के बाद अब उन्हे क्या सावधानियां बरतनी है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग अब युवक की ट्रैवल हिस्ट्री व सम्पर्क में आये लोगों का डाटा खंगालने में जुट गया है। कोरंटीन सेंटर के एक किलोमीटर सेंसिटिव जोन और दो किलोमीटर बफर जोन का सील कर दिया गया है। सेंटर में रह रहे सभी 49 लोगों के सैम्पल लेकर जांच कराई जाएगी। मरीज को प्रोटोकॉल के अनुसार कोविड-19 पॉजिटिव व्यक्ति को एल-1 हॉस्पिटल में भर्ती किया जा रहा है। मरीज के सम्पर्क जिस भी जिले के मिलेंगे उस जिले को सूचित किया जाएगा।

Read more

 

 


- हाथ और होठों के संपर्क से संक्रमण फैलने का खतरा
- रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी करता है कमजोर
- धूम्रपान का सीधा असर स्वसन प्रणाली व फेफड़ों पर
बलरामपुर 20 अप्रैल। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की चपेट में आने से बचना है तो धूम्रपान से तौबा करने में ही भलाई है। बीड़ी-सिगरेट संक्रमित हो सकते हैं और उँगलियों व होंठों के संपर्क में आकर वह आसानी से संक्रमण फैला सकते हैं। हालाँकि सरकार ने सिगरेट व अन्य तम्बाकू उत्पादों की बिक्री पर रोक लगा रखी है, फिर भी लोग चोरी-चुपके इसका इस्तेमाल कर अपनी जान को जोखिम में डालने से बाज नहीं आ रहे हैं। इन उत्पादों का सेवन कर इधर-उधर थूकने से भी संक्रमण का खतरा था, इसलिए सरकार ने खुले में थूकने पर भी रोक लगा रखी है, इसका उल्लंघन करने पर दण्ड का प्रावधान भी किया गया है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने सोमवार को बताया कि धूम्रपान से व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है, जिसके चलते कोरोना जैसे वायरस सबसे पहले ऐसे लोगों को ही अपनी चपेट में लेते हैं। इसके अलावा बीमारी की चपेट में आने पर ऐसे लोगों के इलाज पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। यही कारण है कि धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों को कोरोना का खतरा कई गुना अधिक रहता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी बाकायदा दिशा-निर्देश जारी कर धूम्रपान से कोरोना की जद में आने के खतरे के बारे में सचेत कर चुका है।
एसीएमओ व कोरोना के नोडल अफसर डा. ए.के. सिंघल का कहना है कि बीड़ी-सिगरेट ही नहीं बल्कि अन्य तम्बाकू उत्पादों के साथ ही हुक्का, सिगार, ई-सिगरेट भी कोरोना वायरस के संक्रमण को फैला सकते हैं, इसलिए अपने साथ ही अपनों की सुरक्षा के लिए इनसे छुटकारा पाने में ही भलाई है । कोरोना का वायरस छींकने, खांसने और थूकने से निकलने वाली बूंदों के जरिये एक दूसरे को संक्रमित करता है। इसीलिए प्रदेश में खुले में थूकने को दंडनीय अपराध की श्रेणी में शामिल कर दिया गया है। इसके अलावा धूम्रपान से श्वसन प्रणाली, सांस की नली और फेफड़ों को भारी नुकसान पहुँचता है। यही कारण है कि फेफड़ों की कोशिकाएं कमजोर होने से संक्रमण से लड़ने की क्षमता अपने आप कम हो जाती है।

Read more

 


जनपद बदायूं मे कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने एक नाई से बाल कटवाया अब उस नाई को क्वारेंटाइन किया गया।
जालंधरी सराय के संक्रमित युवक ने क्वारटीन होने के एक नाई से बाल कटवाए थे, अब नाई का सैंपल भेजा गया है। साथ ही उसके परिवार को होम क्वारंटीन किया गया है। चिंता की बात ये है कि नाई ने 70 अन्य लोगों के भी बाल और शेविंग की है।

दिल्ली से लौटा युवक कोरोना संक्रमित मिल जाने के बाद शहर के जालंधरी सराय और आसपास के एरिया सील कर दिया गया है। जालंधरी सराय मुहल्ला का जो युवक संक्रमित मिला है वह अपने भाई के साथ दिल्ली के सीलमपुर मुहल्ले में टेलरिंग का काम करता था। जनता कर्फ्यू के अगले ही दिन दोनों घर आ गए थे। जिसके बाद उन्हें होम क्वारंटीन कर दिया गया। लेकिन लापरवाह युवक और उसका भाई न सिर्फ आस पडोस में घूमते रहे बल्कि सैम्पल लेने के दो दिन बाद एक पड़ोसी नाई की दुकान पर जाकर बाल भी कटवा आए।

कोरोना संक्रमित युवक का सैंपल लेने के दो दिन बाद उसने मोहल्ले की दुकान में शेखूपुर निवासी एक नाई से बाल कटवाए थे। अब युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद नाई का भी सैंपल लिया गया है। उझानी सीएचसी के चिकित्साधीक्षक डॉ. सुयश दीक्षित ने आज सुबह स्वास्थ्य कर्मियों की टीम भेजकर एंबुलेंस के जरिए उसे जिला अस्पताल के कोरोना वार्ड में भर्ती करा दिया। जहाँ उसका सैंपल लिया गया। चिकित्साधीक्षक ने बताया कि उसके परिवार में पत्नी, दो बच्चों सहित एक बहन को होम क्वारंटीन किया गया है। उन्होंने बताया कि नाई ने 70 लोगों के बाल और शेविंग की हैं। आगे की कार्यवाही नाई की कोरोना रिपोर्ट पर निर्भर होगी, हालाँकि नाई के सम्पर्क में आए लोगों में वो मुश्किल से 10 लोगों को ही जानता है।

Read more

 

 

 

सेमरियावां /संतकबीरनगर। टयूटर पर अनुरोध के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहल करते हुए कोटा राजस्थान से विद्यार्थियो को प्रदेश के विभिन्न जनपदो में वापस बुलाने का पहल शुरू कर दिया है। उनके आदेश के क्रम में हाथरस डिपो से रविवार को जनपद में 81 बच्चों का दल वापस आया। सर्वप्रथम जिला प्रशासन ने उन्हे खलीलाबाद कोतवाली क्षेत्र के इण्डस्ट्रियल एरिया स्थित एक विद्यालय के निकट उतरवाया। उनके स्वास्थ्य का चेकअप कराकर विद्यालय में शिफ्ट किया गया। इसी क्रम में सेमरियावा प्रतिनिधि के अनुसार रविवार के दिन कौशांबी से आए दो मजदूरों की सीएचसी सेमरियावां से जांच के बाद प्राथमिक विद्यालय पर 14 दिन के लिए कवारनटाइन किया गया। सेमरियावां निवासी निजामुद्दीन पुत्र अली रजा ने बताया कि कौशांबी से 16 अप्रैल को शफीकुउर्रहमान के साथ घर के लिए निकला था। 150 किमी की पैदल यात्रा की। कई स्थानों पर पुलिस की मदद से ट्रक आदि से यात्रा करके सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, फैजाबाद, बस्ती से होते हुए रविवार को घर पहुंचा। हमारे साथ चार लोग थे। दो सिद्धार्थनगर जनपद के थे जो बस्ती से अपने जनपद के लिए चले गए। शफीकउर्रहमान को प्रधान सेमरियावां वकील अहमद की मदद से उसके नाना के गांव करमा खान भेज दिया गया। सेमरियावा निवासी शिव कुमार पुत्र घनश्याम जो प्रयागराज से आया है पिछले चार दिन से स्कूल पर कवारनटाइन में रह रहा है। रविवार को प्रधान वकील अहमद पूर्व माध्यमिक विद्यालय सेमरियावा के अध्यापक जफीर अली व मेहताब अहमद ने इन मजदूरों के लिए स्कूल पर पहुंचकर व्यवस्था की। घर पहुंचकर मजदूरों ने राहत की सांस ली।

Read more

 

 


मसूढ़े से लगातार खून बहे तो हो जाएं सावधान, हो सकता है हीमोफीलिया
-हीमोफीलिया रक्तस्राव संबंधी अनुवांशिक बीमारी, प्रदेश के 26 केन्द्रों पर होता है हीमोफीलिया का इलाज
बलरामपुर 18 अप्रैल। यदि आपके बच्चे के दूध के दांत टूटने एवं नये दांत निकलते समय मसूढ़े से लगातार खून बह रहा हो। तो सावधान हो जाएं यह हीमोफीलिया के लक्षणों में से एक है। हीमोफीलिया रक्तस्राव संबंधी एक अनुवांशिक बीमारी है। इससे ग्रसित व्यक्ति में लम्बे समय तक रक्त स्राव होता रहता है। यह खून में थक्का जमाने वाले आवश्यक फैक्टर के न होने या कम होने के कारण होता है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने शनिवार को बताया कि हीमोफीलिया दिवस हर वर्ष 17 अप्रैल को मनाया जाता है। हीमोफीलिया रक्तस्राव चोट लगने या अपने आप भी हो सकता है। मुख्यतः रक्तस्राव जोड़ो, मांसपेशियों और शरीर के अन्य आंतरिक अंगों में होता है और अपने आप बन्द नहीं होता है। यह एक असाध्य जीवन पर्यन्त चलने वाली बीमारी है लेकिन इसको कुछ खास सावधानियां बरतने से और हीमोफीलिया प्रतिरोधक फैक्टर के प्रयोग से नियंत्रित किया जा सकता है। भारत में लगभग 80,000 से 100,000 लोग हीमोफीलिया से ग्रसित हैं इसमें से अब तक करीब 18,500 की पहचान ही हो पायी है। हीमोफीलिया के इलाज कि सुविधा प्रदेश के 26 स्वास्थ्य केन्द्रों पर उपलब्ध है।
-हीमोफीलिया के लक्षण
यदि प्रसव के समय नाभि की नाल, माँस से अलग करने पर लम्बे समय तक लगातार रक्तस्राव होता है। यदि बच्चे के शरीर पर किसी भी जगह नीले या काले दाग पड़ जाते हैं और महीने या उससे अधिक समय तक रहते हैं। यदि बच्चे के दूध के दांत टूटने एवं नये दांत निकलने की प्रक्रिया में मसूड़े से लगातार रक्तस्राव होता है। यदि बच्चे के किसी भी जोड़ में सूजन आ जाती है और वह रक्त अथवा फ्रेश फ्रोजन प्लाज्मा देने से ठीक हो जाती है। तो यह सभी लक्षण बच्चे के हीमोफीलिया से ग्रसित होने की प्रबल सम्भावना को दर्शाते हैं। हीमोफीलिया के रोगी के जोड़ो में सूजन के साथ अक्सर दर्द का होना असल में उसके जोड़ में आन्तरिक रक्तस्राव होना है यदि यह सूज नया आन्तरिक रक्तस्राव जोड़ो में बार-बार होता है तो वह जोड़ों को विकृत बना देता है और उस जोड़ को बेकार कर देता है। इस तरह रोगी में विकलांगता की शुरुआत हो जाती है। इसके अतिरिक्त यदि यह रक्तस्राव रोगी की आंतों में अथवा दिमाग के किसी हिस्से में शुरू हो जाये तो यह जान लेवा भी हो सकता है। इसका इलाज तुरन्त अथवा जल्द से जल्द होना अति आवश्यक है।
-हीमोफीलिया के प्रकार
यदि हीमोफीलिया रोगी के रक्त में थक्का जमाने वाले फैक्टर VIII की कमी हो तो इसे हीमोफीलिया ए कहते है। यदि रक्त में थक्का जमाने वाले फैक्टर IX की कमी हो तो इसे हीमोफीलिया बी कहते है। इस प्रकार मरीज को जिस फैक्टर की कमी होती है वह इंजेक्शन के जरिये उसकी नस में दिया जाता है। जिससे रक्तस्राव रूक सके, यही हीमोफीलिया की एक मात्र औषधि है। रक्त जमाने वाले फैक्टर अत्यधिक महंगे होने के कारण अधिकांश मरीज इलाज से वंचित रह जाते हैं। हीमोफीलिया से ग्रस्त व्यक्तियों को सही समय पर इंजेक्शन लेना, नित्य आवश्यक व्यायाम करना, रक्त संचारित रोग (एचआईवी, हीपाटाइटिस बी व सी आदि) से बचाव, दांतों की सुरक्षा के बारे में शिक्षित करना ही हीमोफीलिया से बचाव का उपाए है।

Read more

 

 

बलरामपुर 17 अप्रैल। कोरोना वायरस का अभी तक कोई इलाज नहीं है सिर्फ इससे बचाव कर अपने आप को सुरक्षित रखा जा सकता है। इसलिए जरूरी है कि आप घर पर ही रहें।बहुत जरूरी काम हो तभी घर से बाहर निकलें। जिला प्रशासन ने सभी आवश्यक सामग्रियों के होम डिलेवरी की सुविधा की है। किसी को कोई असुविधा हो या उसके पास कोई महत्वपूर्ण जानकारी हो तो जिला प्रशासन के हेल्पलाइन नम्बरों पर काॅल कर सकता है। इस वक्त सबसे जरूरी ये है कि यदि कोई बाहर से आया है तो उसकी सूचना तुरन्त जिला प्रशासन को दें नही तो मामला संज्ञान में आने पर परिवार के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

जिलाधिकारी कृष्णा करूणेश ने शुक्रवार को यह बातें स्टेट बैंक आफ इंडिया मंड़ी शाखा और प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक पर मीडिया प्रतिनिधियों के सहयोग से लाइन में लगे खाताधारकों को मास्क वितरित करते हुए कही। उन्होने कहा कि कोरोना जैसी महामारी के दौरान सरकार की तमाम योजनाओं के द्वारा लोगों को लाभान्वित किया जा रहा है। यदि फिर भी किसी को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा या फिर उन्हे राशन आदि की जरूरत है तो वो कलेक्ट्रेट में स्थापित कोविड 19 एकीकृत नियंत्रण कक्ष के नम्बर 1077 टोल फ्री, 02563 236250, 232046, 7880831068 पर सम्पर्क कर अपनी समस्या बता सकता है। काॅल मिलने के बाद प्राथमिक के आधार पर उसका समाधान किया जाएगा। डीएम ने खाताधारकों को मास्क देते हुए कहा कि कपड़े से बने इस मास्क को रोजाना धोकर पांच घंटे धूप में सुखाकर ही पहने और इसे सुरक्षित स्थान पर रखें। उन्होने कहा कि लोगों से दो मीटर की दूरी बनाकर रखें, चेहरे को छूने से बचें और हाथों को दिन में कई बार साबुन से साफ करते रहें। जिलाधिकारी ने खाताधारकों को मीडिया प्रतिनिधियों के सहयोग से करीब 250 मास्क का वितरण किया। इस दौरान मजिस्ट्रेट राकेश शर्मा, सीओ सिटी राधारमण सिंह, जीतेन्द्र सिंह, अखिलेश्वर तिवारी, योगेन्द्र मिश्रा, कृष्ण कुमार तिवारी, रवि गुप्ता, आनंद मणि, अवधेश मणि तमाम साथी मौजूद रहे।

Read more

 

 

सेमरियावां (संतकबीरनगर)। दिल्ली से सीतापुर पहुंचे क्षेत्र के दो जमातियों के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर मिलते ही जहां प्रशासन पूरी तरीके से अलर्ट हो गया वही उनके परिवार के सदस्यों को तत्काल जिले पर स्थित आइसोलेशन वार्ड में क्वांरनटाइन कर दिया गया। बुधवार को उनके घरों और पृथक गांव में पूरी तरीके से सन्नाटा पसरा रहा लोगों में कोरोना संक्रमण का भय साफ देखा गया फिलहाल इन संक्रमित व्यक्तियों का कई माह से गांव में आना जाना नहीं हुआ हैं। धर्म परिवर्तन कर चुके क्षेत्र के बुडाननगर उर्फ मदाईन निवासी बृजमोहन उर्फ अब्दुल्लाह के कोरोना पॉजिटिव मिलते ही उसके घर व गांव में सन्नाटा पसर गया हैं। प्रधान प्रतिनिधि अब्दुल हकीम ने बताया कि बृजमोहन उर्फ अब्दुल्लाह ने लगभग चार साल पहले धर्म परिवर्तन करके इस्लाम धर्म को अपनाया लिया और लगभग चार माह पहले मदाईन से परसा सूरत जमात में चले गये और वही से फिर दिल्ली निजामुद्दीन मरकज की जमात में शामिल हुए जैसे ही मंगलवार को उनके कोराना पाजिटिव की सूचना मिली तत्काल चैकी इंचार्ज बाघनगर मनोज पटेल के साथ मिलकर उनके घर पहुंचे और उनके के घर से बेटे, बहू, एक नतिनी व दो नाती को सीएचसी सेमरियावां पर सूचना देकय 108 एम्बुलेंस की मदद से आइसोलेशन वार्ड में भेज दिया गया है और लोगो से निरंतर घरो में रहकर लाकडाउन का पालन करवाने के लिए कहा जा रहा हैं। इसी क्रम में क्षेत्र के पचदेउरी  निवासी गुफरान अहमद पुत्र गुलाम अली के सीतापुर में कोरोना पाजिटिव की सूचना मिलते ही  उनके घर में सन्नाटा पसर गया  परिवार के सदस्यों को तत्काल प्रशासन ने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया हैं। ग्राम प्रधान मंगरु राम ने बताया कि गुफरान मौजूदा वक्त सीतापुर में हैं वहीं से दिल्ली स्थित निजामुद्दीन मरकज पर जाकर जमात में शामिल हुआ। जैसे ही उसके कोरोना संक्रमित होने की सूचना मिली उनके परिवार से उनकी विधवा मां शैकुन्निसा बेटी जुबैदा खातून व सायमा खातून को प्रशासन की सहायता से आईसोलेशन वार्ड में भर्ती करा दिया गया हैं। उन्होंने बताया कि परिवार के दो और लड़के मुम्बई हैं जो लगभग एक साल से गांव में नहीं आये हैं। उनके पड़ोस के रहने वाले बबलू, अब्दुल, मुनीरूल हसन, वाले ने बताया कि आज सुबह फोन पर सुबह 8 बजें उनके परिवार के सदस्य से बात हुई थी उन्होंने वार्तालाप में उन्होंने बताया कि जबसे यहां आइसोलेशन वार्ड में आए हैं  हमारी कोई देख रेख नहीं हो पा रही हैं सही से खाना व पानी नहीं मिल पा रहा काफी दिक्कतें हो रही हैं।

Read more

 

 


-मीडिया प्रतिनिधियों के सहयोग से पुलिस अधीक्षक ने 200 खाताधारकों को वितरित किया मास्क
-मॉस्क लगाने व इस्तेमाल का सही तरीका जानना जरूरी, घर पर भी बनाया जा सकता है मॉस्क
बलरामपुर 13 अप्रैल। कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से आसानी से फैलता है। मॉस्क पहनने से किसी संक्रमित व्यक्ति से हवा में मौजूद थूक की बूंदों के माध्यम से कोरोना वायरस के स्वसन तंत्र में प्रवेश करने की सम्भावना कम रहती है। इसी को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार द्वारा घर से बाहर निकलने पर हर किसी को मॉस्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। इसका उल्लंघन करने पर कार्रवाई भी हो सकती है।
पुलिस अधीक्षक देव रंजन वर्मा ने ये बातें सोमवार को इलाहाबाद बैक की मण्डी शाखा पर रूपये निकालने आये खाताधारकों को कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क वितरित करते हुए कही। मीडिया प्रतिनिधियों द्वारा आयोजित मास्क वितरण के दौरान एसपी ने कहा कि पुलिस व स्वास्थ्य विभाग लोगों को बाहर निकलने पर मास्क लगाने और घर पर मास्क बनाने के बारे में जागरूक करने में जुट गया है। इसके प्रचार-प्रसार के लिए पोस्टर और पम्पलेट का भी सहारा लिया जा रहा है, जिसमें जिक्र है कि बाजार में मॉस्क न मिलने पर उसे आसानी से घर पर भी बनाया जा सकता है। इसके लिए मोटे फैब्रिक, काटन टी शर्ट या बनियान को परतों में काटकर मॉस्क बना सकते हैं। मोटा फैब्रिक होने से वह सुरक्षित रहेगा और उसे धोने में भी आसानी होगी। स्कार्फ या रुमाल को अगर मास्क की जगह इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसके भी भी दो-तीन फोल्ड कर लें ताकि कपड़े की परतें बनी रहें। इस दौरान एसपी व मीडिया कर्मियों ने बैक में रूपये निकाले आईं महिलाओं सहित करीब 200 खाताधारकों को मास्क का वितरण कराया। इस दौरान मंडी समिति व भगवतीगंज में तैनात मजिस्ट्रेट राकेश सिंह, चैकी इंचार्ज राज कुमार यादव, ग्राम प्रधान महेश मिश्रा, योगेन्द्र त्रिपाठी, कृष्ण कुमार तिवारी, रवि गुप्ता, आनंद मणि तिवारी सहित तमाम लोग मौजूद रहे।
-दोबार इस्तेमाल से पहले अच्छे से धोएं कपड़े का मास्क
कोरोना के नोडल डा. ए.के. सिंघल ने बताया मास्क को साबुन और गरम पानी में अच्छे से धोएं और इसे धूप में कम से कम पांच घंटे तक सूखने दें ।यदि धूप उपलब्ध नहीं है तो मास्क को प्रेशर कुकर में पानी डालें और इसे कम से कम 10 मिनट तक उबालें और सूखने दें। पानी में नमक डालना बेहतर रहेगा। प्रेशर कुकर न होने पर कपड़े के मास्क को 15 मिनट तक गर्म पानी में उबाल सकते हैं। परिवार के हर सदस्य के पास कम से कम दो मास्क होने चाहिए ताकि एक को पहन सकें और दूसरे को धोकर सुखा सकें। ध्यान रहे अपने मास्क को किसी से भी शेयर न करें। जिस प्लास्टिक बैग में मास्क रखें उसे भी साबुन-पानी से ठीक से धोकर सुखा लें उसके बाद मास्क रखकर सील कर दें।
-इन बातों का रखें ख्याल
मॉस्क को पहनने से पहले हाथों को अच्छी तरह से धोएं। सुनिश्चित करें कि मॉस्क चेहरे पर अच्छी तरह से फिट हो तथा किनारों से कोई गैप न हो। मॉस्क के सामने की सतह को न छुएँ, उतारते समय इसे पट्टी की तरफ से पीछे से निकालें। हमेशा पट्टी को नीचे और उसके बाद ऊपर की तरफ से खोलें। उतारने के बाद मॉस्क को तुरंत साबुन के घोल या उबलते पानी में डालें। मॉस्क को हटाने के बाद हाथों को 40 सेकण्ड तक साबुन व पानी से धोएं या तो अल्कोहल वाले सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें।
-बरतें सावधानी
मॉस्क तभी प्रभावी हो सकते हैं जब उन्हें इस्तेमाल करने के साथ-साथ बार-बार साबुन और पानी से 40 सेकण्ड तक हाथ धोया जाए। हर समय दूसरे व्यक्ति से दो मीटर की दूरी बनाकर रखें। बाहर से घर आने पर हाथों को अच्छे से धोएं तथा अपने चेहरे या आँख को न छुएँ।


 

 

Read more

 

 

गोरखपुर -बीआरडी मेडिकल कॉलेज में कोरोना संक्रमण की जांच अब कोबास मशीन से हो सकेगी। इस मशीन से 24 घंटे में एक हजार नमूनों की जांच होती है। शासन ने इसकी अनुमति दे दी है। जून के प्रथम सप्ताह में इसके पहुंचने की उम्मीद है।

प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने बताया कि कोरोना संक्रमण की जांच में तेजी लाने के लिए यह मशीन मंगाई जा रही है। मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए आइसीयू को 20 बेड से बढ़ाकर 40 बेड का कर दिया गया है। 31 सिलेंडर लगाकर पाइप लाइन से ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। इसके अलावा 250 सिलेंडर कॉलेज के पास अतिरिक्त हैं, जिनका उपयोग इमरजेंसी में किया जा सकता है। गीडा स्थित एक कंपनी ने आश्वस्त किया है कि आवश्यकता पडऩे पर पर्याप्त सिलेंडर की आपूर्ति हो जाएगी।

कोरोना वार्ड में दो की हालत गंभीर

मेडिकल कॉलेज के कोरोना वार्ड में 62 मरीज भर्ती है। इनमें दो की हालत गंभीर है। प्रतिदिन लगभग पांच सौ नमूनों की जांच हो रही है। प्राचार्य के अनुसार 40 फीसद मरीज ठीक हो रहे हैं।

Read more

 

 


- अनुभव के आधार पर तय होगा-लोगों को कितने दिनों में हुआ फायदा
- आयुष मंत्रालय की सभी एडवाइजरी से भी लैस है संजीवनी एप
बलरामपुर 18 मई । कोरोना वायरस यानि कोविड-19 से लोगों की रक्षा करने में अग्रणी भूमिका निभा रहा आयुष मंत्रालय अब आयुष संजीवनी एप लेकर आगे आया है। इस एप में जहाँ आयुष मंत्रालय की सभी एडवायजरी हैं वहीं इसमें लोगों के सवाल-जवाब का भी प्रावधान किया गया है। इन्हीं सवाल-जवाब के आंकड़ों के आधार पर यह तय होगा कि आयुष मंत्रालय की सलाह लोगों के लिए कितनी फायदेमंद साबित हो रही है। लोग इस एप पर अपने अनुभव साझा कर सकेंगे कि वह आयुष मंत्रालय की सलाह को कब से अपना रहे हैं और कितने दिनों में फायदा हुआ। इसके अलावा किन दिशा-निर्देशों के पालन से ज्यादा लाभ हुआ।
क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी डा. दिग्विजयनाथ ने सोमवार को बताया सरकार का प्रयास है कि इस एप का ज्यादा से ज्यादा प्रचार-प्रसार हो ताकि और लोग इसका फायदा उठाकर निरोगी काया पा सकें। भारत में पारंपरिक चिकित्सा का लम्बा इतिहास रहा है और आयुर्वेद के क्षेत्र में अग्रणी होने के नाते आयुष मंत्रालय, आयुष प्रणालियों के नैदानिक अध्ययन के माध्यम से देश में कोरोना वायरस यानि कोविड-19 की समस्या का समाधान करने के लिए काम कर रहा है। इन्हीं आयुर्वेद से जुड़ीं पद्धतियों पर क्लिनिकल रिसर्च स्टडीज और आयुष संजीवनी एप की शुरुआत की गयी है। यह एप कोविड की रोकथाम के लिए आयुष चिकित्सा प्रणालियों के उपयोग की स्वीकृति और लोगों के बीच इसके प्रभावों से आंकड़े जुटाने में उपयोगी साबित होगा । मंत्रालय लोगों के बीच कोविड की रोकथाम के लिए आयुष प्रभाव का भी आकलन कर रहा है ।
-एप के जरिये 50 लाख लोगों के आंकड़े जुटाने का लक्ष्य
आयुष संजीवनी एप के जरिये देश भर के 50 लाख लोगों के अनुभवों के बारे में आंकड़े जुटाने का लक्ष्य तय किया गया है। यह आंकड़े कोविड-19 की रोकथाम के लिए आयुष चिकित्सा प्रणालियों के उपयोग की स्वीकृति और लोगों के बीच इसके प्रभावों के आकलन में उपयोगी साबित होंगे।
-जनसंख्या आधारित पारम्परिक अध्ययन पर जोर
आयुष मंत्रालय उच्च्च जोखिम वाली आबादी में कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम में आयुर्वेदिक दवाओं के प्रभाव का अध्ययन करने के लिए जनसंख्या आधारित अध्ययन भी शुरू करने जा रहा है। इससे निवारक क्षमता का पता चल सकेगा। देश में आयुष मंत्रालय के अनुसंधान परिषदों, राष्ट्रीय संस्थानों व कई राज्यों के माध्यम से यह अध्ययन किया जाएगा। इसके तहत पांच लाख की आबादी को कवर करने की योजना है। यह अध्ययन रिपोर्ट कोविड-19 के उपचार में आयुष पद्धति की क्षमताओं के आकलन के लिए वैज्ञानिक सबूतों के आधार पर अवसरों के नए द्वार खोलेगी।
-कोरोना से बचने के लिए आयुष मंत्रालय की सलाह
दिन में बार-बार गुनगुना पानी पिएं। रोजाना 30 मिनट तक योगा करें। भोजन में हल्दी, जीरा, धनिया और लहसुन का इस्तेमाल करें। एक चम्मच या 10 ग्राम च्यवनप्राश का हर रोज सेवन करें। दिन में एक-दो बार हर्बल चाय/काढ़ा पियें। दिन में एक या दो बार हल्दी वाला दूध पियें। तिल या नारियल का तेल या घी सुबह-शाम नाक के छिद्रों में लगायें। एक चम्मच नारियल या तिल का तेल को मुंह में लेकर इधर-उधर घुमाएँ और गुनगुने पानी के साथ कुल्ला करें (थूक दें)। गले में खरास या सूखा कफ हो तो पुदीने की पत्तियां व अजवाइन को गर्म कर भाप लें। गुड़ या शहद के साथ लौंग का पाउडर मिलाकर दिन में दो-तीन बार खाएं।

Read more

 

-नाखूनों के बीच जमी मैल में हो सकता है अदृश्य शत्रु
-इस वक्त हर कदम पर सजगता ही सबसे बड़ा हथियार
बलरामपुर 14 मई । कोरोना वायरस यानि कोविड-19 के खिलाफ जंग में सजगता ही हमारा सबसे बड़ा हथियार है। लड़ाई जब एक अदृश्य और अनजान वायरस के खिलाफ चल रही हो तो हमें हर एक छोटे-बड़े मोर्चों पर सतर्क रहना होगा तभी हम खुद के साथ घर-परिवार और समुदाय को सुरक्षित रख सकेंगे । इसलिए आपको यह भी पता होना चाहिए कि आपके नाखूनों के बीच जमा मैल में भी कोरोना वायरस या बैक्टीरिया हो सकते हैं जो कि खाते-पीते समय मुंह के रास्ते पेट तक पहुँच सकते हैं और इस लड़ाई में आपको कमजोर कर सकते हैं।
स्वास्थ्य विभाग द्वारा जहाँ इस मुश्किल दौर में हर किसी को सुरक्षित बनाने को लेकर तरह-तरह की अपील की जा रही है वहीं इस बारे में भी जागरूक किया जा रहा है कि अगर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचना है तो नाखूनों को छोटा रखें। इस बारे में कोरोना वायरस के नोडल अफसर व एसीएमओ डॉ. ए.के. सिंद्यल का कहना है कि हमारे नाखूनों के बीच मैल (गंदगी) बड़े आसानी से जमा हो जाती है। इस मैल में वायरस या बैक्टीरिया भी हो सकते हैं। इसलिए नाखून को छोटा रखें और हाथ अच्छी तरह से धोएं। बहुत से लोगों की आदत नाखूनों को चबाने की होती है, जो कि बहुत ही नुकसानदायक साबित हो सकती है, उससे तौबा करने में ही भलाई है। कोरोना वायरस को पूरी तरह से मात देने वाली वैक्सीन जब तक नहीं मिल जाती तब तक तो हमें इन्हीं छोटी-छोटी बातों का ख्याल रखते हुए सजगता के साथ लड़ाई लड़नी है।
बाहर निकलें, तो बरतें जरूरी सावधानी
-साबुन-पानी से बार-बार अच्छी तरह से हाथ धुलें।
-बाहर निकलें तो मास्क, गमछा या रूमाल से मुंह ढकें।
-सार्वजानिक स्थलों पर दो गज दूर से ही लोगों से मिलें।
-नाक, मुंह व आँख को अनावश्यक रूप से छूने से बचें।

Read more

 

 


- बच्चों पर जी भरकर लुटाती हैं ममता
- नर्सेज डे (12 मई) पर विशेष
श्रावस्ती, 12 मई। जिला अस्पताल के स्पेशल न्यूबॉर्न केयर यूनिट में विशेष नवजात शिशुओं पर पहले उनकी खास मांएं ही ममता लुटाती हैं। हम बात कर रहे हैं यहां पर तैनात स्टाफ नर्सों की, जो चौबीसों घंटे मां की भूमिका में रहकर नवजातों की देखभाल करती रहती हैं। इन बच्चों की किलकारियां यहां की स्टाफ नर्सों के चेहरों की मुस्कान को बढ़ा देती है। यहां पर वर्तमान में कुल 11 स्टाफ नर्स तैनात हैं। कहने को तो यह यहां पर अपनी ड्यूटी करती हैं, लेकिन यह ड्यूटी कब ममता और अपनत्व में बदल जाती है, इन्हें खुद ही पता नहीं चलता है।
समय से पूर्व जन्म लेने वाले अथवा अस्वस्थ नवजातों को पूरी तरह से स्वस्थ करने की जिम्मेदारी इनके कंधों पर होती है। इन बच्चों के रोने की आवाज सुनकर दौड़ी चली आती हैं, और बच्चों पर जी भरकर प्यार लुटाती हैं। यह नर्सें तब तक मां की भूमिका निभाती हैं, जब तक यह नवजात पूरी तरह से स्वस्थ होकर अपनी मां के आंचल में नहीं चले जाते हैं। यहां ऐसे बच्चे रखे जाते हैं जिनका जन्म नौ माह से पहले हुआ हो अथवा उनका वजन कम हो। इन नर्सों के सामने इस बात की चुनौती होती है कि समय से पूर्व जन्में बच्चे को किस तरह से स्वस्थ बनाया जाए। संकट की इस घड़ी में उसके साथ उसे जन्म देने वाली मां अथवा परिवार का कोई दूसरा सदस्य भी नहीं होता है। ऐसे में यह नवजातों को ट्यूब फीडिंग, स्पून फीडिंग या फॉर्मूला फीडिंग कराती हैं। यहां के प्रभारी डॉ. इमरान कहते हैं कि इन नर्सों के कामों को बेहद करीब से देखा है। यह अपने दायित्वों को सिर्फ ड्यूटी समझकर नहीं बल्कि एक मां के रूप में पूरा करती हैं।
इस यूनिट की शुरूआत अप्रैल 2016 में हुई थी। अब तक यहां पर 6,112 बच्चे भर्ती किए जा चुके हैं। वर्ष 2019 में यहां पर 1,394 बच्चे भर्ती हो चुके हैं। यूनिट के प्रभारी स्टाफ नर्स रमेश सिंह हैं। यहां पर तैनात मेनका सिंह, पार्वती देवी, हुमा इफ्तदार, योगिता पाठक, रिंकी कनौजिया, आकांक्षा गुप्ता, स्वर्ण लता विश्वकर्मा बच्चों पर जी भरकर ममता उड़ेलती हैं। इसके अलावा यहां पर शैलेंद्र यादव, अजय उपाध्याय, राकेश वर्मा भी इन बच्चों के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हैं। महिला स्टाफ नर्सों का कहना है कि इन नवजातों की देखभाल करना एक बड़ी चुनौती होती है। इनकी देखभाल करते करते जुड़ाव बहुत ज़्यादा हो जाता है। बच्चों को तब तक नहीं छोड़ते हैं जब तक उनका वजन 1500 ग्राम से ज़्यादा न हो जाए। इन शिशुओं के साथ जुड़ाव काफी अच्छा लगता है। बच्चे जब कई कई दिन रह लेते हैं तो काफी जुड़ाव हो जाता है। भेजते वक्त मन भर आता है।

Read more

 


सुलतानपुर---जिलाधिकारी सी इंदुमती ने अवगत कराया है कि बलबीर चौरसिया उम्र लगभग 40 वर्ष पुत्र राममूर्ति चौरसिया निवासी ग्राम राजा उमरी विकासखंड व तहसील लंभुआ जो विगत चार-पांच माह से मुंबई के अंधेरी वेस्ट में रह रहे थे दिनांक 28-4 -2020 को मुंबई से अपनी यात्रा प्रारंभ कर दिनांक 1 मई 2020 को अपने ग्राम राजा उमरी पहुंचे थे दिनांक 2-5 -2020 को फैसिलिटी क्वॉरेंटाइन सेंटर फरीदीपुर में क्वॉरेंटाइन किया गया दिनांक 3:05 2020 को इनका सैंपल लिया गया तथा आज दिनांक 6 मई 2020 को रात्रि में जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई जिसमें बलबीर चौरसिया को एसजीपीजीआई लखनऊ की लैबरिपोर्ट के आधार पर कोविड - 19 पॉजिटिव पायागया परंतु कोविड 19 के कोई भी लक्षण नहीं है उक्त पाए गए कोविद 19 पॉजिटिव केस को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कुड़वार में निर्मित L1 हॉस्पिटल में शिफ्ट कर समुचित इलाज किया जा रहा है इस प्रकार जनपद में चौथा को कोरोना पाया गया ग्राम राजा उमरी तहसील लंभुआ के 1 किलोमीटर क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए सील करने की कार्यवाही की जा रही है समस्त जनपद वासियों से अपील की जाती है कि कोरोना वायरस 19 के बचाव के जो भी उपाय बताए गए हैं उन्हें अपनाते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करें ताकि हम सब जनपद वासी कोरोना वायरस के संक्रमण से बच सकें सतर्क रहें अपने घर में रहें सुरक्षित रहें

Read more

 

सिद्धार्थ नगर।आज मंगलवार को जिले में दस कोविट 19 से संक्रमित मिलने से स्वास्थय विभाग में हड़कंप मच गया है। पिछले चार दिन पहले दो पाज़िटिव मरीज मिले थे। उसके बाद क्वारेंटीन में रह रहे जिले के 295 नमूनों की जांच भेजी गई थी जिसमें दस की रिपोर्ट पॉजिटिव आईं है। यह सभी सदर तहसील के गंगा इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में क्वारंटाइन हैं। इन्हें बर्डपुर सीएचसी में बने एल-वन सेंटर में भेजा जा रहा है। इसके पहले दो और पॉजिटिव मिले थे, जिसमें से एक इसी स्कूल में क्वारंटाइन था। दूसरा बाँसी तहसील के महामाया आईटीआई में मिला था। इन दोनों का इलाज संतकबीर नगर में हो रहा है। इस तरह से कुल पॉजिटिव की संख्या 12 हो गई है। रिपोर्ट मंगलवार आई है।
तीन दिनों में लगभग 300 लोगों का सेंपल लिया गया है। जिसमें 205 का सेंपल आयुर्विज्ञान अनुसंधान केंद्र में जांच के लिए भेजा गया था। यहां दस के पॉजिटिव की पुष्टि हुई है। शेष 90 की जांच किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय लखनऊ में भेजा गया है। इनमें 80 की रिपोर्ट आ गई है। सभी निगेटिव मिले हैं। दस की जांच रिपोर्ट आनी है। जानकारी मिलते ही प्रशासन में हड़कंप की स्थिति है।

Read more

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

बलरामपुर 29 अप्रैल। कोरोना यानि कोविड-19 के सुपर हीरो वायरस के हर हमले को नाकाम करने की पूरी ताकत रखते हैं। इसलिए जब तक सुपर हीरो का साथ है तब तक आपको बहुत चिंता करने की जरूरत नहीं हैं, सिर्फ जरूरत उनके सही तरीके से इस्तेमाल करने की है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा भी इन्हीं सुपर हीरो पर फोकस किया जा रहा है।
कोरोना वायरस के नोडल व एसीएमओ डा. ए.के. सिंघल ने बुधवार को ये जानकारी देते हुए बताया स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने भी इन तीनों सुपर पावर के साथ चलने की बात की है और “मिलिए कोविड-19 के सुपर हीरो से” नाम से एक पोस्टर भी जारी किया है, जिसमें साबुन, मास्क और अल्कोहल आधारित हैण्ड सैनिटाइजर को इस वायरस का सही मायने में मुकाबला करने वाले सुपर हीरो के रूप में प्रदर्शित किया गया है।
कोविड 19 के पहले सुपर हीरो साबुन को महत्वपूर्ण बताया गया है। इसके जरिये यह सन्देश दिया जा रहा है कि कोरोना के संक्रमण से सुरक्षित रहना है तो साबुन और पानी से बार-बार अच्छी तरह से हाथ धोएं। बाहर से जब भी घर के अंदर आयें तो हाथों को अच्छी तरह से धोना कतई न भूलें। नाक, मुंह व आँख को न छुएं।
कोविड-19 के दूसरे सुपर हीरो मास्क को भी संक्रमण से खुद बचने और दूसरों को बचाने के लिए बहुत ही आवश्यक बताया गया है। कोरोना का वायरस खांसने व छींकने से निकलने वाली बूंदों के संपर्क में आने से दूसरे व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है, इसलिए खांसते या छींकते समय नाक व मुंह को ढककर रखें। मास्क को आसानी से घर पर भी बनाया जा सकता है और अच्छी तरह से धुलकर दोबारा भी इस्तेमाल किया जा सकता है। मास्क की जगह पर रूमाल, गमछा या स्कार्फ को दो-तीन परत कर इस्तेमाल किया जा सकता है ।
कोविड-19 के तीसरे सुपर हीरो अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर भी कोरोना की जंग में अहम भूमिका निभा रहे हैं। कोरोना को फैलने से रोकने के साथ ही कीटाणुओं को खत्म करने और खुद को सुरक्षित रखने में इनका इस्तेमाल बहुत ही प्रभावी है। इन तीनों सुपर हीरो को अतिरिक्त ताकत सोशल डिस्टेंशिंग के पूर्ण पालन से मिलती है। इस तरह कोरोना से जंग में इन सभी का सही से इस्तेमाल करिए और अपने साथ अपनों को सुरक्षित रखिये।
-कंट्रोल रूम व हेल्पलाइन में दें जानकारी
कोरोना वायरस महामारी के लिए जिला प्रशासन द्वारा 24 घंटे के लिए कंट्रोल रूम बनाये गये हैं जिसमें काॅल करके आप कोरोना वायरस संबंधी कोई भी जानकारी दे सकते हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में स्थापित कंट्रोल रूम का नम्बर 7880831068 व 7081224641, पुलिस अधीक्षक कार्यालय में कंट्रोल रूम का नम्बर 9454417381 व 8957422023 व कलेक्ट्रेट में कोरोना रोकथाम व नियंत्रण के लिए इन्टीग्रेटेड कंट्रोल रूम का नम्बर 05263-232046, 05263-236250 जारी किया गया है। प्रदेश सरकार के हेल्पलाइन नंबर 18001805145 पर भी संपर्क कर सकते हैं।

Read more

 

 

कोरंटीन सेंटर में मौजूद 49 लोगों की होगी जांच
-डीएम व एसपी ने पचपेड़वा पहुंचकर कोरंटीन सेटर का लिया जायजा, युवक से की बात

-ड्यूटी में लगे सभी पुलिस, स्वास्थ्यकर्मियों व चिकित्सकों को विशेष सर्तकता बरतने के निर्देश

 


बलरामपुर। कोरंटीन सेंटर में आये व्यक्ति की जांच रिपोर्ट आने पर जिले में पहले कोरोना पाॅजिटिव मरीज का केस सामने आया है। मामला सामने आते ही स्वास्थ्य विभाग ने एडवाइजरी जारी कर जिले में सभी लोगों को सर्तकता बरतने के निर्देश दिये है। डीएम एसपी ने मौके पर पहुंचकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मरीज से बात की। मरीज में पहले से कोरोना वायरस के कोई लक्षण नहीं थे। विभाग अब कोरंटीन सेंटर में मौजूद सभी लोगों के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजेगा।
गुरूवार को जिले में पहला कोरोना पाॅजिटिव मरीज मिलने का मामला सामने आया है। यहां पर पचपेड़वा थाना क्षेत्र का रहने वाला 23 वर्षीय युवक 18 अप्रैल को अपने दो साथियों के साथ 10 अप्रैल को मुम्बई से पैदल व अन्य साधनों से वाया सिद्धार्थनगर जिले के बढ़नी, इटवा और बिस्कोहर होकर 18 अप्रैल को बलरामपुर आया था। इससे पहले तीनों सिद्धार्थनगर जिले के अलफारूक इंटर काॅलेज इटवा में 15 से 17 अप्रैल तक रहे। इनके जिले में प्रवेश करने से पहले बलरामपुर-सिद्धार्थनगर बार्डर पर थर्मल स्कैनिंग भी हुई थी। जब वे 18 अप्रैल को अपने गांव पहुंचे तो तीनों को गांव के बाहर स्थित प्राथमिक विद्यालय पर रखा गया और उसी दिन तीनों को पचपेड़वा के फजले रहमानिया इंटर कालेज में बने कोरंटीन सेंटर में रखा गया। मुम्बई जैसे अति संवेदनशील स्थान से आने के कारण 19 अप्रैल को तीनों के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजे गये थे जिसमें से 23 अप्रैल को मिली रिपोर्ट में एक युवक पाॅटिटिव निकला है जबकि युवक में कोरोना के कोई भी लक्षण नहीं दिख रहे थे। कोरोना पाॅजिटिव मिलने पर डीएम कृष्णा करूणेश, एसपी देव रंजन वर्मा व एसीएमओ डा. बी.पी. सिंह ने कोरंटीन सेंटर पहुंचकर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कोरोना पाॅजिटिव मरीज से बात की और उसे सांत्वना दी कि वो 14 दिन बाद ठीक होकर अपने घर जा सकेगा। एसपी ने पचपेड़वा थाने में पहुंचकर क्षेत्र में ड्यूटी में लगे सभी पुलिस व प्रशासनिक कर्मचारियों को विशेष सर्तकता बरतने के निर्देश दिये और उन्हे बताया कि मरीज मिलने के बाद अब उन्हे क्या सावधानियां बरतनी है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग अब युवक की ट्रैवल हिस्ट्री व सम्पर्क में आये लोगों का डाटा खंगालने में जुट गया है। कोरंटीन सेंटर के एक किलोमीटर सेंसिटिव जोन और दो किलोमीटर बफर जोन का सील कर दिया गया है। सेंटर में रह रहे सभी 49 लोगों के सैम्पल लेकर जांच कराई जाएगी। मरीज को प्रोटोकॉल के अनुसार कोविड-19 पॉजिटिव व्यक्ति को एल-1 हॉस्पिटल में भर्ती किया जा रहा है। मरीज के सम्पर्क जिस भी जिले के मिलेंगे उस जिले को सूचित किया जाएगा।

Read more

 

 


- हाथ और होठों के संपर्क से संक्रमण फैलने का खतरा
- रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी करता है कमजोर
- धूम्रपान का सीधा असर स्वसन प्रणाली व फेफड़ों पर
बलरामपुर 20 अप्रैल। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की चपेट में आने से बचना है तो धूम्रपान से तौबा करने में ही भलाई है। बीड़ी-सिगरेट संक्रमित हो सकते हैं और उँगलियों व होंठों के संपर्क में आकर वह आसानी से संक्रमण फैला सकते हैं। हालाँकि सरकार ने सिगरेट व अन्य तम्बाकू उत्पादों की बिक्री पर रोक लगा रखी है, फिर भी लोग चोरी-चुपके इसका इस्तेमाल कर अपनी जान को जोखिम में डालने से बाज नहीं आ रहे हैं। इन उत्पादों का सेवन कर इधर-उधर थूकने से भी संक्रमण का खतरा था, इसलिए सरकार ने खुले में थूकने पर भी रोक लगा रखी है, इसका उल्लंघन करने पर दण्ड का प्रावधान भी किया गया है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने सोमवार को बताया कि धूम्रपान से व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है, जिसके चलते कोरोना जैसे वायरस सबसे पहले ऐसे लोगों को ही अपनी चपेट में लेते हैं। इसके अलावा बीमारी की चपेट में आने पर ऐसे लोगों के इलाज पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। यही कारण है कि धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों को कोरोना का खतरा कई गुना अधिक रहता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी बाकायदा दिशा-निर्देश जारी कर धूम्रपान से कोरोना की जद में आने के खतरे के बारे में सचेत कर चुका है।
एसीएमओ व कोरोना के नोडल अफसर डा. ए.के. सिंघल का कहना है कि बीड़ी-सिगरेट ही नहीं बल्कि अन्य तम्बाकू उत्पादों के साथ ही हुक्का, सिगार, ई-सिगरेट भी कोरोना वायरस के संक्रमण को फैला सकते हैं, इसलिए अपने साथ ही अपनों की सुरक्षा के लिए इनसे छुटकारा पाने में ही भलाई है । कोरोना का वायरस छींकने, खांसने और थूकने से निकलने वाली बूंदों के जरिये एक दूसरे को संक्रमित करता है। इसीलिए प्रदेश में खुले में थूकने को दंडनीय अपराध की श्रेणी में शामिल कर दिया गया है। इसके अलावा धूम्रपान से श्वसन प्रणाली, सांस की नली और फेफड़ों को भारी नुकसान पहुँचता है। यही कारण है कि फेफड़ों की कोशिकाएं कमजोर होने से संक्रमण से लड़ने की क्षमता अपने आप कम हो जाती है।

Read more

 


जनपद बदायूं मे कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने एक नाई से बाल कटवाया अब उस नाई को क्वारेंटाइन किया गया।
जालंधरी सराय के संक्रमित युवक ने क्वारटीन होने के एक नाई से बाल कटवाए थे, अब नाई का सैंपल भेजा गया है। साथ ही उसके परिवार को होम क्वारंटीन किया गया है। चिंता की बात ये है कि नाई ने 70 अन्य लोगों के भी बाल और शेविंग की है।

दिल्ली से लौटा युवक कोरोना संक्रमित मिल जाने के बाद शहर के जालंधरी सराय और आसपास के एरिया सील कर दिया गया है। जालंधरी सराय मुहल्ला का जो युवक संक्रमित मिला है वह अपने भाई के साथ दिल्ली के सीलमपुर मुहल्ले में टेलरिंग का काम करता था। जनता कर्फ्यू के अगले ही दिन दोनों घर आ गए थे। जिसके बाद उन्हें होम क्वारंटीन कर दिया गया। लेकिन लापरवाह युवक और उसका भाई न सिर्फ आस पडोस में घूमते रहे बल्कि सैम्पल लेने के दो दिन बाद एक पड़ोसी नाई की दुकान पर जाकर बाल भी कटवा आए।

कोरोना संक्रमित युवक का सैंपल लेने के दो दिन बाद उसने मोहल्ले की दुकान में शेखूपुर निवासी एक नाई से बाल कटवाए थे। अब युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद नाई का भी सैंपल लिया गया है। उझानी सीएचसी के चिकित्साधीक्षक डॉ. सुयश दीक्षित ने आज सुबह स्वास्थ्य कर्मियों की टीम भेजकर एंबुलेंस के जरिए उसे जिला अस्पताल के कोरोना वार्ड में भर्ती करा दिया। जहाँ उसका सैंपल लिया गया। चिकित्साधीक्षक ने बताया कि उसके परिवार में पत्नी, दो बच्चों सहित एक बहन को होम क्वारंटीन किया गया है। उन्होंने बताया कि नाई ने 70 लोगों के बाल और शेविंग की हैं। आगे की कार्यवाही नाई की कोरोना रिपोर्ट पर निर्भर होगी, हालाँकि नाई के सम्पर्क में आए लोगों में वो मुश्किल से 10 लोगों को ही जानता है।

Read more

 

 

 

सेमरियावां /संतकबीरनगर। टयूटर पर अनुरोध के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहल करते हुए कोटा राजस्थान से विद्यार्थियो को प्रदेश के विभिन्न जनपदो में वापस बुलाने का पहल शुरू कर दिया है। उनके आदेश के क्रम में हाथरस डिपो से रविवार को जनपद में 81 बच्चों का दल वापस आया। सर्वप्रथम जिला प्रशासन ने उन्हे खलीलाबाद कोतवाली क्षेत्र के इण्डस्ट्रियल एरिया स्थित एक विद्यालय के निकट उतरवाया। उनके स्वास्थ्य का चेकअप कराकर विद्यालय में शिफ्ट किया गया। इसी क्रम में सेमरियावा प्रतिनिधि के अनुसार रविवार के दिन कौशांबी से आए दो मजदूरों की सीएचसी सेमरियावां से जांच के बाद प्राथमिक विद्यालय पर 14 दिन के लिए कवारनटाइन किया गया। सेमरियावां निवासी निजामुद्दीन पुत्र अली रजा ने बताया कि कौशांबी से 16 अप्रैल को शफीकुउर्रहमान के साथ घर के लिए निकला था। 150 किमी की पैदल यात्रा की। कई स्थानों पर पुलिस की मदद से ट्रक आदि से यात्रा करके सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, फैजाबाद, बस्ती से होते हुए रविवार को घर पहुंचा। हमारे साथ चार लोग थे। दो सिद्धार्थनगर जनपद के थे जो बस्ती से अपने जनपद के लिए चले गए। शफीकउर्रहमान को प्रधान सेमरियावां वकील अहमद की मदद से उसके नाना के गांव करमा खान भेज दिया गया। सेमरियावा निवासी शिव कुमार पुत्र घनश्याम जो प्रयागराज से आया है पिछले चार दिन से स्कूल पर कवारनटाइन में रह रहा है। रविवार को प्रधान वकील अहमद पूर्व माध्यमिक विद्यालय सेमरियावा के अध्यापक जफीर अली व मेहताब अहमद ने इन मजदूरों के लिए स्कूल पर पहुंचकर व्यवस्था की। घर पहुंचकर मजदूरों ने राहत की सांस ली।

Read more
हीमोफीलिया दिवस पर विशेष_रिपोर्ट-रवि गुप्त

हीमोफीलिया दिवस पर विशेष_रिपोर्ट-रवि गुप्त

 

 


मसूढ़े से लगातार खून बहे तो हो जाएं सावधान, हो सकता है हीमोफीलिया
-हीमोफीलिया रक्तस्राव संबंधी अनुवांशिक बीमारी, प्रदेश के 26 केन्द्रों पर होता है हीमोफीलिया का इलाज
बलरामपुर 18 अप्रैल। यदि आपके बच्चे के दूध के दांत टूटने एवं नये दांत निकलते समय मसूढ़े से लगातार खून बह रहा हो। तो सावधान हो जाएं यह हीमोफीलिया के लक्षणों में से एक है। हीमोफीलिया रक्तस्राव संबंधी एक अनुवांशिक बीमारी है। इससे ग्रसित व्यक्ति में लम्बे समय तक रक्त स्राव होता रहता है। यह खून में थक्का जमाने वाले आवश्यक फैक्टर के न होने या कम होने के कारण होता है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने शनिवार को बताया कि हीमोफीलिया दिवस हर वर्ष 17 अप्रैल को मनाया जाता है। हीमोफीलिया रक्तस्राव चोट लगने या अपने आप भी हो सकता है। मुख्यतः रक्तस्राव जोड़ो, मांसपेशियों और शरीर के अन्य आंतरिक अंगों में होता है और अपने आप बन्द नहीं होता है। यह एक असाध्य जीवन पर्यन्त चलने वाली बीमारी है लेकिन इसको कुछ खास सावधानियां बरतने से और हीमोफीलिया प्रतिरोधक फैक्टर के प्रयोग से नियंत्रित किया जा सकता है। भारत में लगभग 80,000 से 100,000 लोग हीमोफीलिया से ग्रसित हैं इसमें से अब तक करीब 18,500 की पहचान ही हो पायी है। हीमोफीलिया के इलाज कि सुविधा प्रदेश के 26 स्वास्थ्य केन्द्रों पर उपलब्ध है।
-हीमोफीलिया के लक्षण
यदि प्रसव के समय नाभि की नाल, माँस से अलग करने पर लम्बे समय तक लगातार रक्तस्राव होता है। यदि बच्चे के शरीर पर किसी भी जगह नीले या काले दाग पड़ जाते हैं और महीने या उससे अधिक समय तक रहते हैं। यदि बच्चे के दूध के दांत टूटने एवं नये दांत निकलने की प्रक्रिया में मसूड़े से लगातार रक्तस्राव होता है। यदि बच्चे के किसी भी जोड़ में सूजन आ जाती है और वह रक्त अथवा फ्रेश फ्रोजन प्लाज्मा देने से ठीक हो जाती है। तो यह सभी लक्षण बच्चे के हीमोफीलिया से ग्रसित होने की प्रबल सम्भावना को दर्शाते हैं। हीमोफीलिया के रोगी के जोड़ो में सूजन के साथ अक्सर दर्द का होना असल में उसके जोड़ में आन्तरिक रक्तस्राव होना है यदि यह सूज नया आन्तरिक रक्तस्राव जोड़ो में बार-बार होता है तो वह जोड़ों को विकृत बना देता है और उस जोड़ को बेकार कर देता है। इस तरह रोगी में विकलांगता की शुरुआत हो जाती है। इसके अतिरिक्त यदि यह रक्तस्राव रोगी की आंतों में अथवा दिमाग के किसी हिस्से में शुरू हो जाये तो यह जान लेवा भी हो सकता है। इसका इलाज तुरन्त अथवा जल्द से जल्द होना अति आवश्यक है।
-हीमोफीलिया के प्रकार
यदि हीमोफीलिया रोगी के रक्त में थक्का जमाने वाले फैक्टर VIII की कमी हो तो इसे हीमोफीलिया ए कहते है। यदि रक्त में थक्का जमाने वाले फैक्टर IX की कमी हो तो इसे हीमोफीलिया बी कहते है। इस प्रकार मरीज को जिस फैक्टर की कमी होती है वह इंजेक्शन के जरिये उसकी नस में दिया जाता है। जिससे रक्तस्राव रूक सके, यही हीमोफीलिया की एक मात्र औषधि है। रक्त जमाने वाले फैक्टर अत्यधिक महंगे होने के कारण अधिकांश मरीज इलाज से वंचित रह जाते हैं। हीमोफीलिया से ग्रस्त व्यक्तियों को सही समय पर इंजेक्शन लेना, नित्य आवश्यक व्यायाम करना, रक्त संचारित रोग (एचआईवी, हीपाटाइटिस बी व सी आदि) से बचाव, दांतों की सुरक्षा के बारे में शिक्षित करना ही हीमोफीलिया से बचाव का उपाए है।

Read more

 

 

बलरामपुर 17 अप्रैल। कोरोना वायरस का अभी तक कोई इलाज नहीं है सिर्फ इससे बचाव कर अपने आप को सुरक्षित रखा जा सकता है। इसलिए जरूरी है कि आप घर पर ही रहें।बहुत जरूरी काम हो तभी घर से बाहर निकलें। जिला प्रशासन ने सभी आवश्यक सामग्रियों के होम डिलेवरी की सुविधा की है। किसी को कोई असुविधा हो या उसके पास कोई महत्वपूर्ण जानकारी हो तो जिला प्रशासन के हेल्पलाइन नम्बरों पर काॅल कर सकता है। इस वक्त सबसे जरूरी ये है कि यदि कोई बाहर से आया है तो उसकी सूचना तुरन्त जिला प्रशासन को दें नही तो मामला संज्ञान में आने पर परिवार के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

जिलाधिकारी कृष्णा करूणेश ने शुक्रवार को यह बातें स्टेट बैंक आफ इंडिया मंड़ी शाखा और प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक पर मीडिया प्रतिनिधियों के सहयोग से लाइन में लगे खाताधारकों को मास्क वितरित करते हुए कही। उन्होने कहा कि कोरोना जैसी महामारी के दौरान सरकार की तमाम योजनाओं के द्वारा लोगों को लाभान्वित किया जा रहा है। यदि फिर भी किसी को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा या फिर उन्हे राशन आदि की जरूरत है तो वो कलेक्ट्रेट में स्थापित कोविड 19 एकीकृत नियंत्रण कक्ष के नम्बर 1077 टोल फ्री, 02563 236250, 232046, 7880831068 पर सम्पर्क कर अपनी समस्या बता सकता है। काॅल मिलने के बाद प्राथमिक के आधार पर उसका समाधान किया जाएगा। डीएम ने खाताधारकों को मास्क देते हुए कहा कि कपड़े से बने इस मास्क को रोजाना धोकर पांच घंटे धूप में सुखाकर ही पहने और इसे सुरक्षित स्थान पर रखें। उन्होने कहा कि लोगों से दो मीटर की दूरी बनाकर रखें, चेहरे को छूने से बचें और हाथों को दिन में कई बार साबुन से साफ करते रहें। जिलाधिकारी ने खाताधारकों को मीडिया प्रतिनिधियों के सहयोग से करीब 250 मास्क का वितरण किया। इस दौरान मजिस्ट्रेट राकेश शर्मा, सीओ सिटी राधारमण सिंह, जीतेन्द्र सिंह, अखिलेश्वर तिवारी, योगेन्द्र मिश्रा, कृष्ण कुमार तिवारी, रवि गुप्ता, आनंद मणि, अवधेश मणि तमाम साथी मौजूद रहे।

Read more

 

 

सेमरियावां (संतकबीरनगर)। दिल्ली से सीतापुर पहुंचे क्षेत्र के दो जमातियों के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर मिलते ही जहां प्रशासन पूरी तरीके से अलर्ट हो गया वही उनके परिवार के सदस्यों को तत्काल जिले पर स्थित आइसोलेशन वार्ड में क्वांरनटाइन कर दिया गया। बुधवार को उनके घरों और पृथक गांव में पूरी तरीके से सन्नाटा पसरा रहा लोगों में कोरोना संक्रमण का भय साफ देखा गया फिलहाल इन संक्रमित व्यक्तियों का कई माह से गांव में आना जाना नहीं हुआ हैं। धर्म परिवर्तन कर चुके क्षेत्र के बुडाननगर उर्फ मदाईन निवासी बृजमोहन उर्फ अब्दुल्लाह के कोरोना पॉजिटिव मिलते ही उसके घर व गांव में सन्नाटा पसर गया हैं। प्रधान प्रतिनिधि अब्दुल हकीम ने बताया कि बृजमोहन उर्फ अब्दुल्लाह ने लगभग चार साल पहले धर्म परिवर्तन करके इस्लाम धर्म को अपनाया लिया और लगभग चार माह पहले मदाईन से परसा सूरत जमात में चले गये और वही से फिर दिल्ली निजामुद्दीन मरकज की जमात में शामिल हुए जैसे ही मंगलवार को उनके कोराना पाजिटिव की सूचना मिली तत्काल चैकी इंचार्ज बाघनगर मनोज पटेल के साथ मिलकर उनके घर पहुंचे और उनके के घर से बेटे, बहू, एक नतिनी व दो नाती को सीएचसी सेमरियावां पर सूचना देकय 108 एम्बुलेंस की मदद से आइसोलेशन वार्ड में भेज दिया गया है और लोगो से निरंतर घरो में रहकर लाकडाउन का पालन करवाने के लिए कहा जा रहा हैं। इसी क्रम में क्षेत्र के पचदेउरी  निवासी गुफरान अहमद पुत्र गुलाम अली के सीतापुर में कोरोना पाजिटिव की सूचना मिलते ही  उनके घर में सन्नाटा पसर गया  परिवार के सदस्यों को तत्काल प्रशासन ने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया हैं। ग्राम प्रधान मंगरु राम ने बताया कि गुफरान मौजूदा वक्त सीतापुर में हैं वहीं से दिल्ली स्थित निजामुद्दीन मरकज पर जाकर जमात में शामिल हुआ। जैसे ही उसके कोरोना संक्रमित होने की सूचना मिली उनके परिवार से उनकी विधवा मां शैकुन्निसा बेटी जुबैदा खातून व सायमा खातून को प्रशासन की सहायता से आईसोलेशन वार्ड में भर्ती करा दिया गया हैं। उन्होंने बताया कि परिवार के दो और लड़के मुम्बई हैं जो लगभग एक साल से गांव में नहीं आये हैं। उनके पड़ोस के रहने वाले बबलू, अब्दुल, मुनीरूल हसन, वाले ने बताया कि आज सुबह फोन पर सुबह 8 बजें उनके परिवार के सदस्य से बात हुई थी उन्होंने वार्तालाप में उन्होंने बताया कि जबसे यहां आइसोलेशन वार्ड में आए हैं  हमारी कोई देख रेख नहीं हो पा रही हैं सही से खाना व पानी नहीं मिल पा रहा काफी दिक्कतें हो रही हैं।

Read more

 

 


-मीडिया प्रतिनिधियों के सहयोग से पुलिस अधीक्षक ने 200 खाताधारकों को वितरित किया मास्क
-मॉस्क लगाने व इस्तेमाल का सही तरीका जानना जरूरी, घर पर भी बनाया जा सकता है मॉस्क
बलरामपुर 13 अप्रैल। कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से आसानी से फैलता है। मॉस्क पहनने से किसी संक्रमित व्यक्ति से हवा में मौजूद थूक की बूंदों के माध्यम से कोरोना वायरस के स्वसन तंत्र में प्रवेश करने की सम्भावना कम रहती है। इसी को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार द्वारा घर से बाहर निकलने पर हर किसी को मॉस्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। इसका उल्लंघन करने पर कार्रवाई भी हो सकती है।
पुलिस अधीक्षक देव रंजन वर्मा ने ये बातें सोमवार को इलाहाबाद बैक की मण्डी शाखा पर रूपये निकालने आये खाताधारकों को कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क वितरित करते हुए कही। मीडिया प्रतिनिधियों द्वारा आयोजित मास्क वितरण के दौरान एसपी ने कहा कि पुलिस व स्वास्थ्य विभाग लोगों को बाहर निकलने पर मास्क लगाने और घर पर मास्क बनाने के बारे में जागरूक करने में जुट गया है। इसके प्रचार-प्रसार के लिए पोस्टर और पम्पलेट का भी सहारा लिया जा रहा है, जिसमें जिक्र है कि बाजार में मॉस्क न मिलने पर उसे आसानी से घर पर भी बनाया जा सकता है। इसके लिए मोटे फैब्रिक, काटन टी शर्ट या बनियान को परतों में काटकर मॉस्क बना सकते हैं। मोटा फैब्रिक होने से वह सुरक्षित रहेगा और उसे धोने में भी आसानी होगी। स्कार्फ या रुमाल को अगर मास्क की जगह इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसके भी भी दो-तीन फोल्ड कर लें ताकि कपड़े की परतें बनी रहें। इस दौरान एसपी व मीडिया कर्मियों ने बैक में रूपये निकाले आईं महिलाओं सहित करीब 200 खाताधारकों को मास्क का वितरण कराया। इस दौरान मंडी समिति व भगवतीगंज में तैनात मजिस्ट्रेट राकेश सिंह, चैकी इंचार्ज राज कुमार यादव, ग्राम प्रधान महेश मिश्रा, योगेन्द्र त्रिपाठी, कृष्ण कुमार तिवारी, रवि गुप्ता, आनंद मणि तिवारी सहित तमाम लोग मौजूद रहे।
-दोबार इस्तेमाल से पहले अच्छे से धोएं कपड़े का मास्क
कोरोना के नोडल डा. ए.के. सिंघल ने बताया मास्क को साबुन और गरम पानी में अच्छे से धोएं और इसे धूप में कम से कम पांच घंटे तक सूखने दें ।यदि धूप उपलब्ध नहीं है तो मास्क को प्रेशर कुकर में पानी डालें और इसे कम से कम 10 मिनट तक उबालें और सूखने दें। पानी में नमक डालना बेहतर रहेगा। प्रेशर कुकर न होने पर कपड़े के मास्क को 15 मिनट तक गर्म पानी में उबाल सकते हैं। परिवार के हर सदस्य के पास कम से कम दो मास्क होने चाहिए ताकि एक को पहन सकें और दूसरे को धोकर सुखा सकें। ध्यान रहे अपने मास्क को किसी से भी शेयर न करें। जिस प्लास्टिक बैग में मास्क रखें उसे भी साबुन-पानी से ठीक से धोकर सुखा लें उसके बाद मास्क रखकर सील कर दें।
-इन बातों का रखें ख्याल
मॉस्क को पहनने से पहले हाथों को अच्छी तरह से धोएं। सुनिश्चित करें कि मॉस्क चेहरे पर अच्छी तरह से फिट हो तथा किनारों से कोई गैप न हो। मॉस्क के सामने की सतह को न छुएँ, उतारते समय इसे पट्टी की तरफ से पीछे से निकालें। हमेशा पट्टी को नीचे और उसके बाद ऊपर की तरफ से खोलें। उतारने के बाद मॉस्क को तुरंत साबुन के घोल या उबलते पानी में डालें। मॉस्क को हटाने के बाद हाथों को 40 सेकण्ड तक साबुन व पानी से धोएं या तो अल्कोहल वाले सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें।
-बरतें सावधानी
मॉस्क तभी प्रभावी हो सकते हैं जब उन्हें इस्तेमाल करने के साथ-साथ बार-बार साबुन और पानी से 40 सेकण्ड तक हाथ धोया जाए। हर समय दूसरे व्यक्ति से दो मीटर की दूरी बनाकर रखें। बाहर से घर आने पर हाथों को अच्छे से धोएं तथा अपने चेहरे या आँख को न छुएँ।


 

 

Read more

 

 


-डोरबेल, कूड़ादान, दरवाजे के हैंडल, नोट व सिक्के छूने के बाद हाथ साफ ना करना पड़ सकती है जान पर भारी
बलरामपुर 12 अप्रैल। सरकार ने लॉकडाउन आपके सुरक्षित व स्वस्थ रहने के लिए ही किया है लेकिन घर में रहकर आप द्वारा की गई छोटी सी चूक आपको कोरोना के नजदीक ला सकती है। लिहाजा सावधानी बरतें ताकि आप सभी महफूज रह सकें। विशेषज्ञों के मुताबिक बाहर से आएं किसी भी खाद्य पदार्थ या उसके पैकेटे को साफ ना करना काफी खतनाक हो सकता है। इससे बिन बुलाए कोरोना वायरस आपके घर तक पहुंच सकता है। जरूरी है कि अपनी छोटी छोटी आदतों में सुधार लाकर कोरोना वायरस अपने आप को बचाया जाएं।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने रविवार को बताया कि घर में आई कच्ची सब्जी और फल को यूं ही नंगे हाथों से न पकड़ें। हाथों में गलव्ज लगाकर सब्जी को लें और फौरन धोएं। अगर नंगे हाथों में ले भी रहे हैं तो फौरन हाथों को सेनेटाइज करें। उन्होने बताया कि सब्जी भी आपको संक्रमण दे सकती है। इसी तरह दूध के पैकेट लेने जाते वक्त झोला साथ ले जाएं। कतई नंगे हाथों में न पकड़ें। अगर पकड़ना मजबूरी हो तो घर आते ही फौरन हाथ धोएं।
कोरोना वायरस के नोडल अधिकारी व एसीएमओ डा. ए.के. सिंद्यल के मुताबिक डोरबेल, कूड़ादान, लिफ्ट के बटन, कार के दरवाजे, बगीचे के फूल, जूते-चप्पल, दरवाजे के हैंडल और नोट व सिक्के जब भी छुएं तो हाथ फौरन धोएं। जरा भी कोताई न करें। उन्होंने कहाकि बच्चों व बुजुर्गों के लिए तो यह वायरस है ही नुकसानदेह, जवानों को भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। जिन लोगों को डायबिटीज और ब्लड प्रेशर की शिकायत रहती है वह दवाएं खाते रहें और अपने डॉक्टर के संपर्क में रहें। उन्होंने कहा कि खांसी आए या छींक, हाथ फौरन साबुन से धोएं। डॉ. सिंद्यल के मुताबिक कोरोना वायरस से बचने के लिए सावधानी बरतना ही सबसे कारगर उपाय है। उन्होंने कहा कि खांसी या बुखार के लक्षण होने या सांस लेने में तकलीफ होने पर फौरन सरकारी अस्पताल में दिखाएं।

Read more

 

 

बस्ती ।श्री कृष्णा मिशन हॉस्पिटल बरगदवा बड़ेबन बस्ती में स्थापित पैथकाइंड लैब द्वारा जनपद में कोरोनावायरस कोविड-19 महामारी की रोकथाम व बचाव के लिए कोरोना के मरीजों का निशुल्क सेंपलिंग एवं टेस्टिंग किया जाएगा।
उक्त जानकारी जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने दी हैं। उन्होंने बताया कि केवल उन्हीं व्यक्तियों का सैंपलिंग किया जाएगा जिसे सीएमओ द्वारा रेफर किया हो।
जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया है कि जिसको सर्दी,जुकाम,बुखार है या उस व्यक्ति की कोई ट्रैवलिंग हिस्ट्री है, उसे प्राथमिकता पर कोरोना की जांच की आवश्यकता है। इसके लिए उसे कहीं जाने की आवश्यकता नहीं हैं। वह सीधे डाटा एंट्री ऑपरेटर कमलापति त्रिपाठी को मोबाइल नंबर 9450610034 पर फोन कर सकता है। उस व्यक्ति का सैंपल लेने के लिए पैरामेडिकल स्टाफ उसके घर पहुंचेगा
उन्होंने बताया कि सीएमओ द्वारा रिफरल फॉर्मेट पर ही रेफर किया जाएगा और उसकी एक प्रति डिप्टी सीएमओ डॉक्टर फखरे यार हुसैन के कार्यालय में सुरक्षित रखी जाएगी। प्राइवेट टेस्टिंग के लिए डॉक्टर हुसैन मरीज की हिस्ट्री के साथ फार्म उपलब्ध कराएंगे। इसके लिए सीएमओ ऑफिस में डिस्पैच टीम के साथ क्षेत्रीय सफाई कर्मी, लेखपाल, आशा को भी तैनात किया गया है।
उन्होंने बताया कि सैंपलिंग के लिए मरीज की क्लीनिकल हिस्ट्री एवं आईडी कार्ड देना अनिवार्य होगा ,साथ ही बायो मेडिकल वेस्ट डिस्पोजल के लिए सभी प्राइवेट लैबोरेट्री द्वारा सायं 7:00 बजे तक जिला क्वालिटी परामर्शदाता सीएमओ ऑफिस को उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि श्री कृष्णा मिशन हॉस्पिटल को संदिग्ध कोरोना के मरीजों की सेंपलिंग एवं टेस्टिंग के लिए अधिकृत किया जाता है तथा डॉक्टर फखरेयार हुसैन को नोडल अधिकारी नामित किया जाता है।

Read more

 


- प्रवासी कामगारों के साथ ग्रामीणों को सुरक्षित रखना प्रधानों की बड़ी जिम्मेदारी
- आशा कार्यकर्ताओं और एएनएम की मदद से लोगों की सेहत पर रख रहे नजर
- भोजन की व्यवस्था के साथ ही आश्रय स्थलों पर लोगों को किया जा रहा जागरूक
बलरामपुर 07 अप्रैल। कोरोना वायरस के संक्रमण से ग्रामीणों को सुरक्षित रखने के साथ ही उनके रोजाना के कार्यों में विशेष सतर्कता बरतने के प्रति जागरूक करने की बड़ी जिम्मेदारी इस वक्त ग्राम प्रधानों के कंधे पर है। इसके साथ ही बड़ी संख्या में दूसरे राज्यों और शहरों से आये प्रवासी कामगारों को एक सुरक्षित माहौल प्रदान करने का भी भार वह उठा रहे हैं। इस आपत काल में मन की सारी दूरियां मिटाकर बहुत से लोग एक-दूसरे की मदद को आगे आ रहे हैं, जिसे एक अच्छी पहल के रूप में देखा जा रहा है।
जिलाधिकारी कृष्णा करूणेश ने मंगलवार को बताया सूबे के मुख्यमंत्री और अधिकारियों द्वारा भी अपील की गयी है कि ग्रामीणों को कोरोना वायरस से बचाने को ग्राम प्रधान आगे आयें। इसी को ध्यान में रखते हुए ग्राम प्रधान ग्रामीणों को ज्यादा से ज्यादा घर के अन्दर रहने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। उनके द्वारा सामुदायिक स्थलों की समुचित साफ-सफाई करायी जा रही है। एक फीसदी हायपोक्लोराइट के घोल से इन भवनों के फर्श की सफाई करायी जा रही है। कूड़े के सही तरीके से निस्तारण पर भी ध्यान दिया जा रहा है। सामुदायिक स्थलों पर आने वालों को हाथ धोने के लिए साबुन और पानी की व्यवस्था की गयी है। बाहर से गाँव आने वाले लोगों की सूची तैयार करने में आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मदद कर रहे हैं और लोगों को आशा द्वारा दी जा रही हिदायतों का पालन करने को प्रेरित कर रहे हैं। लोगों के भोजन की व्यवस्था के लिए सामुदायिक रसोई घर की भी व्यवस्था कई ग्राम प्रधानों के माध्यम से की गयी है।
-ग्रामीणों को दे रहे जरूरी सन्देश
दूसरे राज्यों व शहरों से आने वाले लोग 14 दिनों तक परिवार से अलग रहें। कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए एक-दूसरे से एक मीटर की दूरी बनाकर रखें। यदि बुखार, खांसी या सांस लेने में तकलीफ हो तो तुरंत आशा से संपर्क। हाथों को बार-बार साबुन-पानी से अच्छी तरह से धोएं। चेहरे, आँख, नाक, कान और मुंह को बार-बार न छुएँ। खांसते-छींकते समय नाक-मुंह को रुमाल या साफ कपडे से ढकें। लोगों से हाथ मिलाने की बजाय नमस्कार और आदाब करें।
-फसल की कटाई में भी सोशल डिस्टेंशिंग का रख रहे ख्याल
गाँवों में यह सरसों, मटर, चना और गेहूं की कटाई का वक्त है, ऐसे में कटाई के दौरान भी सोशल डिस्टेंशिंग का पूर्ण पालन करने की हिदायत ग्राम प्रधानों द्वारा दी जा रही है। ग्रामीणों को बताया जा रहा है कि खेतों में काम के समय एक उचित दूरी बनाये रखने से कोरोना के संक्रमण को रोका जा सकता है।
-कंट्रोल रूम व हेल्पलाइन में दें जानकारी
कोरोना वायरस महामारी के लिए जिला प्रशासन द्वारा 24 घंटे के लिए कंट्रोल रूम बनाये गये हैं जिसमें काॅल करके आप कोरोना वायरस संबंधी कोई भी जानकारी दे सकते हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में स्थापित कंट्रोल रूम का नम्बर 7880831068 व 7081224641, पुलिस अधीक्षक कार्यालय में कंट्रोल रूम का नम्बर 9454417381 व 8957422023 व कोरोना रोकथाम व नियंत्रण के लिए इन्टीग्रेटेड कंट्रोल रूम का नम्बर 05263-232046, 05263-236250 जारी किया गया है। प्रदेश सरकार के हेल्पलाइन नंबर 18001805145 पर भी संपर्क कर सकते हैं।

Read more

 

 

 

 

 



कोरोना वायरस की चपेट में आने से बचाने के उद्देश्य से मंगलवार को नाथनगर ब्लाक क्षेत्र के ग्राम पंचायत गिठनी को प्रधान राजकुमार गौतम ने सैनेटाइज कराया। ग्रामीणों के बीच मास्क वितरण कर लोगो को इस महामारी से बचाव सम्बंधित जानकारी दी गई। कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से उतपन्न हुए संकट के समय बड़ी पंचायतो के माननीय जब अंडरग्राउंड हो गए। तो अधिकांश जागरूक ग्राम प्रधानो ने अपनी जिम्मेदारियों का बखूबी निर्वाहन करके सच्चे जन प्रतिनिधि होने का प्रमाण पेश किया। इन्ही जागरूक और सजग जन प्रहरियों में से एक नाथनगर ब्लाक के ग्राम गिठनी के ग्राम प्रधान राजकुमार गौतम संकट की इस घड़ी में अपनी ग्राम पंचायत के ग्रामीणों के साथ खडे नजर आए। मंगलवार को ग्राम प्रधान राजकुमार की देखरेख एवं ग्राम पंचायत अधिकारी केशव दास के पर्यवेक्षण में डोर टू डोर पहुंच कर सैनेटाइज किया गया। जाम नालियां साफ सफाई की गई। ग्रामीणों के बीच मास्क देकर उसे पहनने की बात कही गई। साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने के साथ लोगो को घरों में रहकर लॉक डाउन का पालन करने की अपील की गई। इस मौके पर हल्का लेखपाल विवेक रंजन यादव, सफाई कर्मचारी संघ जिलाध्यक्ष परमहंस गौतम, सफाई कर्मी चन्द्रकला देवी, विजय कुमार, धर्मेंद्र कुमार, वंशीलाल मौजूद रहे।

Read more

 

 

 

 


-शेल्टर होम्स या आश्रय स्थलों में रह रहे लोगों को मिलेगी सुविधा
-शासन ने सीएमओ और मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों को दिये निर्देश
बलरामपुर 04 अप्रैल। लॉकडाउन के दौरान आश्रय स्थलों या शेल्टर होम्स में रह रहे प्रवासी मजदूरों को मानसिक तनाव बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने अनोखी पहल की है। इन मजदूरों को मानसिक रूप से स्वस्थ रखने के लिए अब उनकी काऊंसिलिंग की जाएगी। इस दौरान उन्हे बताया जाएगा कि लॉकडाउन के दौरान उनको अपना समय बेहतर तरीके से किस तरह व्यतीत करना है। इस संबंध में महानिदेशक, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं ने सीएमओ और जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को शासनादेश जारी किया है।
पत्र में मानसिक स्वास्थ्य के राज्य नोडल अधिकारी सुनील पांडे ने लिखा है कि सुप्रीम कोर्ट की रिट पिटीशन संख्याः 468/2020 एवं 469/2020 में दिये गए निर्देशों के अनुपालन में मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों की भूमिका अहम है। गौरतलब है कि कोर्ट ने सरकार से अपेक्षा की है कि वह सुनिश्चित करें कि लॉकडाउन के दौरान समस्त शेल्टर होम्स में आमजन को किसी तरह के मानसिक तनाव का सामना न करना पड़े। इस संबंध में जिल के स्वास्थ्य विभाग को शुक्रवार को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि लॉकडाउन के दौरान शेल्टर होम्स या आश्रय स्थलों में रह रहे प्रवासी मजदूरों को मानसिक रूप से स्वस्थ्य रखने के लिए समय-समय पर उनकी काऊंसिलिंग की जाए। इस कार्य के लिए जिले में मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत तैनात साइकेट्रिस्ट, क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट और साइकेट्रिक सोशल वर्कर की मदद लें। साथ ही यह भी निर्देश है कि जिन जनपदों में मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत संसाधन उपलब्ध नहीं है वहां राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम, एनपीसीडीसीएस कार्यक्रम या अन्य कार्यक्रम में तैनात क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट, काऊंस्लर्स और साइकोलॉजिस्ट से सेवाएं ली जाएं। पत्र में यह भी स्पष्ट है कि लॉकडाउन के दौरान शेल्टर होम्स या आश्रय स्थलों में काऊंसिलिंग कार्य सुचारु रूप से चलाने के आवागमन और सुरक्षा आदि का भी पूरा ध्यान रखा भी जाये। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने शनिवार को बताया कि शासन का पत्र मिला है। गाइडलाइन के अनुसार जिले के मानसिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी को व्यवस्था सुनिश्चित कराने के निर्देश दे दिये गये हैं। टीमें बनने के बाद जल्द ही उन्हे सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाकर शेल्टर होम्स में मौजूद लोगों की काउंसलिंग करने के लिए भेजा जाएगा।

Read more

 

 

सुलतानपुर---कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी से लड़ने के लिये हम सभी को साथ देने की जरूरत है और इसके संक्रमण को रोकने/बचाव हेतु सभी को मिलकर व्यापक प्रचार-प्रसार करके लाॅक डाउन का पूरा अनुपालन में सभी के सहयोग की नितान्त आवश्यकता है। सावधानी के साथ-साथ सुरक्षा हम सभी को अपनी करनी है तथा अपने परिवार एवं समाज की भी सुरक्षा करनी है।
यह विचार जिलाधिकारी सी0 इन्दुमती व पुलिस अधीक्षक शिव हरी मीना ने आज सायंकाल कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित धर्मगुरूओं व सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों के साथ बैठक करते हुए व्यक्त किया। दोनों अधिकारी संयुक्त रूप से अपील की है कि सभी धर्म गुरू अपने-अपने मजहब के वरिष्ठ जनों को बताएं कि लाॅक डाउन का सभी शत-प्रतिशत अनुपालन करते हुए कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिये हम सब एक जुट होकर साथ दें और अपने-अपने धर्म की इबादत/पूजा अपने घरों में करें। सोशल डिस्टेन्स बनाये रखते हुए इस बारे में लोगों कोे बताया जाये। उन्होंने कहा कि जब तक समाज का हर प्राणी हर वर्ग साथ नहीं देगा, तब तक हम इस महामारी से लड़ाई को नहीं जीत पायेंगे। उन्होंने कहा कि आप लोग अपने तरफ से अपील(आडियो/वीडियो) सोशल मीडिया आदि पर जारी कर लोगों को जागरूक करें।
बैठक में जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने संयुक्त रूप से कहा कि आप लोगों का प्रभाव अपने-अपने समाज में है। आप सब अपने-अपने लोगों के समझाइयें की लाॅक डाउन का पालन कैसे किया जायें। तभी हम सब इस महामारी से बच सकते हैं। प्रशासन के साथ-साथ आप सब के सहयोग की आवश्यकता है। उन्होंने अपील की कि आप सभी से हर तरह से सहयोग की आवश्यकता है और आप लोग सहयोग भी कर रहे हैं, जो प्रशंसनीय है। उन्होंने कहा कि जनपद में विदेश/अन्य राज्यों से जो भी व्यक्ति आयें हैं। उनका स्वास्थ्य परीक्षण अवश्य करायें और उन्हें होम क्वारेन्टाइन पर रखा जाये। उन्होंने कहा कि लोगों की मानसिकता को परिवर्तित करना है। उन्होंने कहा कि हम सभी को अफवाहों पर कोई भी व्यक्ति कदापि ध्यान न दें, बल्कि अपने-अपने घरों में रहें। अनावश्यक रूप से अपने घर से बाहर कदापि न निकलें।
जिलाधिकारी ने सामाजिक संगठनों से अपील की कि आप सब सहयोग के रूप में ड्राई राशन दें ज्यादा अच्छा होगा। उन्होंने बताया कि खाद्यान्न आपूर्ति का नोडल अधिकारी जिला पूर्ति अधिकारी को बनाया गया है, जिनका मो0 नं0- 9415183099 है, जिस पर आप सब सम्पर्क कर सम्बन्धित क्षेत्र में खाद्यान्न आपूर्ति कर सहयोग प्रदान कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि शेल्टर होम के साथ-साथ विभिन्न स्थानों पर कम्युनिटी किचन सेन्टर चलाये जा रहे हैं, जिसमें ताजा खाना जरूरतमंद लोगों दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि निर्धन एवं गरीब बस्तियों में जाकर सहयोग करें, तो नेक कार्य होगा। उन्होंने कहा कि निराश्रित गोवंशों के लिये भूषा, चारा की व्यवस्था कराया गया है। आप सब यह भी समाज में बतायें कि कुत्तों को भी लोग खाना खिलायें।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ0 सीबीएन त्रिपाठी ने बताया कि कोरोना वायरस का फैलाव हवा में नहीं होता है, यह थूकने, खांसनें व छींकने से फैलता है। इसमें साफ-सफाई, साबुन से हाथ धुलना, सेनेटाइजर आदि के बारे में अवगत कराया। उन्होंने बताया कि विदेश व अन्य राज्यों से जो लोग आये हैं, उनकों छिपाने की जरूरत नहीं है। विदेश से आने वाले लोगों को 28 दिन तक होम क्वारन्टाइन की जरूरत है, जो अपने देश के अन्य राज्यों से जनपद में आयें हैं, उनकों 14 दिन की होम क्वारन्टाइन करने की जरूरत है। इसी के साथ-साथ सतर्क एवं जागरूक रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की टीम पूरी तरह से मेडिकल चेकअप के लिये जनपद में कार्य कर रही है। उप जिलाधिकारी सदर रामजी लाल ने भी धर्मगुरूओं से अपील की कि मेन रोड के अलावा गलियों में युवा वर्ग घूमते रहते हैं। उन्हें आप लोग समझायें और लाॅक डाउन का अक्षरशः पालन कराने में सहयोग करें।
बैठक के पश्चात लायंस क्लब सुलतानपुर मिड टाउन के पदाधिकारी बलदेव सिंह, डाॅ0 राजीव श्रीवास्तव, डाॅ0 डी0एस0 मिश्र द्वारा 51 हजार रू0 प्रधानमंत्री राहत कोष में भेजने हेतु जिलाधिकारी को चेक भेंट किया।
इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी(प्रशा0) हर्ष देव पाण्डेय, अपर पुलिस अधीक्षक शिवराज, सीओ सिटी सतीश चन्द्र शुक्ला, सरदार बलदेव सिंह, मौलाना उष्मान, अमर बहादुर सिंह, पंचमुखी हनुमान गढ़ी के प्रबन्धक आशीष श्रीवास्तव, व्यापार मण्डल के मीडिया प्रभारी जुबैर अहमद, मौलाना मो0 कसीम, सहित सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी तथा विभिन्न समुदाय के धर्मगुरू एवं नगर के सम्भ्रान्त नागरिक आदि उपस्थित रहे।

Read more

 


सुल्तानपुर---कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी से बचाव के लिए 21 दिन के चल रहे लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले में क्वारैंटाइन किए गए 25 लोग मंगलवार रात सेंटर से फरार हो गए। ये सभी गैर राज्यों से पलायन कर लौटे थे। पुलिस करीब 14 घंटे के भीतर सभी लोगों को पकड़ लिया है। पुलिस ने इन सभी मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। साथ ही अब कोई फरार न होने पाए, इसके लिए पुलिस की मुस्तैदी बढ़ा दी गई है।
डीएम सी. इन्दुमती ने बताया कि, केएनआईटी परिसर फरीदीपुर में दूसरे राज्यों व जनपदों से आए 115 व्यक्तियों को मेडिकल जांच कराने के पश्चात सतर्कता की दृष्टि से गोसाईगंज थाना क्षेत्र के फरीदीपुर स्थित केएनआईटी परिसर में क्वारैंटाइन किया गया था। मंगलवार की रात में लगभग 10 से 11 बजे के मध्य 25 व्यक्ति शेल्टर होम के पीछे के रास्ते से प्रथम तल से चादर एवं गमछे के सहारे रस्सी बनाकर फरार हो गए थे।
एसपी शिवहरि मीणा के निर्देशन में लगी पुलिस टीम ने 14 घंटे के अन्दर सभी भागे हुए 25 व्यक्तियों को पकड़कर उन्हें पुनः शेल्टर होम में वापस क्वारैंटाइन कर दिया है। पुलिस के अनुसार सभी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।
डीएम ने सभी यात्रियों की निगरानी के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सभी को क्वारैंटाइन के महत्व के विषय में बताया और कहा कि यहां पर आप लोगों को खाने-पीने, रहने आदि की व्यवस्था जिला प्रशासन द्वारा दी जा रही है। लोगों के यहां आने पर प्रथम बार मेडिकल चेकअप कराया गया है। अब फिर से मेडिकल चेकअप कराने के बाद प्राउड टू प्रोटेक्ट सुलतानपुर (घर पर रहें, स्वस्थ्य रहें) नामक मुहर बाएं हाथ के हथेली की ऊपरी हिस्से में लगायी जाएगी। इसके पश्चात सबको घर भेजा जाएगा, जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि आप लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा चुका है और आप स्वस्थ्य हैं। उन्होंने कहा कि यदि कोई व्यक्ति यहां से अवैध तरीके से भागने का प्रयास करेगा, तो उसके विरूद्ध कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।

Read more

 

 


सिद्धार्थ नगर)सोमवार को भनवापुर ब्लाक संसाधन केंद्र पर सर्व शिक्षा अभियान के तहत अब तक के सबसे बड़े बजट वाली ट्रेनिंग व शासन की अति महत्वाकांक्षी योजना निष्ठा प्रशिंक्षण के चौथे पारी में सभी प्रशिक्षु शिक्षक उपस्थित रहे मगर आवयौस्थाओं के बीच अधिकारियों के खानापूर्ति के साथ ही सम्पन्न हो गया है। तथा अंतिम पारी के शिक्षकों का निष्ठा प्रशिंक्षण कोरोना वायरस के कारण अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया है। वहीं पहले की तरह प्रशिक्षंण में चाय पानी व भोजन की व्यवस्था पर ठेकेदार की मनमानी भारी रही। पहली पारी में जहां आठ शिक्षक नदारद रहे तो वहीं दूसरी व तीसरे पारी में केवल एक ही शिक्षक प्रशिक्षण से अनुपस्थित रहे।
प्राथमिक विद्यालयों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा व शैक्षिक संवर्धन के लिए अध्यापकों को पांच दिवसीय प्रशिक्षण दिया जा रहा है निष्ठा नाम से संचालित यह प्रशिक्षण प्रत्येक अध्यापक व शिक्षामित्र को 22 फरवरी से दिया जा रहा है। चलने वाले प्रशिक्षण के तीसरे पारी में भनवापुर के 150 अध्यापकों के जगह 149 को प्रशिक्षित कर प्रमाण पत्र दिया गया था तो वहीं चौथे पारी में 150 के जगह 150 शिक्षकों ने प्रशिक्षण लिया जिन्हे प्रमाणपत्र दिया गया। इस प्रशिक्षण के लिए शासन में अब तक का सबसे बड़ा बजट जारी किया है। बावजूद इसके भी प्रशिक्षण की व्यवस्था चौथी पारी में भी बदइंतजामी की शिकार के बीच खाना पूर्ति हो गई। तथा अंतिम दिन प्राथमिक शिक्षक संघ के ब्लॉक अध्यक्ष श्री राम प्रकाश मिश्रा ने 150 प्रशिक्षु शिक्षकों को प्रमाण पत्र दिया। इस दौरान हिमांशु द्विवेदी,राम प्रशिक्षण में के0आर0पी0 रामप्रकाश मिश्र, हिमांशु द्विवेदी, दुर्गेश कुमार मिश्र,किरन, उमाकांत गुप्ता, आशीष सिंह, राम बरन जायसवाल एस0आर0पी0 शिव कुमार राय अखिलेश्वर मिश्र, विजय कुमार श्रीवास्तव, अजय गौतम तथा प्रशिक्षु पिंगल प्रसाद मिश्र, अंजलि गुप्ता। रीना श्रीवास्तव, कमलेश कुमारी, रवि सिंह, अश्वनी कुमार, नीलम, वंदना श्रीवास्तव, शशिबाला सिंह, तनुजा, नीलम पांडेय, आदि मौजूद रहे।

Read more

 

 

सुल्तानपुर---चार पहिया वाहन से खोया लेकर जा रहे चालक को खाद महकमे ने रोक लिया ।मौके पर सैंपल भरा जा रहा है ।गाड़ी में तकरीबन 40 किलो का खोया लदा हुआ है ।बताते चलें कि नई नियमावली के तहत अब मिठाई पर उसकी मैन्युफैक्चरिंग डेट डाली जाएगी लेकिन खोवा कब का है ? इसका जिक्र नहीं होगा।इसलिए शहरवासी सेहत को लेकर होशियार रहें और एहतियात बरतें ।मिठाई निर्माण में सर्वाधिक इस्तेमाल खोए का होता है ।पता चला है कानपुर से कई कुंटल खोया यहां की नामचीन दुकानों पर भेज दिया जाता है। कानपुर में लोड करने के बाद बसअड्डे से युवक गायब हो जाता है और यहां पर बस अड्डे पर कुली द्वारा खोया उतार लिया जाता है ।गड़बड़ झाले की अगले अंक में प्रकाशित किया जाएगा जिसके तार अवैध शराब से भी जुड़े हुए हैं।

Read more

 

 

जनपद बदायूं के डीएम कुमार प्रशातं ने दिये दिशा निर्देष।
चीन समेत केई देशों में हाहाकार मचा चुके कोरोना वायरस की आहट अव हिन्दुस्तान मे भी सुनाई देने लगी है।वही डीएम कुमार प्रशांत ने मीडिया वार्ता मे कोरोना वायरस से पीडितो के द्बटिगत अस्पतालो की तैयारी के बारे मे बताया और नगर पालिका आघिकारियो को दिये निर्देष
डीएम कुमार प्रशांत ने बताया कि हमने जिला अस्पताल में एक आसुलोशन वार्ड, एक कट्रोल रूम स्थापित किया है इसके अलावा मेडीकल कालेज मे भी छः बेड और एक आशुलोसन वार्ड तैयार किया है वही मेडीकल कालेज के प्रिसिंपल से वात करके पेरामेडीकल स्टाफ व डाक्टर की व्यवस्था कर ली गयी है वही जिलाधिकारी ने बताया कि एक एडवांस लाइफ सपोर्ट सिस्टम की एक एबुलेंस भी नियुक्त की है।जो कोरोना से पीडित को लाने लेजाने का काम करेगी कही नगर पचायंत व नगर पालिका को आदेश दिए है कि मांस की दुकानो पर साफ सफाई का बिशेष ख्याल रखा जाये वही डीएम कुमार प्रशांत ने सार्वजनिक सभाओ पर भी रोक लगा दी है।
जिलाधिकारी कुमार प्रशांत ने खराब मौसम के चलते कल दिनांक 7 मार्च शनिवार को कक्षा 8 तक सभी विद्यालयो मे अवकाश का आदेश दिया।

Read more

 

 

सेमरियावां (संतकबीरनगर)। शासन के लाख कोशिशों के बावजूद भी ग्रामीण इलाकों में चिकित्सकीय व्यवस्था पटरी पर आती नहीं दिख रही है। अस्पतालों पर पर्याप्त दवा तो है, पर चिकित्सक नहीं रहते हैं चिकित्सक मनमाना ड्यूटी कर रहे हैं। सब कुछ जानते हुए भी उच्चाधिकारी मौन हैं, जिसका खामियाजा मरीजों को भुगतना पढ़ रहा है। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र दानूकुईयां पर तैनात चिकित्सको की लापरवाही इस कदर हैं कि उन्हें अस्पताल पर आने वाले मरीजों की परेशानियां से कोई मतलब नहीं हैं और न ही अपने ड्यूटी के प्रति सजगता उनकी लेट लतीफी के चक्कर में क्षेत्र की जनता उनका इंतजार कर थक हार कर मजबूरन प्राईवेट क्लीनिक पर जाने को विवश हैं। शुक्रवार को पीएचसी दानूकुईयां पर इलाज कराने आये राम अनुज ,जानकी देवी ,फरहाना खातून निवासी परसा जब्ती व अतीकुर्रहमान निवासी रोहनिया जुकाम बुखार आदि से सम्बंधित दर्जनों मरीजों इलाज करने आये थे तो वहीं बासखोर निवासी गर्भवती महिला आरती देवी अपनी जांच करवाने आयी थी लेकिन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर तैनात चिकित्सको की लेट लतीफी के कारण प्राईवेट डाक्टरों की शरण में जाने को विवश होना पड़ा। बताते चले कि पीएचसी दानूकुईयां पर आयुष महिला चिकित्सक डा.नाजिम कौसर, फार्मसिस्ट अरुण कुमार, एलए अश्विनी कुमार, वार्ड आया रेनू, (संविदा) स्टाफ नर्स मुकेश मीनी व स्वीपर मनोज की तैनाती हैं चार बेड वाले इस अस्पताल में लगभग 60-70 मरीज रोजाना आते हैं। शुक्रवार को लगभग 10.45 बजें तक चिकित्सको की कुर्सियां खाली रही और मरीज बाहर इनके आने का इंतेजार करते देखे गये। स्थानीय निवासी शकील अहमद चैधरी, अब्दुल मतीन, जैनुल्लाह, रिजवान अहमद, वसीउल्लाह, अब्दुल कवी, अमेरुददीन, अब्दुर रहमान, किसोर बडही, नन्दालाल, बनशी विशकर्मा, जिननान, तुफेल अहमद, जुबैर आदि दर्जनों लोगों ने बताया कि अस्पताल का कायाकल्प और महिला चिकित्सक की तैनाती होने के बाद उम्मीद जगी कि लोगो को बेहतर इलाज मिलेगा लेकिन डाक्टर कभी भी समय से नहीं आते जिसकी वजह से गर्भवती महिलाएं व प्राथमिक उपचार के लिए आने वाले मरीजो को निराश होकर प्राईवेट डाक्टर के पास जाना पड़ता हैं। इस सम्बंध में सीएचसी अधीक्षक डा.जगदीश पटेल ने बताया कि वहां तैनात सभी स्वास्थ्य कर्मियों को निर्धारित समय पर आने के लिए कहा गया मै स्वतः पीएचसी का निरीक्षण करने जाऊंगा अगर इस तरह की शिकायत मिलती हैं तो सम्बंधित के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

Read more

हाल के पोस्ट

S.R International Academy
Police banner