Home » यू पी/उत्तराखण्ड » संतकबीरनगर-डीएम ने विभागीय योजनाओं में क्रियान्वयन प्रगति की समीक्षा किया_रिपोर्ट-बिट्ठल दास

संतकबीरनगर-डीएम ने विभागीय योजनाओं में क्रियान्वयन प्रगति की समीक्षा किया_रिपोर्ट-बिट्ठल दास

ऽ जिलाधिकारी ने विद्युत विभाग, शिक्षा, पेयजल, राजस्व, स्वास्थ्य सहित विभिन्न विभागो के कार्यो की...

संतकबीरनगर-डीएम ने विभागीय योजनाओं में क्रियान्वयन प्रगति की समीक्षा किया_रिपोर्ट-बिट्ठल दास
Share Post


ऽ जिलाधिकारी ने विद्युत विभाग, शिक्षा, पेयजल, राजस्व, स्वास्थ्य सहित विभिन्न विभागो के कार्यो की समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिया।

संतकबीरनगर। अधिकारीगण अनिवार्य रूप से विभागीय योजनाओं के क्रियान्वयन में प्रगति की माॅनीटरिंग करते रहें। निर्माण कार्यो मंे गुणवत्ता सुनिश्चित करने हेतु निर्माण के दौरान आवश्यकतानुसार स्थलीय निरीक्षण किया जाए और किसी भी स्तर पर असंतोष की स्थिति में संबंधित के विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही सुनिश्चित किया जाए। विकास कार्यो की समीक्षा बैठक मंे प्रस्तुत किये जाने वाले प्रगति विवरण/आकड़ों की यथार्थता पर विशेष ध्यान दिया जाए। उक्त आशय के निर्देश जिलाधिकारी रवीश गुप्ता ने स्थानीय कलेक्ट्रेट सभागार में विकास कार्यो की मासिक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिया। जिलाधिकारी ने विद्युत विभाग के कार्यो की समीक्षा के दौरान जनपद के सभी गोवंश आश्रय स्थलों में विद्युत व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश अधिशाषी अधिकारी विद्युत को दिय। साथ ही जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया कि जनपद के ऐसे विद्यालयों में जहां पर विद्युत पोल/ट्रान्सफार्मर/विद्युत तार के नजदीक होने के कारण किसी प्रकार की दुर्घटना की आशंका हो उसे चिन्हित कर तत्काल उपलब्ध बजट के सापेक्ष शिफ्ट/प्रतिस्थापित कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाए, बजट अभाव की स्थिति में भी अवगत कराया जाए ताकि संवेदनशील जगहों हेतु धनराशि की वैकल्पिक व्यवस्था बनाई जा सकें। समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि जनपद के ऐसे सभी राजस्व ग्राम जो नगरीय/शहरी क्षेत्र में शामिल कर लिये गये है, में आगामी 31 मार्च 2020 तक संचालित सभी अधूरें कार्यो/लाभार्थी परक योजनाओं को पूर्ण कर लिया जाए। जल निगम की समीक्षा के दौरान प्रगति पर संतोष व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने शेष पेयजल योजनओं को पूर्ण कराते हुए क्रियाशील कराने के निर्देश दिये। विगत खरीफ सीजन में जनपद में कुल धान की खरीद की सापेक्ष मात्र 61 प्रतिशत का भुगतान पाये जाने पर असंतोष व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने जिम्मेदार अधिकारियों को त्वरित कार्यवाही/भुगतान के निर्देश दिये। बैठक में जिलाधिकारी ने जनपद के विगत तीन वर्षो में उपलब्धियों का विधान सभावार विवरण निर्धारित प्रारूप पर उपलब्ध कराने के निर्देश सभी विभागाध्यक्षों को दिये। स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान संचालित सभी योजनाओं जैसे-एम्बुलेंस 108,102 टीकाकरण, गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण, संस्थागत प्रसव, जननी सुरक्षा योजना आदि की विस्तृत समीक्षा की गयी। आयुष्मान भारत योजना की समीक्षा के दौरान बताया गया कि 62911 लोगो को आयुष्मान गोल्डेन कार्ड से अच्छादित कर दिया गया है। जिलाधिकारी ने इसमें गतिशीलता लाने के निर्देश दिये। बैठक में समाज कल्याण, अल्पसंख्यक कल्याण, विभिन्न प्रकार की पेशन योजनाए, छात्रवृत्ति वितरण की स्थिति, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, मुख्यमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, जनपद में सड़को का निर्माण एवं गढ्ढा मुक्त की स्थिति, स्कूलों मेें पाठ्य पुस्तक एंव यूनिफार्म के वितरण की स्थिति, ग्राम ज्योति योजना, सौभाग्य योजना, आई0सी0डी0एस0, कार्यदायी संस्थाओं द्वारा कराये जा रहें निर्माण कार्यो में प्रगति एवं गुणवत्ता की स्थिति ई-टेडरिंग, अवैध खनन, सांसद आदर्श ग्राम में विकास कार्यो की स्थिति, कन्या सुमंगला योजना सहित सभी विन्दुओं की गहन समीक्षा की गयी। समीक्षा बैठक में अपर जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी, पी0डी0, सहित जनपद के अन्य जिला स्तरीय अधिकारीगण एवं कार्यदायी संस्थाओं के प्रमुख/प्रतिनिधि उपस्थित रहे।