Home » यू पी/उत्तराखण्ड » बदायूं--श्रीकृण्ण की बाल लीलाओं का हुआ वर्णन_रिपोर्ट---संजीव सक्सेना

बदायूं--श्रीकृण्ण की बाल लीलाओं का हुआ वर्णन_रिपोर्ट---संजीव सक्सेना

बदायूं---जनपद बदायूं के नगर उझानी के कादरचोक क्षेत्र के गांव बमनौसी में चल रही श्रीमद्भागवत कथा...

बदायूं--श्रीकृण्ण की बाल लीलाओं का हुआ वर्णन_रिपोर्ट---संजीव सक्सेना
Share Post



बदायूं---जनपद बदायूं के नगर उझानी के कादरचोक क्षेत्र के गांव बमनौसी में चल रही श्रीमद्भागवत कथा छठवें दिन भगवान श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं का वर्णन किया। कथा से पूर्व यज्ञ भगवान को लोककल्यार्ण विशेष आहुतियां समर्पित की गईं।

कथावाचक हरलेश चैतन्य ने भगवान श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने कंस का वध कर लोगों को अत्याचारों से मुक्त कराया। गांवों में सुख-शांति और समृद्धि के लिए गौ संवर्धन के लिए प्रेरित किया। इसलिए श्रीकृष्ण ने ग्वालों को अत्याचारी कंस के पास दूध दही ले जाने से मना किया। हमारे देश में प्राचीन काल में दूध-दही के नदियां बहती थी। सबके लिए पर्याप्त दूध-दही था। गौ माता के अभाव में यह सब देखने को भी नहीं मिल रहा। पृथ्वी और प्राणियों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए युवाशक्ति गौ संवर्धन करे। कथा से पूर्व यज्ञ हुआ। सत्यपाल, आराम सिंह मुख्य यजमान रहे।

इस मौके पर विमला, ज्योति, रानी, गुड्डी, सत्यवीर सिंह यादव, चरन सिंह, विद्यम सिंह यादव, रामलाल, नेत्रपाल सिंह, सतीश, संतोष, नफीरी सिंह, पप्पू, सोमदेव, राहुल, विकास, सोनू आदि मौजूद रहे।