Home » यू पी/उत्तराखण्ड » संतकबीरनगर- दिव्यांग बच्चों हेतु क्रीड़ा एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता का आयोजन_रिपोर्ट-बिट्ठल दास

संतकबीरनगर- दिव्यांग बच्चों हेतु क्रीड़ा एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता का आयोजन_रिपोर्ट-बिट्ठल दास

आज दिनांक 2 दिसंबर 2019 को उच्च प्राथमिक विद्यालय मगहर संत कबीर नगर में दो दिवसीय जनपद स्तरीय...

संतकबीरनगर- दिव्यांग बच्चों हेतु क्रीड़ा एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता का आयोजन_रिपोर्ट-बिट्ठल दास
Share Post


आज दिनांक 2 दिसंबर 2019 को उच्च प्राथमिक विद्यालय मगहर संत कबीर नगर में दो दिवसीय जनपद स्तरीय दिव्यांग बच्चों हेतुक्रीड़ा एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया कार्यक्रम का प्रारंभ दिनांक 2 दिसंबर से होकर समाप्ति 3 दिसंबर 2019 को होगीका कार्यक्रम का शुभारंभ श्री प्रमोद कुमार यादव परियोजना निदेशक डीआरडीए संतकबीरनगर द्वारा दीप प्रज्वलन एवं जनपदीय ध्वज का आरोहण कर कर किया गया स्वागत के क्रम में एक्सिलरेटर लर्निंग कैंप में अध्ययनरत श्रवण बाधित बालिका अंशिका यादव को द्वारा मुख्य अतिथि महोदय को बेस लगाकर स्वागत किया गया इसी प्रकार विद्यालय के प्रधानाध्यापक श्री निसार अहमद श्रीमती संध्याराय एवं श्रीमती मधु यादव का स्वागत क्रमशः वार्डन दयाशंकर यादव स्पेशल टीचर तृप्ता सिंह रंजना चौधरी द्वारा किया गया मुख्य अतिथि महोदय को खेलकूद प्रतियोगिता की टोपी पहनाकर जिला समन्वय समेकित शिक्षा रजनीश वैद्यनाथद्वाराएवं वार्ड मेंबर श्री सुक्तम मुस्तफा का स्वागत बैच व टोपी लगाकर किया गया विद्यालय के प्रधानाध्यापक एवं अन्य विशिष्ट अतिथियों का स्वागत क्रमशः सुनील चौबे अनुदेशक अर्चना त्रिपाठी विशेष शिक्षक का सविता उपाध्याय विशेष शिक्षा द्वारा टोपी पहनाकर किया गया कार्यक्रम में दृष्टिबाधित बालिका रंजना खुशबू एवं विधि द्वारा स्वागत गीत व सरस्वती वंदना की प्रस्तुति की गई मानसिकता से ग्रस्त बच्चा लकी द्वारा एक कविता पाठ किया गयादृष्टिबाधित बालिका रंजना द्वारा बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ पर एक गीत भी प्रस्तुत किया गया अपने उद्बोधन में विशिष्ट अतिथि श्री निसार अहमद ने इन बच्चों का हौसला बढ़ाते हुए यह अनुरोध किया कि इनकी काबिलियत को परखा जाए तथा इसे निखार आ जाए रुके विशेष बच्चे हैं इन्हें विशेष तरह के प्रशिक्षण के साथ-साथ सामान्य बच्चों के साथ भी जोड़ा जाए अपने आशीर्वचन के रूप में श्री प्रमोद कुमार यादव जिला परियोजना अधिकारी ने कहा कि ऐसे बच्चों की प्रतिभाओं को निखारने की जरूरत है इनके अंदर प्रतिभा की किसी भी प्रकार की कमी नहीं है बस इन्हें एक सही दिशा की आवश्यकता है और वह सही दिशा समाज का हर व्यक्ति मिलकर ही दे सकता है आवश्यकता इस बात की है कि अध्यापक विशेष अध्यापक शिक्षा विभाग के लोग एवं जिला प्रशासन संयुक्त रूप से प्रयास करते हुए जनपद के सम्मानित नागरिकों का सहयोग प्रदान लेते हुए इन बच्चों के लिए कुछ अलग से करने की योजना बनाई जाए और मुझे जब भी बच्चों की याद किया जाएगा मैं सदैव उपस्थित हूं तथा मैं जिलाधिकारी महोदय से अनुरोध करूंगा की एक बार इन बच्चों के बीच आकर अपना आशीर्वचन अवश्य दें कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापित करते हुए जिला समन्वय समिति शिक्षा रजनीश ने बताया किइस वर्षविश्व दिव्यांग दिवस पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम को दो दिवस करने हेतु प्रस्ताव जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को प्रस्तुत किया गया था जिसकी सहरसा सुकृति जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी महोदय ने प्रदान की विशेष अध्यापकों एवं कैप में कार्यरत अध्यापकों वार्डन के सहयोग से दो दिवसीय कार्यक्रम 2 दिसंबर से प्रारंभ होकर 3 दिसंबर को समाप्त होगा जनपद के विभिन्न प्राथमिक विद्यालयों में लगभग 12 बच्चे दिव्यांग अध्ययनरत हैं बच्चों की संख्या बढ़ाने के लिए सर्वेक्षणों के दौरान प्रधानाध्यापक एवं परिषदीय अध्यापकों का सहयोग आवश्यक है जिससे अधिक से अधिक बच्चों को चिन्हित कर शिक्षा की मुख्यधारा में जोड़ा जा सके तथा उनके सर्वांगीण विकास हेतु तहसील स्तर के कार्यक्रमों के साथ-साथ जनपद स्तर कार्यक्रम आयोजित किया जा सके कार्यक्रम में दयाशंकर यादव सविता उपाध्याय अर्चना त्रिपाठी विश्वनाथ विश्वकर्मा धर्मेंद्र चौधरी वीरेंद्र चौधरी अर्जुन प्रसाद रंजना चौधरी विद्यालय के शिक्षक अनुदेशक सुनील चौबे सहित क्षेत्र के गणमान्य व्यक्ति एवं उपस्थित रहे