Home » यू पी/उत्तराखण्ड » सुल्तानपुर--सांसद मेनका गांधी ने पब्लिक से फूल के बदले मांगे 1रुपए,पैर छूने से किया मना कहा नमस्कार करें अच्छा लगेगा, देखिए वीडियो_रिपोर्ट:-अज़हर अब्बास

सुल्तानपुर--सांसद मेनका गांधी ने पब्लिक से फूल के बदले मांगे 1रुपए,पैर छूने से किया मना कहा नमस्कार करें अच्छा लगेगा, देखिए वीडियो_रिपोर्ट:-अज़हर अब्बास

डाक्टर प्रियंका केस पर बोली आरोपियों को फांसी दी जानी चाहिए, इन्हें जीने का कोई अधिकार नहीं...

Share Post



डाक्टर प्रियंका केस पर बोली आरोपियों को फांसी दी जानी चाहिए, इन्हें जीने का कोई अधिकार नहीं



सुल्तानपुर---पूर्व मंत्री मेनका गांधी ने रविवार को मंच से कहा कि मुझे फूल न दें। अगर देना ही है तो मुझे एक रुपए का सिक्के दे दें। वो सिक्के हम जरूरतमंदों को दे देंगे। मेनका गांधी ने लोगो से ये भी कहा कि मेरे पैर न छुये, नमस्कार करें मुझे बहुत अच्छा लगेगा। वो आज जयसिंहपुर के इमिलिया सिकरा गांव में कम्बल वितरण के कार्यक्रम में शामिल होने पहुंची थी।

शनिवार को दो दिवसीय दौरे पर अपने संसदीय क्षेत्र सुल्तानपुर पहुंची मेनका गांधी ने आज दौरे के दूसरे दिन वो कूरेभार ब्लाक के इंग्लिश मीडियम महमूदपुर प्राथमिक विद्यालय में बच्चों को स्वेटर वितरित करने पहुंची। यहां उन्होंने आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि सुलतानपुर में सबसे अधिक विद्यालयों को जनप्रतिनिधियों व समाजसेवियों द्वारा गोंद लिया गया है। ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को बेहतर सुविधाएं मिल सके इसके लिए यह पहल सराहनीय है। इस पहल से विद्यालयों में सुविधाएं और बेहतर होंगी। साथ ही जनप्रतिनिधियों की निगरानी में वहां की शिक्षा में गुणवत्ता भी आएगी। कार्यक्रम में मौजूद महिलाओं से उन्होंने पेंशन संबंधित जानकारी ली। साथ ही मातहतों को निर्देश दिया कि यहां पर कैंप लगाकर जो पात्रता सूची में आते हो उनके आवेदन लिए जाएं।

जयसिंहपुर के अमिलिया सिकरा में दुर्गा सेवा समिति द्वारा आयोजित कंबल वितरण कार्यक्रम में भी वो शामिल हुई। जहां उन्होंने गरीबों, निराश्रितों और जरूरतमन्दों को कंबल वितरित किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने दुर्गा सेवा समिति के अध्यक्ष संजय सिंह की सराहना करते हुए कहा कि जरूरतमन्दों की सेवा करना पुनीत कार्य है। जो भी व्यक्ति सक्षम है। उसे गरीबों और निराश्रितों की सेवा के लिए आगे आना चाहिए।

हैदराबाद में पशु चिकित्साधिकारी से सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर उसका शव जलाए जाने की घटना को मेनका गांधी ने गंभीरता से लिया। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को फांसी दी जानी चाहिए, इन्हें जीने का कोई अधिकार नहीं है। हैदराबाद कांड के सामने आने पर वह बेहद आक्रोशित मुद्रा में दिखाई दिखीं। तल्ख अंदाज में और गुस्से में उन्होंने आरोपियों को फांसी दिए जाने की वकालत की। संसद में और सख्त कानून बनाए जाने की बात पर मेनका गांधी ने कहा कि जम्मू के कठुआ में हुए कांड के बाद संसद में इस पर कानून बना, जिसका क्रियान्वयन चल रहा है।