Home » यू पी/उत्तराखण्ड » भाजपा में जिलाध्यक्ष पद को लेकर उठे विद्रोह के बाद भी कुर्सी के लिए जिला उपाध्यक्ष सहित दो दर्जन से अधिक लोगों ने ठोकी ताल_रिपोर्ट - शैलेश सिंह ।

भाजपा में जिलाध्यक्ष पद को लेकर उठे विद्रोह के बाद भी कुर्सी के लिए जिला उपाध्यक्ष सहित दो दर्जन से अधिक लोगों ने ठोकी ताल_रिपोर्ट - शैलेश सिंह ।

संतकबीरनगर - भारतीय जनता पार्टी में जिलाध्यक्ष की कुर्सी को लेकर कल दिन बुधवार को सुबह से ही पार्टी...

भाजपा में जिलाध्यक्ष पद को लेकर उठे विद्रोह के बाद भी कुर्सी के लिए जिला उपाध्यक्ष सहित दो दर्जन से अधिक लोगों ने ठोकी ताल_रिपोर्ट - शैलेश सिंह ।
Share Post


संतकबीरनगर - भारतीय जनता पार्टी में जिलाध्यक्ष की कुर्सी को लेकर कल दिन बुधवार को सुबह से ही पार्टी कार्यालय पर गहमा - गहमी का महौल रहा । कार्यालय की ओर जो भी नामांकन के लिए आ रहा था वही अपने आप को जिलाध्यक्ष पद का प्रबल दावेदार बता रहा था । अभी हाल ही में अध्यक्ष पद को लेकर उठे विद्रोह के बाद भी जिलाध्यक्ष की कुर्सी के लिए पूर्व जिलाध्यक्ष सहित दो दर्जन से अधिक लोगों ने ताल ठोकी है । जिलाध्यक्ष पद के लिए लगभग 33 लोगों ने अपनी - अपनी दावेदारी दाखिल किया है । जिला चुनाव अधिकारी दिलीप पटेल ने सभी दावेदारों का नामांकन फारवर्ड कर प्रदेश मुख्यालय भेजा है । अध्यक्ष पद के लिए जिला उपाध्यक्ष भूपेंद्र त्रिपाठी समेत सेतभान राय , राजेश सिंह , संजीव राय , रामललित चौधरी , दयाराम कन्नौजिया , मनोज पाण्डेय सहित कई लोगों ने नामांकन किया ।

*बतातें चलें कि* अभी हाल में ही भाजपा में जिलाध्यक्ष की कुर्सी को लेकर अभी दो दिन पहले जिला उपाध्यक्ष अजीत सिंह ने सोशल मीडिया के माध्यम से विद्रोह का बिगुल फूका था और आरोप लगाया था कि जो व्यक्ति वर्ष 2012 में अपने जिलाध्यक्ष के कार्यकाल में विधानसभा मेंहदावल में सभी मंडल अध्यक्षों के साथ पार्टी से विपरीत जाते हुए जनता दल यू के प्रत्याशी का समर्थन किए थे , और 2017 के चुनाव में भी नगर पंचायत चुनाव में विरोध किए थे , उसके बाद भी पार्टी ने उनको अध्यक्ष बना दिया । पूर्व जिला उपाध्यक्ष ने यह भी आरोप लगाया कि लोकसभा चुनाव में पार्टी प्रत्याशी के खिलाफ कार्य करने के बावजूद जिलाध्यक्ष पद के लिए फिर से छटपटाहट शुरु है।