Home » यू पी/उत्तराखण्ड » संतकबीर नगर-क्षेत्र में आधी रात को जलती रही पराली प्रशासन बना निरंकुश _रिपोर्ट:-नूर आलम सिद्दीकी

संतकबीर नगर-क्षेत्र में आधी रात को जलती रही पराली प्रशासन बना निरंकुश _रिपोर्ट:-नूर आलम सिद्दीकी

सेमरियावां।संतकबीरनगर-प्रशासन के द्वारा जागरूकता अभियान चलाकर एवं किसान पराली को खेतो में न जलायें...

संतकबीर नगर-क्षेत्र में आधी रात को जलती रही पराली प्रशासन बना निरंकुश _रिपोर्ट:-नूर आलम सिद्दीकी
Share Post


सेमरियावां।संतकबीरनगर-प्रशासन के द्वारा जागरूकता अभियान चलाकर एवं किसान पराली को खेतो में न जलायें जिसके लिए प्रशासन ने सख्त रूप अपनाया हैं।फिर भी क्षेत्रीय किसानों द्वारा फसलों के अवशेष को खेतो में जलाने की प्रक्रिया पर प्रशासन द्वारा निरंकुश लगाने में असफलता साफ दिख रही हैं।जिसका जीता जागता नमुना क्षेत्र दुधारा परसा सिवान में पूरब दिशा की ओर आधी रात को खेतों में किसानों द्वारा पराली जलाते हुए देखा गया।किसान बेखौफ होकर खेतों में धान की पराली जला रहे हैं।

बताते चले कि खेतों में पराली जलाने से जहां वायू प्रदुषण बढ़ रहा है,वहीं भूमि की उपजाऊ क्षमता भी कम हो रही है।हालांकि प्रशासन ने पराली जलाने वालों पर निगरानी रखने के लिए कर्मचारियों की जिम्मेदारी तय की है लेकिन स्थानीय थाना क्षेत्र के इर्द गिर्द आधी रात को पराली जलाने का सिलसिला जोरो पर हैं प्रशासन के प्रतिबंध के बावजूद भी किसान बेखौफ होकर खेतों में धान की कटाई के बाद बचे फसल अवशेष का निस्तारण करने के बजाए इसे खेतों में ही जला रहे हैं पराली जलने से जहा इसका धुआं वातावरण के प्रदूषण में बढ़ोत्तरी कर रहा है वहीं खेती के लिए मुफीद माने जा रहे जीवाश्म को भी नुकसान पहुंच रहा है।

इस बाबत एसओ दुधारा गौरव सिंह ने बताया कि दुधारा परसा सिवान में शुक्रवार की पूरब दिशा में विगत रात में किसान द्वारा पराली जलाये जाने का मामला आया था मौके पर पहुंचकर उक्त व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था तप्तपश्चात एसडीएम सदर एसपी सिंह द्वारा पकड़े गये किसान के ऊपर खेत में पराली जलाने के एवज में लगाये गये जुर्माने की राशि का भरपाया कराकर उसे चेतावनी देकर छोड़ दिया गया।