Home » यू पी/उत्तराखण्ड » बदायूं-कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा में श्रद्वालुओं ने लगायी डुबकी_रिपोर्ट-संजीव सक्सेना

बदायूं-कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा में श्रद्वालुओं ने लगायी डुबकी_रिपोर्ट-संजीव सक्सेना

बदायूं-जनपद बदायूँ मे कादरचौक ककोडा रुहेलखंड का मिनी कुंभ मेला ककोड़ा में कार्तिक पूर्णिमा पर लाखों...

बदायूं-कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा में श्रद्वालुओं ने लगायी डुबकी_रिपोर्ट-संजीव सक्सेना
Share Post







बदायूं-जनपद बदायूँ मे कादरचौक ककोडा रुहेलखंड का मिनी कुंभ मेला ककोड़ा में कार्तिक पूर्णिमा पर लाखों श्रद्धालुओं ने हर गंगे, निर्मल गंगे के जयघोष के साथ पतित पावनी मां गंगा में श्रद्धा और आस्था की डुबकी लगाई। दान पुण्य किया। श्रद्धाओं का शाम से ही आने का सिलसिला शुरू हो गया था। सुबह तड़के ही श्रद्धालु गंगा स्नान के लिए गंगा तट पहुंचे। मां भागीरथी को प्रणाम कर स्नान आदि किया। श्रद्धालुओं ने अपने पूर्वजों और देवी देवताओं के नाम की भगत बजबाई। सत्यनारायण की कथा और विभिन्न स्थानों पर यज्ञ किए। श्रद्धालुओं ने मां गंगा की पहनान की। श्रद्धालुओं ने जलेबी, दही, पूरी, सब्जी आदि का भोग कराया। साथ ही उन्हें दान दक्षिण भी दी।

पीएसी के जवानों ने नाव से ड्यूटी की और श्रद्धालुओं को गहरे में स्नान करने से रोका। गंगा तट पर पर्याप्त मात्रा में महिलाओं के लिए चैंजिंग रूम नहीं थे।

-मेले में मीना बाजार में महिलाओं ने जमकर खरीददारी की, वहीं बच्चों ने अपने मंन पसंद खेल-खिलौने खरीदे।

-बच्चों और युवाओं ने विभिन्न मनोरंजक झूलों का आनंद लिया।

-पुलिस बल द्वारा मेले में मुस्तैदी से ड्यूटी की।

-स्काउट संस्था के प्रदेश उपाध्यक्ष महेश चंद्र सक्सेना के नेतृत्व में 100 स्काउट बच्चों द्वारा मेले में खोए बच्चों को उनके माता पिता से मिलाने, गंगा तट पर उठाईगीरों पर पैनी नजर रखने का कार्य किया जा रहा है। जिला मुख्यायुक्त डाॅ. वीरपाल सिंह सोलंकी ने बताया कि मेले में स्काउट ने 253 खोए बच्चों को उनके माता पिता से मिलाया। इस मौके पर नंदराम शाक्य, मु. असरार, सत्यपाल गुप्ता द्वारा सराहनीय सेवाएं की जा रहीं हैं।

-मेले में सांस्कृतिक मंच पर कठपुतली और सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए।

-मेले में डीएम कुमार प्रशांत, एसडीओ, एसएसपी अशोक कुमार त्रिपाठी, एसपी सिटी जेके सक्सेना ने खिलाड़ियों से हाथ मिलाकर खेलों का शुभांरभ कराया। गूंज सामाजिक शिक्षा समिति की ओर से कुश्ती प्रतियोगिता हुई। संस्था के चैयरमैन किशन चंद्र शर्मा ने बताया कि उझानी के भगवान दास को मेला ककोड़ा केसरी चुना गया। अलापुर के मुकेश द्वितीय स्थान पर रहे। अन्य कुश्तियों में ब्रजेंद्र एटा, कुमन कुमार रनऊ, विक्रांत कन्नौज, अमित कन्नौज के विजयी रहे। जबकि मुकेश, सत्यवीर, कुंदन, विक्रांत, पवन, बिजेंद्र ने द्वितीय स्थान पर रहे। मुकश अलापुर और विट्टू बजीरगंज की कुश्ती बराबर पर रही। बाॅलीबाल में नेहरु युवा केंद्र बदायंू की टीम पहले और पुलिस लाइन बदायंू की टीम दूसरे स्थान पर रही। कबड्डी में बिसौली की टीम ने प्रथम और उझानी की टीम ने द्वितीय स्थान पाया। 100 मी. दौड़ में उझानी के राम सरन यादव ने प्रथम, आसफपुर के बन्टृ यादव ने द्वितीय और बदायंू के शिवम श्रीवास्तव ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। डीएम कुमार प्रशांत, गूंज सामाजिक संस्था के सचिव राजन मेंदीरत्ता, उपाध्यक्ष हरवंश पहलवान और राकेश खंडूजा ने विजयी प्रतिभागियों को सम्मानित किया।

-अखिल विश्व गायत्री परिवार के मार्गदर्शन में निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत गंगा तट पर सफाई अभियान चलाया गया। यज्ञ के बाद आरती की गई। गायत्री परिजनों ने गायत्री मंत्र और महामृत्यंुज मंत्र की विशेष आहुतियां यज्ञ भगवान को समर्पित की। इस मौके पर सुखपाल शर्मा, रघुनाथ सिंह, नरेंद्र सिंह, रामवीर सिंह, नरेंद्र कुमार, डाॅ.वीपी शर्मा, कालीचरन, भवेश शर्मा आदि मौजूद रहे।

-हम सफर सामाजिक संस्था के तत्वावधान में मुख्य मार्ग पर श्रद्धालुओं को चाय, ब्रेड, बिस्कुट का वितरण किया गया। संस्था के प्रमुख हरिश्चंद्र सक्सेना ने बताया कि प्रथम सेवा संकल्प पर निःशुल्क सेवा का कार्य किया गया। इस मौके पर सचिन सक्सेना, डाॅ. अनिरुद्ध शर्मा, मयंक गुप्ता, सुधांशु सक्सेना, सुमन सक्सेना आदि मौजूद रहीं।

-कार्तिक पूर्णिमा के स्नान के बाद लाखों श्रद्धालुओं की घर वापसी शुरु हो गई। श्रद्धालु में निजी वाहनों से अपने घरों के लिए प्रस्थान करना शुरु कर दिया है।

-मेले में पुलिस के जवानों की लापरवाही के चलते अव्यवस्थाएं भावी हो गई। पिछले वर्ष से भी लम्बा जाम लग हाईवे पर लग गया। मेला स्थल से बदायंू नौशेरा तक 26 किलोमीटर तक का जाम लग गया। बड़ी मशक्कत के बाद जाम खुल सका पुलिस के हाथ पैर फूल गए। जाम में फंसे श्रद्धालु रात्रि अपने घर पहंुचे। जाम ने पिछले वर्ष की भी रिकाॅर्ड तोड़ दिया है।

-मेले के चलते कादरचैक क्षेत्र के अधिकाशं गांवों और कस्बों में दो तीन दिन से विद्युत व्यवस्था ठप चली रही है। यहां तक की कादरचैक थाने में भी कामकाज कैंडल से हो रहा है। इंवरटर भी डाउन पड़े हैं। विद्युत व्यवस्था ठीक न होने कारण अधिकांश गांव अंधेरे में डूबे हैं।

-ब्रह्मकुमारी ईश्रीय विद्यालय में आध्यात्मिक प्रदर्शनी लगाई और श्रद्धालुओं को ध्यान योग साधना की जानकारियां दी गई।