Home » यू पी/उत्तराखण्ड » संतकबीरनगर-मानसिक रोग दूर करने के लिए लोगों से जुड़ा रहना आवश्यक -सचिव_रिपोर्ट बिट्ठल दास

संतकबीरनगर-मानसिक रोग दूर करने के लिए लोगों से जुड़ा रहना आवश्यक -सचिव_रिपोर्ट बिट्ठल दास

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर आयोजित गोष्ठी-संतकबीरनगर : मानसिक बीमारियों से बचाव के लिए लोगों से...

संतकबीरनगर-मानसिक रोग दूर करने के लिए लोगों से जुड़ा रहना आवश्यक -सचिव_रिपोर्ट बिट्ठल दास
Share Post


विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर आयोजित गोष्ठी

-संतकबीरनगर : मानसिक बीमारियों से बचाव के लिए लोगों से जुड़ा रहना आवश्यक है। अपनी जीवनशैली को व्यवस्थित रखना चाहिए। इसके साथ ही पर्याप्त नींद लेना, समय पर आराम करना, उचित भोजन करना भी आवश्यक होता है। उक्त बातें जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव सत्य प्रकाश आर्या ने गुरुवार को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान कही।वे एडीआर भवन पर आयोजित कार्यक्रम को उपस्थित लोगों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आत्मविश्वास में कमी होना भी ठीक स्थिति नही है। उन्होंने कहा कि अपने परिवार और रिश्तेदारों के साथ थोड़ा वक्त बिताया जाना चाहिए।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी बीपी पांडे ने कहा कि मानसिक रोगियों के साथ काउंसलिंग आवश्यक है। डिप्रेशन एक व्यक्ति को आत्महत्या की ओर प्रेरित करती है। ऐसी स्थिति में निराशाजनक कार्यों से बचना चाहिये। वर्तमान परिवेश में स्मार्टफोन भी मानसिक रोगियों की तादाद बढ़ा रहे हैं। लोगों को सचेत रहना छाए।उन्होंने कहा कि ट्रांसमीटर से होकर सभी प्रमुख संदेश मनुष्य के मस्तिष्क तक पहुंचते हैं जिससे उन्हें हर वस्तु का आभास होता है और भी कोई निर्णय ले पाते हैं।जब इन ट्रांसमीटर की संख्या कम हो जाती है तो व्यक्ति की सोचने समझने की क्षमता कम हो जाती है। व्यक्ति मानसिक रूप से बीमार हो जाता है। इसके साथ ही उन्होंने मानसिक रोग जैसी बीमारी के कारण लक्षण और उपचार के विषय में विस्तार से बताया।प्राधिकरण के वरिष्ठ सहयोगी अधिवक्ता अन्जय कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि अनियमित कार्य से उतपन्न निराशा व्यक्ति को डिप्रेशन का शिकार बनाते है। इस वजह से हमें अपने कार्य सुनियोजित ढंग से करने का प्रयास करना चाहिये।मानसिक रोग की अवस्था मे जाड़-फूंक व इस तरह के अंधविश्वास से दूर रहना चाहिये।इस दौरान मुख्य रूप से रामभवन चौधरी, आनंद भारती बलदेव प्रसाद, जयशंकर समेत अन्य लोग मौजूद थे।