Home » यू पी/उत्तराखण्ड » सुल्तानपुर-मुख्यमंत्री विवाह योजना के तहत101 जोड़े विवाह के बंधन सूत्र में बंधे_रिपोर्ट:-अज़हर अब्बास

सुल्तानपुर-मुख्यमंत्री विवाह योजना के तहत101 जोड़े विवाह के बंधन सूत्र में बंधे_रिपोर्ट:-अज़हर अब्बास

सुल्तानपुर----मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत जिला पंचायत भवन मैदान में सामूहिक विवाह का...

सुल्तानपुर-मुख्यमंत्री विवाह योजना के तहत101 जोड़े विवाह के बंधन सूत्र में बंधे_रिपोर्ट:-अज़हर अब्बास
Share Post


सुल्तानपुर----मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत जिला पंचायत भवन मैदान में सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया। जिसमें विभिन्न धर्मों के 101 जोड़े विवाह के बंधन सूत्र में बंधे। बृहस्पतिवार को जिला पंचायत भवन मैदान में जिला अधिकारी एवं प्रशासन और सुल्तानपुर भाजपा विधायक ने नवदम्पत्तियों को आर्शीदवाद देते हुए अपने सम्बोधन में कहा कि जीवन में सबसे बड़ा दान कन्या दान ही माना जाता है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने सामूहिक विवाह कार्यक्रम आयोजित कर सबका साथ सबका करने का एक ऐतिहासिक काम किया है। कि किस प्रकार अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति का विकास किया जाए उसी सपने को साकार करने में उत्तर प्रदेश सरकार कार्यरत है। उन्होंने कहा कि ऐसे इतिहासिक कार्यक्रम करने से आपस में भाईचारा बढ़ता है। सरकार बिना किसी भेदभाव के गरीब परिवारों का सहयोग कर रही है। ऐसे आयोजन समय-समय पर होते रहना चाहिए।

सुल्तानपुर भाजपा विधायक सूर्यभान सिंह ने कहा कि केन्द्र तथा राज्य सरकार मिल कर कार्य कर रही है। गांव को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का हमारा प्रयास है। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री चिंतन कर रहे हैं कि देश के अंतिम छोर तक विकास कैसे किया जाए, उसी क्रम में सरकार काम कर रही है बिना किसी पक्ष पात के गरीबों का कार्य हो रहा है। कि इस ऐतिहासिक सामूहिक विवाह कार्यक्रम आयोजित कर जनपद ने एक नया इतिहास रचा है। जैसा सरकार का सपना है विकास गरीब लोगों तक पहुंचे ऐसे कार्यक्रमों से विकास की एक नई धारा देखने को मिली। वह मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह में जिन वर-वधुओं की शादी हो रही है, वह बड़े भाग्यशाली हैं। अपनी शादी में नेता, मंत्री और अधिकारियों को बुलाने के लिए लोग बार-बार निमंत्रण देते हैं और नहीं पहुंच पाते हैं। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह में सभी लोग मौजूद होकर वर वधुओं को आशीर्वाद दे रहे हैं। यह एक अद्भुत नज़ारा है। अब माता-पिता पर लड़कियां बोझ साबित नहीं होंगी। जिलाधिकारी इन्दुमतीमति ने कहा कि ऐसे कार्यक्रम समय-समय पर आयोजित होते रहेंगे जिससे समाज में आपसी मतभेद दूर होगा। सभी लोगों ने नव दंपत्तियों को आशीर्वाद दिया और सभी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह में सहयोग करने वाले सामाजिक संगठनों का भी आभार व्यक्त किया।