Home » यू पी/उत्तराखण्ड » संतकबीरनगर:- डी आई जी ने आतंकी साजिश से किया इंकार-खलीलाबाद रेलवे ट्रैक पर बम विस्फोट का मामला-सत्यमेव जयते लाइव की अपडेट रिपोर्ट

संतकबीरनगर:- डी आई जी ने आतंकी साजिश से किया इंकार-खलीलाबाद रेलवे ट्रैक पर बम विस्फोट का मामला-सत्यमेव जयते लाइव की अपडेट रिपोर्ट

संतकबीरनगर जिले के खलीलाबाद रेलवे स्टेशन सुबह हुए बम धमाके के बाद घायल नेपाली युवक जो कबाड़ बीनने...

👤 Ajay2017-03-28 09:57:20.0
संतकबीरनगर:- डी आई जी ने आतंकी साजिश से किया इंकार-खलीलाबाद रेलवे  ट्रैक पर बम विस्फोट का मामला-सत्यमेव जयते लाइव की अपडेट रिपोर्ट
Share Post


संतकबीरनगर जिले के खलीलाबाद रेलवे स्टेशन सुबह हुए बम धमाके के बाद घायल नेपाली युवक जो कबाड़ बीनने स्टेशन के निकट रेलवे ट्रैक पर गया था उसे मेडिकल कालेज भेजने के साथ पुलिस महकमे के साथ रेलवे प्रशासन मौके स्थल की गहन जांच पड़ताल में जुट गया है । आपको बता दे कि घटना के बाद जहाँ एसपी संतकबीरनगर हीरालाल मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल किये वहीँ फॉरेंसिक टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचे डी आई जी लक्ष्मीं नरायन श्रीवास्तव ने घटनास्थल का बारीकी से मुआयना किया । घटना स्थल पर तीन देशी बम भी वरामद हुए है जिसके बारे में पुलिस जांच पड़ताल कर रही है । पुलिस की प्राथमिक जांच का केंद्र विंदू बना बम वरादगी के साथ बिस्फोट में घायल हुए नेपाली युवक जो पेशे से कबाड़ी का कारोबारी है और कबाड़ बेचकर अपना जीवन यापन करता था जिसके होश में आने के बाद उससे पुलिस पूंछताछ करेगी । फिलहाल कबाड़ी नेपाली युवक जो नेपाल के सिलीगुड़ी का रहने वाला है उसकी स्थिति गम्भीर बनी हुई है जिसका बी आर डी मेडिकल कालेज गोरखपुर में इलाज चल रहा है ।। रेलवे स्टेशन से महज चन्द कदमो की दूरी पर कबाड़ बीन रहे एक नेपाली युवक के हाथ में बम फूटने की बड़ी घटना सामने आने के बाद रेल सुरक्षा पर भी सवालिया निशान उठ खड़े हुए है ।
घटनास्थल का मुआयना करने पहुंचे डी आई जी लक्ष्मी नरायन श्रीवास्तव ने किसी भी आतंकी हमले की साजिश से इंकार करते हुए कहा कि ये कोई आतंकी घटना नही है, जो बम वरामद हुआ है उसका पावर बड़ा नही है, वो एक सुतली बम है और इससे पटरी को कोई नुक्सान नही पहुँचता । फ़िलहाल घायल से पूँछ ताछ के अलावा उसके प्रोफ़ाइल की जांच की जा रही है, .

मौके पर पहुंचे बम निरोधक दस्ता के प्रभारी ब्रिज भान तिवारी ने कहा कि इस बम से किसी आदमी को इंजर्ड किया जा सकता है रेलवे ट्रैक को नही