Home » यू पी/उत्तराखण्ड » हापुड़:- योगी युग में डग्गामार वाहनों का संचालन जारी-प्रतिमाह सरकार को लगा रहे लाखों के राजस्व का चूना- वाहनों के खिलाफ कार्यवाही करने में पुलिस प्रशासन असहाय-सवारी भरने को लेकर डग्गामार व रोडवेज च

हापुड़:- योगी युग में डग्गामार वाहनों का संचालन जारी-प्रतिमाह सरकार को लगा रहे लाखों के राजस्व का चूना- वाहनों के खिलाफ कार्यवाही करने में पुलिस प्रशासन असहाय-सवारी भरने को लेकर डग्गामार व रोडवेज च

हापुड़-जनपद में डग्गामार वाहनों के संचालन से परिवहन विभाग को प्रतिमाह लाखों रुपये के राजस्व की...

👤 Ajay2017-03-24 10:41:04.0
हापुड़:- योगी युग में डग्गामार वाहनों का संचालन जारी-प्रतिमाह सरकार को लगा रहे लाखों के राजस्व का चूना- वाहनों के खिलाफ कार्यवाही करने में पुलिस प्रशासन असहाय-सवारी भरने को लेकर डग्गामार व रोडवेज च
Share Post



हापुड़-जनपद में डग्गामार वाहनों के संचालन से परिवहन विभाग को प्रतिमाह लाखों रुपये के राजस्व की हानि हो रही है। जिसे देख परिवहन विभाग के अधिकारियों ने डग्गामार वाहनों पर अंकुश लगाने के लिए पूर्व में जिलाधिकारी,उपजिलाधिकारी,पुलिस क्षेत्राधिकारी को कई बार पत्र भेजा जा चुका है। अब यूपी में योगी का युग शुरू होने के डग्गामार वाहनों संचालन बेदस्तूर जारी है। जानकारी होने के बावजूद भी उप सम्भागीय परिवहन विभाग के अधिकारी मूक दर्शन बने बैठे है।
आपको बता दें कि जनपद हापुड़ से मेरठ, गढ़,गाजियाबाद,बुलन्दशहर के लिए सैकड़ों की संख्या में डग्गामार वाहन संचालित है। जो सुबह से शाम तक विभिन्न मार्गों पर चलते देखे जा सकते है। रोडवेज चालकों और डग्गामार वाहनों में यात्रियों को लेकर आये दिन झगड़ा होता रहता है। हद तो तब हो गयी कि डग्गामार वाहन मेरठ रोड स्थित रोडवेज बस अड्डे के बाहर और अन्दर से सवारियां अपनी गाड़ी में बैठाने लगे है। जिसका विरोध करने पर वह रोडवेज चालकों एवं कर्मचारियों ने मारपीट पर उतारू हो जाते है। इन वाहनों के संचालन से प्रदेश सरकार को प्रतिमाह लाखों रुपयों की राजस्व की हानि हो रही है। सरकार को राजस्व की हानि होते देख रोडवेज के क्षेत्रीय सहायक प्रबंधक वर्षों से इन वाहनों के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए कई बार उपजिलाधिकारी,पुलिस क्षेत्राधिकारी व परिवहन विभाग के उच्चाधिकारियों को पत्र भी लिखते आ रहे है। लेकिन अभी तक डग्गामार वाहनों का संचालन धड़ल्ले से जारी है।
अब उत्तर प्रदेश में सत्ता परिवर्तन होने के बावजूद भी डग्गामार वाहनों का संचालन धड़ल्ले से हो रहा है। लेकिन सम्बंधित विभाग के अधिकारी कुंभकर्ण की नींद सो रहे है।