Home » यू पी/उत्तराखण्ड » बरेली से बड़ी खबर-बेसिक शिक्षा विभाग में भ्रष्टाचार का मामला उजागर-बेतन काटने की धमकी देकर ली जा रही थी रिश्वत- बी एस ए कार्यालय में वर्षो से चल रहे गोरखधंधे का पर्दाफाश_सुनील सक्सेना कि रिपोर्ट

बरेली से बड़ी खबर-बेसिक शिक्षा विभाग में भ्रष्टाचार का मामला उजागर-बेतन काटने की धमकी देकर ली जा रही थी रिश्वत- बी एस ए कार्यालय में वर्षो से चल रहे गोरखधंधे का पर्दाफाश_सुनील सक्सेना कि रिपोर्ट

बरेली:- बेतन बाधित और कटौती कर दिए जाने का खौफ दिखाकर बेसिक शिक्षा विभाग के कार्यालय में बैठे...

👤 Ajay2017-03-24 06:56:24.0
बरेली से बड़ी खबर-बेसिक शिक्षा विभाग में भ्रष्टाचार का मामला उजागर-बेतन काटने की धमकी देकर ली जा रही थी रिश्वत- बी एस ए कार्यालय में वर्षो से चल रहे  गोरखधंधे का पर्दाफाश_सुनील सक्सेना कि रिपोर्ट
Share Post



बरेली:- बेतन बाधित और कटौती कर दिए जाने का खौफ दिखाकर बेसिक शिक्षा विभाग के कार्यालय में बैठे जिम्मेदारों द्वारा अध्यापको से रिश्वत लेने का मामला सामने आने के बाद विभाग में हड़कम्प मच गया है ! बेसिक शिक्षा विभाग में चल रहे इस गोरखधंधे का पोल खुद शिक्षको ने खोली है जिसमे एबीएसए द्वारा अपने अधीनस्थों के जरिये अध्यापको से रिश्वत लेने का स्टिंग आपरेशन कर अब इसे डी एम् को सौंपा है ! क्या है पूरा मामला पेश है हमारे संवाददाता विकास सक्सेना की एक एक्सक्लूसिव रिपोर्ट
समय के साथ सत्ता बदली और बदले निजामो को देख हिम्मत जुटा पाए अध्यापको ने वो विडियो डी एम् को सौंपी है जो चार महीने पहले की है जिसमे महकमे के जिम्मेदारों एनपीआरसी और एबीआरसी द्वारा अध्यापको को डरा धमका कर मोटी रकम वसूली गई है ! बेसिक शिक्षा विभाग बरेली में इतने बड़े भ्रस्टाचार के खेल का भंडाफोड़ होने के बाद अब जिलाधिकारी ने जांचकर कार्यवाई की बात कही है !
आपको बता दें कि कभी चेकिंग के नाम पर तो कभी सेवा पुस्तिका बनाने के नामपर और बेतन बाधित इत्यादि को लेकर अध्यापको से दस दस हजार रूपये कि मांग करने वाले एनपीआरसी और एबीआरसी द्वारा हद से ज्यादे उत्पीड़न किये जाने से परेसान अध्यापको ने इसकी विडियो क्लिप बनाई और इसे डी एम् को सौंप कर दोषियों के खिलाफ कार्यवाई कि मांग की ! अध्यापको ने आरोप लगाया है कि बी.एस. ए. की मिली भगत से पूरे बरेली के वेसिक शिक्षा विभाग में रिश्वतखोरी का गोरखधंधा जोरो पर चल रहा है। जिसके तहत
पूरे शहर में प्राथमिक के मास्टरों को डरा डरा कर उनका वेतन काटने के नाम पर पिछले कई महीनों से डरा धमका कर वसूली की जा रही है इससे मानसिक रूप से प्रताडित हुए कुछ प्राथमिक मास्टरों ने भृष्टाचार के खिलाफ मुहिम छेड़ी दी। मामला बरेली के व्लाक मझगमा तहसील आंवला का है जहाँ के जलाल नगर प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक सूर्यकान्त , अध्यापक अमित कुमार और सह अध्यापक नरेंद्र कुमार ने अपने क्षेत्र के
ए. बी.स. ए. नरेंद्र कुमार सिंह के ऊपर आरोप लगाते हुए कहा कि लगभग एक साल से ये अध्यापको को मानसिक रूप से प्रताडित कर रहे है और आये दिन रिश्वत मांगते है। अपने अधिनस्त अध्यापक NPRC हरपाल गंगवार व ABRC राकेश कुमार उपाध्याय के जरिये स्कूलों की चेकिंग के नाम से रिश्वत मांगने और बेतन काटने कि धमकी के साथ सेवा पुस्तिका बनाने के नाम पर रिश्वत मांगते है ! आये दिन इनका भृष्टाचार जब चरम सीमा पर बढ़ गया जिसके चलते स्कूल के प्रधानाध्यापक सूर्यकान्त , अध्यापक अमित कुमार और सह अध्यापक नरेंद्र कुमार ने समय - समय पर इनकी वीडियो रिशवत लेने की वीडियो बना ली कई बार इन्होंने सोचा की इसको अधिकारियों को देदे। पर नौकरी का खतरा जानकर चुप रहे ।
लेकिन समय के साथ बदली सत्ता और नए निजाम के आ जाने के बाद अध्यापको में थोड़ी हिम्मत आई और अब जब वेतन निकासी की मांग पर ए. बी.स. ए. नरेंद्र कुमार सिंह ने इन अध्यापको से दस दस हजार रुपये की मांग की तो पानी सर से ऊपर हो जाने से इन अध्यापको ने डीएम बरेली को प्रार्थना पत्र के साथ वो वीडियो किलपिंग देते हुए जांच कर कार्यवाही करने की मांग की है !