Home » यू पी/उत्तराखण्ड » कौशाम्बी:- मन्दिर निर्माण के विबाद को लेकर अधिवक्ताओं और महिलावो के बीच मारपीट _ रमेश कुशवाहा की रिपोर्ट

कौशाम्बी:- मन्दिर निर्माण के विबाद को लेकर अधिवक्ताओं और महिलावो के बीच मारपीट _ रमेश कुशवाहा की रिपोर्ट

कौशाम्बी:- मंझनपुर जिला कचहरी मे अधिवक्ताओं के बैठने के लिए बने अड़तालीस खंभे से जुड़ी विवादित भूमि...

👤 Ajay2017-03-23 16:31:58.0
कौशाम्बी:- मन्दिर निर्माण के विबाद को लेकर अधिवक्ताओं और महिलावो के बीच मारपीट _ रमेश कुशवाहा की रिपोर्ट
Share Post


कौशाम्बी:- मंझनपुर जिला कचहरी मे अधिवक्ताओं के बैठने के लिए बने अड़तालीस खंभे से जुड़ी विवादित भूमि पर हो रहे मंदिर निर्माण को लेकर पड़ोस की महिलाओं व अधिवक्ताओं के बीच जमकर ईट-पत्थर चले| दोनों पक्षों की ओर से भरी कचहरी मे ईट-पत्थर चलाने से वहाँ अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया| मामले की सूचना पर जब तक मंझनपुर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुँचती तब तक हँगामा कर रहे अधिवक्ता भाग निकले व महिलाएँ पास के एक मकान मे छिप गई| पथराव करने वाली महिलाएँ कलेक्ट्रेट मे काम करने वाले एक सरकारी कर्मचारी के परिवार की थीं| सीओ सदर ने महिला थाने से पुलिस बुलाकर जिस मकान मे महिलाएँ छिपी थी उसके गेट का ताला तोड़वा सत्रह महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया|

जिला कचहरी मंझनपुर के सामने अधिवक्ताओं के बैठने के लिए अड़तालीस खंभा परिसर का निर्माण किया गया है| इसी स्थान से लगी हुई ज्कलेक्ट्रेट कर्मी अंगद सिंह की कुछ भूमि है| अधिवक्ताओं का कहना है कि अंगद सिंह ने पूर्व मे अपनी इस भूमि को मंदिर बनाए जाने के लिए लिखित तौर पर दान मे दे दिया था| मंदिर निर्माण शुरू हुआ तो अंगद सिंह ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय मे स्टे के लिए वाद दाखिल किया जो ख़ारिज हो गई| इसी भूमि पर अधिवक्ताओं ने मंदिर निर्माण शुरू कराया| जिसे रोकने के लिए अंगद सिंह की ओर से दो दर्जन महिलाए नौके पर पहुँच गई| जहाँ दोनों पक्षों मे पहले तो विवाद हुआ उसके बाद ईट-पत्थर चलाने लगे| भरी कचहरी ईट-पत्थर चलाने से वहाँ अफरा-तफरी मच गई| मामले की सूचना पर जब तक इलाकाई पुलिस कचहरी पहुँचती तब तक सभी महिलाए भाग कर अंगद सिंह के मकान मे जाकर छिप गई| इस पर सीओ मंझनपुर ने महिला थाने की पुलिस को बुलाकर मकान मे छिपी सत्रह महिलाओं को बाहर निकलवा थाना भेजवा दिया|
दूसरी ओर महिलाओं का कहना है कि वह निरमानधीन मंदिर को देखने गई थी जहाँ पर अधिवक्ता उनसे बदसलूकी कराते गुए गाली गलौच कर रहे थे| उन्होने विरोध किया तो उन पर ईट-पत्थर से हमला कर दिया| वह अपनी जान बचकर पड़ोस के मकान मे छिप गई थी| वहीं इस पूरे मामले मे एसपी वी के मिश्रा का कहना है कि विवादित भूमि को लेकर सरकारी कर्मचारी व अधिवक्ताओं मे पहले से ही ताना तनी बनी हुई थी आज अधिवक्ताओं ने उस पर निर्माण शुरू कराया तो पथराव हुआ है| कानून व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए विधिक कार्यवाही की जा रही है|