Home » यू पी/उत्तराखण्ड » बहराइच:- जिलाधिकारी अजयदीप सिंह ने किया सचल पशु चिकित्सा सेवा का शुभारम्भ-जनपद के 11 ब्लाकों में भेजे गये बहुउद्देशीय सचल वाहन_आलोक आनन्द श्रीवास्तव की रिपोर्ट

बहराइच:- जिलाधिकारी अजयदीप सिंह ने किया सचल पशु चिकित्सा सेवा का शुभारम्भ-जनपद के 11 ब्लाकों में भेजे गये बहुउद्देशीय सचल वाहन_आलोक आनन्द श्रीवास्तव की रिपोर्ट

बहराइच :- पशुधन विकास के लिए क्षेत्रीय आवश्यकताओं के अनुरूप विकास खण्ड स्तर से सुदूर ग्रामीण...

👤 Ajay23 March 2017 3:02 PM GMT
बहराइच:- जिलाधिकारी अजयदीप सिंह ने किया सचल पशु चिकित्सा सेवा का शुभारम्भ-जनपद के 11 ब्लाकों में भेजे गये बहुउद्देशीय सचल वाहन_आलोक आनन्द श्रीवास्तव की रिपोर्ट
Share Post



बहराइच :- पशुधन विकास के लिए क्षेत्रीय आवश्यकताओं के अनुरूप विकास खण्ड स्तर से सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों के पशुपालकों का विभागीय सेवाओं को लाभ प्रदान किये जाने के उद्देश्य से जिलाधिकारी अजयदीप सिंह ने कलेक्ट्रेट परिसर में आयोजित कार्यक्रम में जनपद के लिए बहुउद्देशीय सचल पशु चिकित्सा सेवाओं का शुभारम्भ किया तथा झण्डी दिखाकर 11 ब्लाकों के लिए बहुउद्देशीय सचल वाहनों को रवाना किया।
पशुपालन निदेशालय द्वारा आवंटित विकास खण्डों नवाबगंज, बलहा, मिहींपुरवा, रिसिया, चित्तौरा, पयागपुर, तेजवापुर, जरवल, कैसरगंज, हुजूरपुर एवं महसी के लिए वाहन रवाना किये गये बहुउद्देशीय सचल वाहन सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में बहुउद्देशीय सचल पशु चिकित्सा सेवा अन्तर्गत पशुपालकों को पशु चिकित्सा, कृत्रिम गर्भाधान, टीकाकरण, बांझपन निवारण आदि सेवाओं का लाभ प्रदान करने, किसी संक्रामक/महामारी रोग के फैलने की स्थिति में तत्काल रोकथाम, पशुओं में शत-प्रतिशत टीकाकरण, मेडिको लीगल केसेज़, कृत्रिम गर्भाधान के सापेक्ष फालोअप, सीरम सैम्पुल एकत्र करने जैसी सेवाएं प्रदान करेंगे।
वाहनों के संचालन के लिए दी गयी व्यवस्था के अनुसार प्रत्येक वाहन में चालक के अतिरिक्त 01-01 पशु चिकित्साधिकारी, पशुधन प्रसार अधिकारी/वेटनरी फार्मासिस्ट व चतुर्थ श्रेणी तथा 01 या 02 पैरावेट के बैठने की व्यवस्था की गयी है। वाहनों को ग्राम में घर-घर न ले जा कर 01 अथवा 02 स्थानों पर खड़ा कर वहीं से पशुपालकों को सुविधायें उपलब्ध करायी जायेंगी तथा उस ग्राम के ग्राम प्रधान/बीडीसी सदस्य/ग्राम पंचायत अधिकारी को पूर्व में सूचित भी किया जायेगा ताकि ज्यादा से ज्यादा पशुपालकों