Home » यू पी/उत्तराखण्ड » हापुड़:- मिनी मुगल गार्डन देखने उमड़ रही लोगों की भीड़ -गार्डन में दर्जनों प्रकार की विदेशी फूलों की वैरायटी-प्रतिवर्ष लाखों रुपये खर्च कर गार्डन तैयार में कराते है:अनिल अग्रवाल-गार्डन देखने आने व�

हापुड़:- मिनी मुगल गार्डन देखने उमड़ रही लोगों की भीड़ -गार्डन में दर्जनों प्रकार की विदेशी फूलों की वैरायटी-प्रतिवर्ष लाखों रुपये खर्च कर गार्डन तैयार में कराते है:अनिल अग्रवाल-गार्डन देखने आने व�

हापुड़-मोदीनगर रोड स्थित सरस्वती बाल मंदिर कालेज के प्रबन्धक ने अपने घर में मिनी मुगल गार्डन तैयार...

👤 Ajay2017-03-19 14:15:45.0
हापुड़:- मिनी मुगल गार्डन देखने उमड़ रही लोगों की भीड़ -गार्डन में दर्जनों प्रकार की विदेशी फूलों की वैरायटी-प्रतिवर्ष लाखों रुपये खर्च कर गार्डन तैयार में कराते है:अनिल अग्रवाल-गार्डन देखने आने व�
Share Post

हापुड़-मोदीनगर रोड स्थित सरस्वती बाल मंदिर कालेज के प्रबन्धक ने अपने घर में मिनी मुगल गार्डन तैयार कर लोगों को पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया है। जिसे देखने के लिए सुबह से शाम तक लोगों की भीड़ उमड़ रही है। वह पिछले 40 वर्षों से लोगों को पेड़ पौधे उगाने के लिए जागरूक करते आ रहे है। साथ ही लोगों को पौधे लगाने के लिए लोगों को नि:शुल्क देते है।
आपको बता दें,कि फूलों की विभिन्न प्रजातियां देखने के लिए लोग दिल्ली के राष्टï्रपति भवन में स्थित मुगल गार्डन की बात करते दिखाई देते है। लेकिन जनपद हापुड़ के लोग सरस्वती बाल मंदिर कालेज के प्रबन्ध अनिल अग्रवाल द्वारा ज्ञानलोक कालोनी में स्थित अपने घर में लाखों खर्च कर तैयार किये गये मिनी मुगल गार्डन की बात करते नहीं थक रहे है।
मिली मुगल गार्डन में विदेशी फूलों की दर्जनों प्रकार की प्रजातियां है। विदेशी फूलों को देखने के लिए सुबह से शाम तक लोगों की भीड़ लग रही है। मिनी मुगल गार्डन में दिल्ली के मुगल गार्डन से अधिक फूलों की प्रजातियां देखने को मिल रही है। अनिल अग्रवाल को फूल उगाने का शौक चार दशक से चला आ रहा है। वह फूल उगाकर लोगों को पर्यावरण संरक्षण का संदेश दे रहे है।
अनिल अग्रवाल ने बताया कि उनके मिनी मुगल गार्डन में हॉलैंड के रैननकुलस,पिटानिया,पेंजी,सिनेनेरिया,साल्विया,डॉग फ्लावर,डेहलिया,जरेबरा आदि प्रजातियों के विदेशी फूल खिल रहे है। गार्डन बनाने के लिए वह नैनीताल,पूना,बेंगलूरू,दिल्ली आदि से फूलों के बीज भी लाते है। चार माह की कड़ी मेहनत के साथ गार्डन तैयार होता है,तो प्रतिवर्ष मार्च माह में होली के आस-पास हो जाता है।
उन्होंने बताया कि मिली मुगल गार्डन देखने आने वाले लोगों को वह एक-एक पौधा गिफ्ट कर पर्यावरण संरक्षण व पेड़ पौधे लगाने का संदेश दे रहे है। लोग गार्डन बनाने के लिए अनिल अग्रवाल से सलाह व तकनीक की जानकारी प्राप्त करने आ रहे है।
अनिल अग्रवाल ने बताया कि उनका किठौर रोड पर फार्म हाउस है। जिसमें 200 प्रकार के गुलाब के फूलों की प्रजातियां है। उसमें गुलाब के फूल तैयार होने पर उन्हें जगन्नाथपुरी,वृंदावन में बांके बिहारी,हापुड़ के चंडी मंदिर प्राचीन मंशा देवी मंदिर में श्रृंगार के लिए फूल भेजे जाते है।