Home » यू पी/उत्तराखण्ड » शाहजहांपुर :- बी जे पी विधायक पुत्र की दबंगई के आगे वेबस खाकी_अभिषेक सिंह चौहान की रिपोर्ट

शाहजहांपुर :- बी जे पी विधायक पुत्र की दबंगई के आगे वेबस खाकी_अभिषेक सिंह चौहान की रिपोर्ट

शाहजहांपुर। उत्तर प्रदेश जब दबंगई की बात आती है तो सबसे पहले समाजवादी पार्टी का नाम सबसे पहले आता...

👤 Ajay2017-03-16 15:55:08.0
शाहजहांपुर :- बी जे पी विधायक पुत्र की दबंगई के आगे वेबस खाकी_अभिषेक सिंह चौहान की रिपोर्ट
Share Post

शाहजहांपुर। उत्तर प्रदेश जब दबंगई की बात आती है तो सबसे पहले समाजवादी पार्टी का नाम सबसे पहले आता है। लेकिन अब प्रदेश की सत्ता बदल चुकी है तो लोगों को कुछ राहत मिलने के आसार लगने थे। लेकिन सत्ता का नशा सभी पार्टी के नेताओ को चङ जाता है। ऐसा ही दबंगई का मामला एक बीजेपी विधायक के बेटे का सामने आया है। जहां अब विधायक के बेटे की दबंगई के आगे लाचार हो गई। यहां तक कि अब पूरा थाना स्टाफ एसपी से थाने से दूसरे थाने के लिए तबादले की गुहार लगा रहा है। इस गुहार का कारण है कि बीते बुधवार को विधायक के पैट्रोल पंप पर किसी युवक से पैट्रोल पंप के कर्मचारियों का विवाद हो गया था जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। मौके पुलिस तो पहुची लेकिन उससे पहले विधायक के बेटे वहां पहुच गए और उस युवक को गाड़ी मे जबरन डालकर ले गए हालांकि पुलिस ने विधायक के बेटे के चंगुल से उस युवक को काफी छुङाने की कोशिश करते रहे। लेकिन कामयाब न हो सके। जिसके बाद पूरे थाना स्टाफ ने एसपी से दूसरे थाने ये तबादला करने की गुहार लगाई है।


दरअसल मामला निगोही थाना क्षेत्र का है। इस क्षेत्र से बीजेपी विधायक रोशन लाल वर्मा है।जो अपनी दबंगई के लिए जाने जाते। खास बात ये है कि विधायक रोशन लाल वर्मा के बेटो पर विधायक होने का नशा ज्यादा सवार रहता है जिसके कारण अब निगोही थाने की पुलिस भी घबराने लगी है। इस बात से अंदाजा लगा सकते है कि विधायक के बेटो की दबंगई किस हद होगी कि पूरे थाने के एसओ से लेकर सिपाहियों ने एसपी से तबादले के मांग कर दी है। एसओ अवनीश यादव ने बताया कि बीती रात उनके फोन पर विधायक रोशन लाल वर्मा के फोन नंबर से काॅल आई। उनके गनर ने फोन पर कहा कि विधायक जी कहे रहे हैं कि उनके पैट्रोल पंप पर कुछ लङके विवाद कर रहे हैं। उसके बाद जब वह पैट्रोल पंप पहुचे तो वहां पर विधायक का बेटा सचिन आ गया। उसके साथ मे करीब 15 से 20 लोग साथ मे थे। एसओ के माने तो हम उस युवक से पूछताछ कर रहे थे। तभी सचिन वे आते ही उसको मेरे सामने पीटना शुरू कर दिया। उसके जबरन उस युवक को अपनी गाड़ी मे डालकर कहीं ले गए। जबकि उन्होंने उस युवक को विधायक के बेटे के चंगुल से छुङाने की कोशिश की लेकिन वह अकेले थे। कुछ देर बाद विधायक के बेटे का फोन आया कि ये मेरे परिवार का लङका है मेरा कोई विवाद नहीं है। जिसके बाद एसओ अवनीश यादव थाने वापस आ गए।


एसओ अवनीश यादव ने बताया कि, फोन आने के पांच मे ही वह पैट्रोल पंप पर पहुचे गए थे तो फिर विधायक के बेटे को इस तरह से उस युवक को पीटना उसके बाद मेरे सामने उस युवती को जबरन अपनी गाङी मे डालकर ले जाना ये तो सत्ता की हनक दिखाना है। उनका कहना है कि उनके पास उस युवक की तरफ से कोई तहरीर नही आई है अगर हमे तहरीर मिलेगी तो हम कार्यवाही जरूर करेंगे।


आपको बता दें विधायक रोशन लाल वर्मा के बेटे की दबंगई सामने आने के बाद अब पुलिस भी उस थाने मे खुद को महफूज़ नही मान रही है। ये घटना होने के बाद जब एसओ थाने पहुचे तो वहां पर थाने मे सिपाहियों और एसओ समेत पूरे थाने स्टाफ ने एसपी को एक लेटर लिखकर तबादले की गुहार लगाई है। एसओ का कहना है कि इस मामले मे जब आलाधिकारी पूछेंगे तो उनको बता दिया जाएगा। फिलहाल अब लगता है कि निगोही थाने की पुलिस बीजेपी विधायक के बेटे से इतना घबरा गई है कि थाने सभी पुलिस कर्मियों ने सामुहिक तबादले की गुहार लगा दी।

मामला सत्ता पक्ष के विधायक से जुङा होने के कारण पुलिस के आलाधिकारी इस मामले मे कुछ भी बोलने को तैयार नही है।