Home » यू पी/उत्तराखण्ड » मथुरा:- धर्म की नगरी मथुरा में मासूम के साथ अत्याचार-चोरी का आरोप लगाकर मासूम को घर से किया बेघर_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट

मथुरा:- धर्म की नगरी मथुरा में मासूम के साथ अत्याचार-चोरी का आरोप लगाकर मासूम को घर से किया बेघर_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट

मथुरा:- ऎसी ब्रज नगरी जहा भगवान कृष्ण का आशीर्वाद सभी आने बालो को मिलता है मगर एक मासूम ऐसी भी है...

👤 Ajay14 March 2017 2:24 PM GMT
मथुरा:- धर्म की नगरी मथुरा में मासूम के साथ अत्याचार-चोरी का आरोप लगाकर मासूम को घर से किया बेघर_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट
Share Post


मथुरा:- ऎसी ब्रज नगरी जहा भगवान कृष्ण का आशीर्वाद सभी आने बालो को मिलता है मगर एक मासूम ऐसी भी है जिसक़े सर से माँ बाप का साया उठ जाने के बाद उसने ये कभी नहीं सोचा था की इस दुनिया में ऐसे भी लोग है जो उसकी मज़बूरी का फायदा उठाएंगे जब की उसे नहीं पता था मेहनत की कीमत ये होती है की चोरी का इल्जाम लगाकर घर से निकल दिया

ये बच्ची जब पेदा हुई तो उसे नही पता था क़ि मां अपनी ममता का आंचल हटाकर किसी और के साथ चली जायेगी मगर उसके भाग्य में तो दर दर की ठोकर खाना लिखा था जब पिता का साया रह गया तो उसने सोचा कि बाप माँ की कमी नहीं होने देंगे मगर मासूम की तक़दीर ने फिर धोखा दिया पिता ने भी दूसरी शादी रचा ली यह इसकी बदकिस्मत ही नहीं तो और क्या थी कि मां-बाप के रहते हुए भी वह अनाथ थी बस एक बूढ़ी दादी ही थी जिसने उसको सहारा देकर किसी तरह से पाला और पोसा लेकिन दादी भी 5 साल पहले गुजर गई लिहाजा यह मासूम अपनी बड़ी बहन के साथ लोगों के घर में कामकाज कर दो वक़्त की रोटी कमा रही थी और शांति से आपइसी जीवन व्यतीत कर रही थी तभी इन को अमित कटारा नाम का व्यक्ति मिला जो की 32 सिविल लाइन सदर बाजार क्षेत्र का रहने वाला था उसने सुन्दर सपने दिखाय और नौकरानी के रूप में राजी कर लिया मगर एक बार अमित कटारा के घर में घुसने के बाद उसे नही पता था की जिस घर में आई है वो जेल वन जायेगी और जिसका डर था वही हुआ वो घर में बंधुआ मजदूर बन गई दिन भर काम करना और जब घर के लोग बाहर जाते तो ताला लगाकर जाते जिससे ये भाग ना जाये हद तो तब हो गई जब ₹15000 के पुराने नोटों की चोरी का आरोप लगाकर इस मासूम को क्रिकेट के बैट से जानवरों की तरह पीटा गया यहां तक कि उसके बाल भी काट दिए गए 5 दिन पूर्व किसी तरह बंधन मुक्त होकर यह मासूम रोटी गोदाम के रहने वाले कालीचरण के पास पहुंची तो उसकी दशा देखकर कालीचरण के भी आंखों में आंसू आ गए कालीचरण ने मीना को घर में पनाह देते हुए वाढ पुरा निवासी सामाजिक कार्यकर्ता सुरेश सैनी से संपर्क साधा सामाजिक कार्यकर्ता सुरेश सैनी जब उसे लेकर थाना सदर बाजार पहुंचे तब जाकर 12 वर्षीय मासूम मीना का मेडिकल हो सका थाने पहुंची मासूम मीना ने अपने साथ हुई अमानवीय उत्पीड़न की जानकारी दी।कालीचरण ने वादा किया कि इस बच्ची को मेँ रखने को तैयार हूँ मीना को वैसे ही रखेगा जैसे उसके बच्चे रहते हैं। और इस मामले में एक रिपोर्ट भी दर्ज कराई है अब देखना होगा पुलिस इस मासूम को कब तक न्याय दिलवा पाती है और अमित जैसे दरिनदो को सजा देती है ।