Home » यू पी/उत्तराखण्ड » संतकबीरनगर:- खलीलाबाद विधान सभा में निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी बिगाडा कईयों का खेल _ छोटी पार्टियों एवं निर्दलीय प्रत्याशियों ने 22 हजार से अधिक मतों पर किया कब्जा _मो.अदनान की रिपोर्ट

संतकबीरनगर:- खलीलाबाद विधान सभा में निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी बिगाडा कईयों का खेल _ छोटी पार्टियों एवं निर्दलीय प्रत्याशियों ने 22 हजार से अधिक मतों पर किया कब्जा _मो.अदनान की रिपोर्ट

संतकबीरनगर:- विधानसभा 313 खलीलाबाद में पूर्व में हूये विधानसभा चुनाव की तरह इस चुनाव में बड़ी...

👤 Ajay2017-03-12 13:24:17.0
संतकबीरनगर:- खलीलाबाद विधान सभा में निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी बिगाडा कईयों का खेल _ छोटी पार्टियों एवं निर्दलीय प्रत्याशियों ने 22 हजार से अधिक मतों पर किया कब्जा _मो.अदनान की रिपोर्ट
Share Post

संतकबीरनगर:- विधानसभा 313 खलीलाबाद में पूर्व में हूये विधानसभा चुनाव की तरह इस चुनाव में बड़ी पार्टी के प्रत्याशियों को पटखनी देने में कहीं न कहीं निर्दलीय प्रत्याशियों के योगदान से इनकार नहीं किया जा सकता है । छोटी पार्टियों एवं अन्य निर्दलीय प्रत्याशी जिनकी संख्या लगभग 17 थी । इन लोगों ने 22 हजार से अधिक मतों पर कब्जा किया जो कईयों को पटखनी देने के लिये काफी था ।
निर्वाचित भाजपा विधायक जय चौबे 72061 मत एवं रनर रहे बसपा प्रत्याशी मशहूर आलम चौधरी 56024 जो 16037 मतों अपनी सीट गवां बैठे कहीं न कहीं इसमें भी 22 हजार से अधिक मत पाने वाले प्रत्याशियों का योगदान रहा । लगातार खलीलाबाद विधानसभा से बसपा प्रत्याशी एवं पिछली बार मात्र चार हजार से अधिक वोटों से मात मशहूर आलम चौधरी ने इस बार अपने मतों में कूछ बढ़ोतरी तो की लेकिन इस बार भी उनका विधायक बनने का सपना अधूरा ही रहा ।
तो वहीं मौजूदा विधायक एवं पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. मो.अयूब भी अपनी सीट नहीं बचा पाये और खिसककर तीसरे नंबर पर पहुंच गये । पिछली बार उन्होंने अधिकतर मुस्लिम मतों के सहारे 56 हजार से अधिक वोटों पर कब्जा कर विधानसभा में पहुंचे थे । लेकिन इस बार उनके वोटों में भी भारी सेंध लगी और खिसक कर 42 हजार वोट पर पहुंच गये ।
सपा से मुस्लिम एवं नये चेहरे के रूप में पहली बार विकास के नाम पर मैदान में उतरे जावेद खां 28 हजार से अधिक मतों के साथ चौथे स्थान पर खिसक गये एवं मोदी लहर से पार नहीं पा पाये ।
तो वहीं इस बार पूरे दम-खम के साथ विधानसभा चुनाव में दस्तक देने वाली हैदराबाद के सासंद असदुद्दीन ओवैसी के पार्टी एआईएमआईएम के प्रत्याशी हाजी तफ्सीर खां अपनी जमानत भी नहीं बचा पाये और मात्र 2578 वोट पाकर छटवे स्थान पर खिसक गये ।
भाजपा से बगावत कर लोकदल से ताल ठोकने वाले गंगा सिंह सैंथवार भी कुछ खास नहीं कर पाये और लगभग सात हजार मतों के साथ पांचवे स्थान पर खिसक गये ।
कुल मिलाकर निर्दलीय प्रत्याशियों का 22 हजार से अधिक मत बसपा एवं पीस पार्टी पर काफी भारी पड़ा है । खैर अब तो जो होना था हो चुका ।मोदी लहर की पूरे प्रदेश ऐसी आंधी चली कि सारे मुद्दे हवा हो गये और विपक्षी पार्टियों की तो हालत एकदम खराब हो गयी