Home » यू पी/उत्तराखण्ड » रामपुर:- महिला दिवस पर विचार गोष्ठी का आयोजन_जीशान खां की रिपोर्ट

रामपुर:- महिला दिवस पर विचार गोष्ठी का आयोजन_जीशान खां की रिपोर्ट

रामपुर: :- रामपुर में आज महिला समाज कल्याण समिति रामपुर ने आज एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया इस...

👤 Ajay2017-03-08 08:20:41.0
रामपुर:- महिला दिवस पर विचार गोष्ठी का आयोजन_जीशान खां की रिपोर्ट
Share Post


रामपुर: :- रामपुर में आज महिला समाज कल्याण समिति रामपुर ने आज एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया इस कार्यक्रम का उद्देश्य यह था कि महिलाओं के प्रति जागरूकता पैदा करना भारतीय संस्कृति हमेशा महिलाओं का सम्मान करना सिखाती है और जब जब महिलाओं का अपमान हुआ है तब तब इस धरा पर महाभारत जैसे युद्द देखने को मिले हैं। एक समय था जब हमारे देश में नारी को सम्मान के साथ देखा जाता था और महिलाओं को देवी और लक्ष्मी का रूप मानकर पूजा जाता था,लेकिन बदलते युग के इस दौर में इंसान अपने चरित्र से इस कदर नीचे गिर गया है कि उसके लिए स्त्री एक पूजनीय और इज्जत का रूप न रहकर केवल उपभोग की वस्तु समझी जाने लगी है। जो कही न कही हमारे समाज के एक बुरे और संकीर्ण मानसिकता की सोच को दर्शाता है। भारतीय संस्कृति में महिलाओं को देवी का दर्जा प्रदान किया गया है और कहा गया है कि जहां पर इन देवी रुपी नारियों का सम्मान नहीं होता वहां सम्पूर्ण मानव जाति का विनाश हो जाता है। हमारी संस्कृति में कन्या के जन्म को धन की देवी माँ लक्ष्मी के आगमन के रूप में देखा जाता है। लेकिन बदलते परिवेश के इस दौर में महिलाओं को लेकर अनेक प्रकार की कुरीतियों का भी जन्म हुआ है जैसे दहेज हत्या , कन्या भ्रूण हत्या, महिलाओं को शिक्षा का अधिकार न देना, समाज में केवल उपभोग की वस्तु समझना ऐसी तमाम बुराईया जन्म ले चुकी हैं जो समाज को अंदर ही अन्दर खोखला कर रही हैं। भले ही हमारे समाज में आज भी महिला को अबला समझा जाता है लेकिन अगर कोई महिला मन से ठान ले तो वह सफलता का वह परचम लहरा सकती है जिसकी कल्पना हम पुरुष भी नहीं कर सकते। समाजवादी पार्टी ने हमेशा महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने का काम किया है।महिलाओं के प्रति सम्मान , समाज निर्माण में योगदान, जात पात से उपर उठाना, राजनीति में आबे बढ़ाना, समाज में फैली कुरीतियों और समाज में महिलाओं को बराबरी का दर्जा दिलाना हम सभी का कर्तव्य है।महिला दिवस के अवसर पर महिलाओं की तरक्की सुनिश्चित कर समाज निर्माण में अपना योगदान देने का प्रण लेने का आहवान किया।
Attachments area