Home » यू पी/उत्तराखण्ड » पीलीभीत :- नहीं हाथ आया खुनी बाघ, वन विभाग की काम्बिंग फेल_विकास सक्सेना की रिपोर्ट

पीलीभीत :- नहीं हाथ आया खुनी बाघ, वन विभाग की काम्बिंग फेल_विकास सक्सेना की रिपोर्ट

पीलीभीत-रम्पुरा गांव में वन विभाग द्वारा बाघ की तलाश में की गई कांबिंग असफल हो गयी,। दिन भर चार...

👤 Ajay2017-03-08 07:23:33.0
पीलीभीत :- नहीं हाथ आया खुनी बाघ, वन विभाग की काम्बिंग फेल_विकास सक्सेना की रिपोर्ट
Share Post



पीलीभीत-रम्पुरा गांव में वन विभाग द्वारा बाघ की तलाश में की गई कांबिंग असफल हो गयी,। दिन भर चार हाथी लगातार इस खेत से उस खेत तक घुसकर बाघ को पकडने के लिए घुसते रहे,। लेकिन हर बार उनको निराशा ही मिली,। बाघ की सही स्थिति न मिलने के कारण जेसीबी मशीन भी खडी रही,। दो दिन पूर्व ग्राम रम्पुरा में बाघ के हमले में एक किशोर की मौत हो गई थी। सोमवार को बाघ को पकडने के लिए हाथियों से गश्त की गई थी। चार हाथी और टाईगर ट्रेकिंग टीम व् बाघ विशेषज्ञ रम्पुरा गांव पहुंच गईं। लेकिन दिन भर की मशक्कत के बाद भी बाघ नजर नहीं आया,। पीलीभीत टाईगर रिजर्व के प्रभागीय वनाधिकारी कैलाश प्रकाश, सामाजिक वानिकी प्रभाग के प्रभागीय निदेशक आदर्श कुमार के नेतृत्व में टीमें इधर से उधर घूमती रही,। लेकिन बाघ का कही अता-पता नहीं लगा,|हलाकि वन विभाग के अधिकारियो ने मानव-वन्य जीव संघर्ष की घटनाओं को रोकने के लिए पांच टीमों का गठन किया है। इन टीमों ने ग्राम रम्पुरा, वनकटी, सैहजनियां, माला रेंज के अन्तर्गत् सघन कम्बिंग की। कम्बिंग में चार हाथियों की भी सहायता ली गयी। किसी भी स्थान पर टाइगर के पग मार्क नहीं पाये गये।बताया जा रहा है की बाघ की सही लोकेशन मिलने तक सघन कम्बिंग अभियान चलायेगी।
आपको बता दें की इस सर्च ऑपरेशन के लिए पवनकली,गंगाकली सहित चार हथिनियों को भी इस मिशन में लगाया गया है,|वही जिला शाहजहापुर,बदायू,लखीमपुर और बरेली से 21 सदस्यीय टीम गठित की गई है,जिसको इको सेंसटिव 18 गाँवो को शामिल किया गया है,और 5 सेकक़्टरों में बाँट कर लगातार कॉबिंग की प्रक्रिया जारी है,|इसके लिए बाघ की निगरानी के लिए आसपास खेतो में लगभग 20 हाईटेक कैमरे लगाए गए है,|जिससे बाघो की प्रतिक्रिया पर नजर रखी जा सके,|