Home » यू पी/उत्तराखण्ड » शाहजहांपुर:- सिंथेटिक दूध फैक्ट्री का भंडाफोड़- राइस मिल के आड़ में चल रही थी फैक्ट्री_अभिषेक सिंह चौहान की रिपोर्ट

शाहजहांपुर:- सिंथेटिक दूध फैक्ट्री का भंडाफोड़- राइस मिल के आड़ में चल रही थी फैक्ट्री_अभिषेक सिंह चौहान की रिपोर्ट

शाहजहांपुर:- । यूपी के शाहजहांपुर में बीती रात पुलिस और एसडीएम की छापेमारी मे सिंथेटिक दूध की...

👤 Ajay2017-03-07 10:35:38.0
शाहजहांपुर:- सिंथेटिक दूध फैक्ट्री का भंडाफोड़- राइस मिल के आड़ में चल रही थी फैक्ट्री_अभिषेक सिंह चौहान की रिपोर्ट
Share Post


शाहजहांपुर:- । यूपी के शाहजहांपुर में बीती रात पुलिस और एसडीएम की छापेमारी मे सिंथेटिक दूध की फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। ये फैक्ट्री पिछले काफी वक्त से बंद पङी राईस मिल मे चल रहा थी। यहां से छापेमारी के दौरान पुलिस ने नकली दूध से भरे हुए तीन ड्रम नकली दूध बनाने के उपकरण और और साथ ही एक तमंचा और कारतूस की एक पेटी बरामद की है। छापेमारी के दौरान फैक्ट्री से आठ सौ लीटर नकली दूध बरामद किया है। जिस वक्त पुलिस बंद पङे मिल के अंदर घुसी तो वहां पर काम कर रहे मजदूर मौके से फरार हो गए। फिलहाल पुलिस एसडीएम की मौजूदगी में बरामद किए नकली दूध के नमूने जांच के लिए भेज दिए है।


मामला कलान थाना क्षेत्र के मदनपुर गांव का है इस गांव में पिछले काफी समय से एक राईस मिल बंद पङा था। लेकिन उस मिल मे मजदूरों का आना जाना बराबर लगा रहता था। आसपास के लोग इस बात को समझ नही पा रहे थे। क्योंकि उस मिल मे जाने वाले मजदूर आसपास के लोगो से बात नही करते थे और न ही उस मिल का राज बताते थे। एक दिन कुछ ग्रामीणों मे उस मे रात के वक्त झांक कर देखा तो वहां पर कुछ ड्रम मे सफेद चीज ड्रमों मे पलटी जा रही थी। जिसके बाद कुछ ग्रामीणों को शक हुआ और दिन मे एक दूसरे से कानाफूसी होने लगी। धीरे धीरे जब ये बाद पुलिस और तहसीलदार कृष्ण मुरारी दीक्षित के कानो तो पहुची तो उन्हे इस बात पर विश्वास नहीं हुआ और उन्होंने इस फैक्ट्री के राज के बारे मे पता लगाने को कहा जिसके बाद पुख्ता जानकारी एसडीएम और पुलिस के पास पहुच गई। जिसके बाद बीती रात एसडीएम और कलान पुलिस ने इस फैक्ट्री मे छापेमारी की जिसमे मौके से तीन ड्रम मे करीब आठ सौ लीटर नकली दूध बराम किया है। मौके से दूध बनाने के उपकरण भी बरामद किए है इसके अलावा वहां से एक तमंचा और एक कारतूस की पेटी बरामद कि है। छापेमारी की भनक लगते ही फैक्ट्री मे काम करने वाले मजदूर दिवार फांदकर फरार हो गए। फिलहाल नकली दूध के नमूने जांच के लिए भेज दिए है। और साथ उस फैक्ट्री मालिक और नकली दूध बनाने वाले लोगों के बारे मे पुलिस जानकारी जुटा रही है।


ग्रामीणो की माने तो इस फैक्ट्री से रात के अंधेरे मे कई गाड़ियों को आते जाते देखा जाता था। जिसमे कुछ ट्रक के अवाला पिकअप गाड़ियां भी होती थी उन गाड़ियों मे ड्रम भरकर इधर से उधर किए जाते थे। छापेमारी के बाद अधिकारीयों को आशंका है कि इस फैक्ट्री मे बनने वाला दूध यहां के आवाला आसपास के जिलों मे भी सप्लाई किया जाता था। अब पुलिस को पता लगाना है कि इस नकली दूध की सबसे ज्यादा खपत किस जिले मे होती थी। फिलहाल ये जांच के बाद ही साफ हो पाएगा।


कलान के एसडीएम हरिशंकर यादव का कहना है। फैक्ट्री से बरामद दूध के नमूने लिए गए है इसकी प्रयोग शाला मे जांच कराई जाएगी। जांच के बाद आगे की कार्यवाही तय की जाएगी।