Home » यू पी/उत्तराखण्ड » बलिया:-लोग सीख गये तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा का हुनर-बैरिया विधान सभा एक नजर-खामोश मतदाता बने हैरानगी का सबब-प्रत्याशी उत्साह मे ज्यादा, विश्वास मे कम_मुकेश मिश्र की जमीनी रिपोर्ट

बलिया:-लोग सीख गये तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा का हुनर-बैरिया विधान सभा एक नजर-खामोश मतदाता बने हैरानगी का सबब-प्रत्याशी उत्साह मे ज्यादा, विश्वास मे कम_मुकेश मिश्र की जमीनी रिपोर्ट

बैरिया:- प्रत्याशी, मतदाता, समर्थक, संबंध, आचरण, हनक, वोट कांट्रैक्टर, वोट कटवा सब पर भारी पड़ रहे...

👤 Ajay2017-02-23 10:24:32.0
बलिया:-लोग सीख गये तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा का हुनर-बैरिया विधान सभा एक नजर-खामोश मतदाता बने हैरानगी का सबब-प्रत्याशी उत्साह मे ज्यादा, विश्वास  मे कम_मुकेश मिश्र की जमीनी रिपोर्ट
Share Post


बैरिया:- प्रत्याशी, मतदाता, समर्थक, संबंध, आचरण, हनक, वोट कांट्रैक्टर, वोट कटवा सब पर भारी पड़ रहे हैं बैरिया विधानसभा क्षेत्र में साइलेंट वोटर। एक-एक कर आए ताबड़तोड़ चुनावो ने मानो बैरिया विधानसभा क्षेत्र के भोली-भाली मानसिकता वाले मतदाताओं का मन मिजाज सतर्कता में बदल दिया है। वोट मांगने पहुंचने वाले प्रत्याशियों और कार्यकर्ताओं को अपनी बातों से पूरी तरह से संतुष्ट कर भेजने वाले सामान्य मतदाताओ के चेहरों पर प्रत्याशियों के हटते ही उभरने वाली रहस्य भरी मुस्कान समीकरण बाजो व चुनावी रणनीतिकारों के लिए हैरानी का सबब बन गया है। मानो जनप्रतिनिधियों के लिए "तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा" के हुनर से द्वाबा के आमजन हुनरमंद हो गए हो।


बैरिया विधानसभा क्षेत्र में मतदाताओं की खामोशी अपने आप में वाचाल भी लगती है। इस बार के चुनावी माहौल मे कहीं ना कहीं जनप्रतिनिधियों के वादाखिलाफी, विकास की कसक व कठिन परिस्थितियों मसलन आग की घटनाओं बाढ़ व कटान की विभीषिका की चित्कार सी ध्वनित हो रही है।

विधानसभा के चुनावी समर में भाजपा, सपा, बसपा व दो निर्दलीय कुल 5 प्रत्याशी दमदारी से चुनाव लड़ रहे हैं। द्वाबा के राजनीतिक परिदृश्य पर अलग-अलग सभी के संघर्ष में सबसे आगे होने, जनता की पसंद होने के बुलबुले उठ कर मतदाताओं की खामोशी देख शांत हो जा रहे हैं। यहां के प्रत्याशियों के समर्थकों द्वारा और कुछ हद तक फेसबुक, वाट्सप ऐप पर व चट्टी चौराहों पर टैंपो हाई करने की पूरजोर कोशिशे जारी है। लेकिन ऐसे लोगों की संख्या मतदाताओं की तुलना में मुट्ठी भर है। प्रत्याशी व उनके प्रचार की अलग-अलग टीमें अहले सुबह से देर रात तक समर्थन व वोट मांगने तथा खुद कार्यकर्ताओं और पार्टी का उद्देश्य बताने में दिन रात एक किए हुए हैं। इस संवाददाता ने तीन अलग-अलग प्रत्याशियों द्वारा अलग-अलग गांवो में जनसंपर्क कर के निकलने के तुरंत बाद उन गांव के लोगों का मन-मिजाज टटोलने का प्रयास किया ।नतीजा आश्चर्यजनक सामने आया। वोट की ठेकेदारी प्रथा अब समाप्त होती नजर आ रही है। हर मतदाता अपना निर्णय खुद लेने की बात समझता तथा अपने वोट का महत्व जानता नजर आया। लोग खुद अपना निर्णय ले रहे हैं। काफी हद तक जातीयता व आंख बंद कर किसी के कहने भर से चल देने वाली बात शायद अब इस बार के चुनाव में सामने ना आए। लोग अपनी उम्मीदों के आधार पर प्रत्याशियों की मेरिट तैयार करते महसूस किए गए। जनता प्रत्याशियों के व्यक्तित्व का मूल्यांकन कर रही है। यद्यपि कि मतदान में अभी काफी समय है। फिर भी वोट कांट्रेक्टरों के दिन जाते और जनता के बीच उनकी अपेक्षाओं के अनुरूप ही प्रत्याशी बन कर आने वाले अच्छे दिन आते नजर आ रहे हैं । भोज, पानी, दारु मुर्गा,आवाभगत को जनसामान्य ठीक उसी अंदाज में तवज्जो दे रहे है जैसे जनप्रतिनिधि अब तक अपना आश्वासन देते आए हैं। जनता बदल रही है। हालात ऐसे लग रहे है जैसे प्रत्याशी उत्साह मे ज्यादा लेकिन विश्वास मे कम है।