Home » यू पी/उत्तराखण्ड » शामली:- रात के अँधेरे में चल रहा अवैध रेत का कारोबार_राहुल राणा की विशेष रिपोर्ट

शामली:- रात के अँधेरे में चल रहा अवैध रेत का कारोबार_राहुल राणा की विशेष रिपोर्ट

जनपद शामली में खुलेआम सुप्रीमकोर्ट के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही है, जिले में कई जगहों पर अवैध...

👤 Ajay2017-02-16 10:47:33.0
शामली:- रात के अँधेरे में चल रहा अवैध रेत का कारोबार_राहुल राणा की विशेष रिपोर्ट
Share Post

जनपद शामली में खुलेआम सुप्रीमकोर्ट के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही है, जिले में कई जगहों पर अवैध रेत खनन का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है थाना झिंझाना क्षेत्र हो या फिर कोतवाली कैराना क्षेत्र ही क्यूँ न हो, रेत माफिया जमकर जिले में खनन का कारोबार कर रहे है, गाँव बल्हेड़ा, बसेड़ा, बिड़ोली, व् कई जगहों पर यमुना खादर मे बडै पैमाने पर अवैध रेत खनन शुरू हो चूका है ...खनन माफिया पानी की धार यूपी की ओर मोडकर फॉकलैंड व जेसीबी मशीनो से यमुना मे अवैध बालू खनन कर रहे है .. रात के अँधेरे में माफिया ज्यादा सक्रिय नजर आते है, हर रोज 200 से ज्यादा वाहनों को रेत से भरकर दूसरी जगहों पर पहुँचाया जा रहा है, रेत से भरे ट्रैक्टर ट्राली व् ट्रक पुलिस चौकी के सामने से गुजरते है लेकिन नोटों की खनक के सामने पुलिस कर्मी भी आँखे मूंदे नजर आ रहे है, रेत से भरे वाहनों को रोकने की जहमत कोई नहीं उठाना चाहता, इस अवैध कारोबार में जिले के कुछ अधिकारी भी मिले हुए है, तभी तो खनन माफियाओं पर अभी तक कोई ठोस कार्यवाही नहीं हो पा रही है, बालू माफियाओ के गुर्गे हथियारो के बल पर यमुना मे खनन करने में लगे है.. खनन चलने की जानकारी जिले के उच्च अधिकारियों को भी है शिकायत के बाद कई बार छापेमारी भी की गई लेकिन अभी तक कार्यवाही के नाम पर सिर्फ लीपापोती होती दिखाई दी है। सुप्रीमकोर्ट द्वारा खनन पर रोक के आदेश के बावजूद माफिया इस अवैध धंधे में लगे हुए है.. लेकिन स्थानीय पुलिस प्रशासन माफियाओ के सामने बेबस नजर आ रहा है, बल्हेड़ा गाँव में आधा दर्जन फॉकलैंड मशीनों को यमुना नदी के पास उतारकर सैकड़ो ट्रैक्टर ट्राली व् ट्रक को रेत से भरकर भेजा जाता है, माफिया इस धंधे में हर रोज लाखो रूपये वारे के नारे करने में लगे है, हालांकि जब जिलाधिकारी से इस मामले में बात की गई तो उन्होंने सुचना होने की जानकारी कहते हुए कार्यवाही का आश्वासन दिया है , लेकिन सवाल यही उठता है की क्या रेत माफियाओ के हौसले इसी तरह बुलंद रहेंगे, या फिर वाकई रेत माफियाओ पर जिला प्रशासन का शिकंजा कसेगा ।।