Home » धर्म/ज्योतिष » 16 को चंद्रग्रहण, घर से बाहर न निकले गर्भवती महिलाएं, समय तथा सूतक का रखे ध्यान- ज्योतिषाचार्य सुजीत श्रीवास्तव

16 को चंद्रग्रहण, घर से बाहर न निकले गर्भवती महिलाएं, समय तथा सूतक का रखे ध्यान- ज्योतिषाचार्य सुजीत श्रीवास्तव

ज्योतिषाचार्य सुजीत कुमार श्रीवास्तव के अनुसार आषाढ़ मास की गुरु पूर्णिमा 16 जुलाई को है।16 जुलाई को...

16 को चंद्रग्रहण, घर से बाहर न निकले गर्भवती महिलाएं, समय तथा सूतक का रखे ध्यान- ज्योतिषाचार्य सुजीत श्रीवास्तव
Share Post


ज्योतिषाचार्य सुजीत कुमार श्रीवास्तव के अनुसार आषाढ़ मास की गुरु पूर्णिमा 16 जुलाई को है।16 जुलाई को ही खंडग्रास चंद्रग्रहण रात्रि 01 बजकर 31 मिनट से प्रारंभ होकर 17 जुलाई प्रातः 04:31 पर समाप्त होगा।सूतक 16 जुलाई को सायंकाल 04:30 बजे लग जाएगा।यह ग्रहण धनु राशि के उत्तराषाढा नक्षत्र में लग रहा है।

सूतक काल से लेकर ग्रहण काल तक मंदिरों के कपाट बन्द रहते हैं।इस बीच किसी भी भगवान या देवी देवता की मूर्ति को स्पर्श नहीं करना चाहिए।चंद्रग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए।इस दौरान कोई भी शुभ कार्य मत करें।भोजन न ही पकाएं और न ही ग्रहण करें।

चंद्रग्रहण का राशियों के अनुसार उपाय--

1मेष-सुंदरकांड का पाठ करें।हनुमान जी की उपासना करें।मसूर की दाल का दान करें।

2वृष-श्री सूक्त का पाठ करें।दुर्गासप्तशती का पाठ करें।चावल का दान करें।

3मिथुन-श्री विष्णुसहस्रनाम का पाठ करें।मूंग का दान करें।श्री गणेश उपासना करें।

4कर्क-शिव उपासना करें।श्री रामचरितमानस के अरण्यकाण्ड का पाठ करें।

5सिंह-हनुमान जी की उपासना करें।गेहूं तथा गुड़ का दान करें।

6कन्या-विष्णु उपासना करें।श्री रामचरितमानस का पाठ करें।

7तुला-श्री सूक्त का पाठ करें।सिद्धिकुंजिकस्तोत्र का पाठ करें।चावल का दान करें।

8वृश्चिक-हनुमान चालीसा का 108 बार पाठ करें।गेहूं का दान करें।

9धनु-इसी राशि पर ग्रहण है।भगवान के नाम का जप करें।अन्न दान करें।

10मकर-सुंदरकांड का पाठ करें।हनुमान जी की उपासना करें।गुड़ का दान करें।

11कुंभ-हनुमान बाहुक का पाठ करें।अन्न तथा गुड़ का दान करें।

12मीन-श्री विष्णुसहस्रनाम का पाठ करें।अन्न तथा मीठे चीजों का दान करें।

चंद्रग्रहण के बाद स्नान इत्यादि करके घर के मंदिर को गंगाजल से धो कर पुनः पूजा और हवन करें।दान का अपना विशेष महत्व है।