Home » धर्म/ज्योतिष » मथुरा:- द्वारकाधीश होली का भक्त जमकर ले रहे है आनन्द_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट

मथुरा:- द्वारकाधीश होली का भक्त जमकर ले रहे है आनन्द_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट

मथुरा:- मथुरा के प्रसिध्द द्वारिकाधीश मंदिर में दिन रोज होली का उल्लास बढ़ता ही जा रहा है। अबीर और...

👤 Ajay10 March 2017 12:21 PM GMT
मथुरा:-  द्वारकाधीश होली का भक्त जमकर ले रहे है आनन्द_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट
Share Post

मथुरा:- मथुरा के प्रसिध्द द्वारिकाधीश मंदिर में दिन रोज होली का उल्लास बढ़ता ही जा रहा है। अबीर और गुलाल के साथ साथ होली के मदमस्त गीतों के साथ भगवान के भक्त जमकर आनंद ले रहे है ।भक्तों ने आज भगवान के साथ रंगो से खूब होली खेली और इस होली में देश से ही नहीं बल्कि विदेशी श्रद्धालुओं ने भी जमकर रंग और गुलाल उड़ाया, साथ ही यहाँ आये लोगों ने एक दूसरे को बागी रंग और गुलाल लगाया
ब्रज में पूरे 40 दिन तक चलने वाली होली का रंग अब अपने सुरूर में दिखने लगा है ।ब्रज के प्रायः सभी मंदिरों में भगवान् और भक्तों के बीच होली खेलने का दौर शुरू हो चूका है । मथुरा के प्रसिद्ध द्वारिकाधीश मंदिर में हर दिन होने वाली इस होली में सवसे पहले सेवायत पुजारियों द्वारा भगवान् को गुलाल और पिचकारी से रंग लगाया जाता है और उसके वाद वही पुजारी मंदिर में आये दर्शनार्थियों पर भी खूब जमकर रंग और गुलाल उड़ाते हुए होली में सराबोर कर देते है । क्यूँ की यहाँ पर आने वाले हर भक्त की कामना होती है की उनपर भी भगवान् की भक्ति में सराबोर कर देने वाला ये रंग पड़े और वो भी द्वारिकाधीश का आशीर्वाद और उनकी कृपा प्राप्त करे। आज भी मंदिर के प्रांगण में मौजूद भक्तो ने होली की मस्ती में मस्त होकर होली मधुर गीतों पर नाचते गाते हुए खूब आंनद लिया। द्वारिकाधीश मंदिर में आये श्रद्धालुओ से बात की गयी तो उनका कहना था कि उन्हें मथुरा आकर बहुत अच्छा लगता है और द्वारिकाधीश जी हमें बुलाते है और हम उनके दर्शन के लिए आते है । ब्रज में जो होली होती है वो पुरे देश में जो होली होती हैं उससे बिलकुल अलग है ।बृज में होली एक अनोखे तारीखे से होती हैं और यहाँ आकर सभी दुःख और कष्टो का निवारण हो जाता है । बृज में होली का पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है और यहाँ जो भी आता है होली के समय वो भगवान के रंग में रंगना चाहता है और जिसपर भगवान का रंग या गुलाल पड़ जाता है, उसपर भगवान की कृपा हो जाती है।