Home » धर्म/ज्योतिष » मथुरा:- ब्रज की छड़ी वाली होली के रंग में डूबी गोकुल नगरी_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट

मथुरा:- ब्रज की छड़ी वाली होली के रंग में डूबी गोकुल नगरी_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट

मथुरा :- ब्रज मै होली की धूम चारों ओर है हर कोई रंगों की मस्ती मै मस्त है और भगवान के साथ होली...

👤 Ajay9 March 2017 4:14 PM GMT
मथुरा:- ब्रज की छड़ी वाली होली के रंग में डूबी गोकुल नगरी_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट
Share Post


मथुरा :- ब्रज मै होली की धूम चारों ओर है हर कोई रंगों की मस्ती मै मस्त है और भगवान के साथ होली खेलकर अपने को धन्य कर रहा है.इसी भाव से आज भगवान बल कृष्ण की नगरी गोकुल मै होली खेली गई.यहाँ की होली की विशेषता ये थी की यहाँ पर लाठियों की जगह छड़ी से होली खेली जाती है./ भगवान श्री कृष्ण का जन्म मथुरा मै हुआ.लेकिन उनका बचपन गोकुल मै गुजरा.यही भाव आज तक गोकुल्बसियों के अन्दर है.यही कारण है की यहाँ की होली आज भी पूरे ब्रज से अलग है.भक्ति भाव से भक्त सबसे पहले बाल गोपाल को फूलों से सजी पालकी मै बैठाकर नन्द भवन से मुरलीधर घाट ले जाते है जहाँ भगवान बगीचे मै बैठकर भक्तों के साथ होली खेलते है.जिस समय बाल गोपाल का डोला नन्द भवन से निकलकर मुरलीधर घाट तक पहुँचता है उस दौरान श चल रहे भक्त होली के गीतों पर नाचते है गाते है और भगवान के डोले पर पुष्प बरसा करते है ./:सैकंडों वर्षों से चली आ रही इस होली की सबसे खास बात ये है की जब भगवान बगीचे मै बैठकर भक्तों के साथ होली खेलते है उस दौरान हुरियारिन भगवान और श्रद्धालुओं के साथ छड़ी से होली खेलती है ,ब्रज मै सभी जगह होली लाठियों से खेली जाती है लेकिन गोकुल मै भगबान का बाल स्वरुप होने के कारण होली छड़ी से खेली जाती है जिसका आनंद न केवल गोकुल वाले बल्कि देश के कई इलाकों से हजरों भक्त भी लेते है.