Home » धर्म/ज्योतिष » मथुरा:- बरसाना में लट्ठमार होली की रही धूम-देश के कोने कोने से आये श्रद्धालु _मदन सारस्वत की रिपोर्ट

मथुरा:- बरसाना में लट्ठमार होली की रही धूम-देश के कोने कोने से आये श्रद्धालु _मदन सारस्वत की रिपोर्ट

मथुरा :- विश्व प्रसिद्ध बरसाना की लट्ठमार होली बड़े ही उत्साह और उमंग के साथ खेली गई.राधारानी रुपी...

👤 Ajay2017-03-06 15:24:22.0
मथुरा:- बरसाना में लट्ठमार होली की रही धूम-देश के कोने कोने से आये श्रद्धालु _मदन सारस्वत की रिपोर्ट
Share Post


मथुरा :- विश्व प्रसिद्ध बरसाना की लट्ठमार होली बड़े ही उत्साह और उमंग के साथ खेली गई.राधारानी रुपी गोपियों ने नंदगाँव के हुरियारों पर जमकर लाठियां बरसाईं.हंसी ठिठोली ,गाली,अबीर गुलाल तथा लाठियों से खेली गई होली का आनंद देश-विदेश से कोने-कोने से आये स्राधालुओं ने जमकर लिया/होली के गीत गाते ये लोग है नंदगाँव के कृष रुपी हुरियारे जो की बरसाना मै राधा रुपी गोपियों के साथ होली खेलने आये है.हजारों बरसों से चली आ रही इस परंपरा के तहत नंदगाँव के हुरियारे पिली पोखर पर आते है जहाँ उनका स्वागत बरसाना के लोग ठंडाई और भांग से करते है.यहाँ से ये हुरियारे पहुँचते है रंगीली गली जहाँ ये बरसाना की हुरियारिनों को होली के गीत गा कर रिझाते है . होली के गीत और गलियों के बाद होता है नाच गाना और फिर खेली जाती है लट्ठमार होली .जिसमे बरसाना की हुरियें नन्द गाँव के हुरियारों पर करती है लाठियों से बरसात .जिसका बचाव नन्द गाँव के हुरियारे अपने साथ लायी ढाल से करते है . इस होली को खेलने के लिए नन्द गाँव से बूड़े ,जबान और बच्चे भी आते है.और राधा कृषण के प्रेम रुपी भाव से खेलते है होली.बरसाना की इस अनोखी लट्ठमार होली को देखने के लिए स्रधालू देश के कोने-कोने से आते है और राधा और क्रिशन की प्रेम स्वरुप होली को देखकर आनन्दित हो उठते है .और इस होली का जमकर लुत्फ़ उठाते है. ब्रज मै चालीस दिन तक चलने वाले इस होली मै जब तक बरसाना की हुरियारिन नंदगाँव के हुरियारों पर लाठियों से होली नहीं खेलती तब तक होली का आनंद नहीं आता .क्योंकि कहा जाता है की इस होली को देखने के लिए स्वयं देवता भी आते है.