Home » धर्म/ज्योतिष » मथुरा:- बरसाना के श्रीजी मन्दिर में धूम धाम से खेली गई लड्डू होली_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट

मथुरा:- बरसाना के श्रीजी मन्दिर में धूम धाम से खेली गई लड्डू होली_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट

मथुरा:- : आज बरसाना के प्रमुख श्रीजी मंदिर में बड़े ही धूम-धाम से लड्डू होली खेली गई/ बरसाना की...

👤 Ajay2017-03-05 16:44:09.0
मथुरा:- बरसाना के श्रीजी मन्दिर में धूम धाम से खेली गई लड्डू होली_धनीराम खण्डेलवाल की रिपोर्ट
Share Post



मथुरा:- : आज बरसाना के प्रमुख श्रीजी मंदिर में बड़े ही धूम-धाम से लड्डू होली खेली गई/ बरसाना की लट्ठमार होलीसे ठीक एक दिन पहले खेली जाने वाली इस लड्डू होली का बृज में विशेष महत्त्व हैइस दिन नंदगाँव के हुरियारों को न्यौता देकर पांडा बरसाना लौटता जिसका सभी लड्डू फेंक कर स्वागत करते है/ बृज में लट्ठमार होली कीपरंपरा बेहद प्राचीन है और बरसाने को इसका केंद्र माना जाता है/ बरसाने की लट्ठमार होली के विश्वप्रसिद्ध होने की वजह है इसका परंपरागत स्वरुप बरसाने की हुरियारिनो से होली खेलने के ये नंदगाँव के हुरियारे आते हैऔर इसके लिये बाकायदा एक दूत न्यौता देने नंदगाँवपहुँचता है जो आज के दिन लौट कर बरसाना आता है/ इस दूत को यहाँ पांडा कहा जाता है और जब ये पांडा लौट कर बरसाने के प्रमुख श्रीजी मंदिर में पहुँचता है तो यहाँ मंदिर में सभी गोस्वामी इकठ्ठा होकर उसका स्वागत करते है और बधाई स्वरुप पांडा पर लड्डू फेंकते है/ उसके बाद मंदिर प्रांगण में मौजूद भक्त भी पांडा के ऊपर लड्डू फेंकते है जिसे हम सभी लड्डू होली के नाम से जानते है/ इस दौरान मंदिर प्रांगण में ही समाज-गायन होता है, जिसमे पांडा के साथ भक्तगण भी होली के गीतों पर नाचतेहै/ इस होली में शामिल होने के लिये देश के कोने-कोने से भक्त बरसाना पहुँचते है और लड्डू होली का आनंद उठाते हैइस होली में शामिल होने वाले भक्तों के उत्साह की एक खास वजह यह है कि जो लड्डू खाने के लिये होता है इस दिन उन्हें इससे होली खेलने का मौका मिलता है और साथ ही अगले दिन होने वाली लट्ठमार होली को खेलने के लिये तो उन सभी के मन में उत्साह दुगुना हो जाता है/