Home » नेता जी के बोल बचन » जालौन:- बबुआ के गुंडाराज से दुखी है प्रदेश की जनता-मायावती_मुवीन खान की रिपोर्ट

जालौन:- बबुआ के गुंडाराज से दुखी है प्रदेश की जनता-मायावती_मुवीन खान की रिपोर्ट

जालौन:- जालौन के उरई के जीआईसी मैदान में अपने तीनो प्रत्याशियों के समर्थन में जनसभा करने पहुची...

👤 Ajay2017-02-20 02:01:56.0
जालौन:- बबुआ के गुंडाराज से दुखी है प्रदेश की जनता-मायावती_मुवीन खान की रिपोर्ट
Share Post


जालौन:- जालौन के उरई के जीआईसी मैदान में अपने तीनो प्रत्याशियों के समर्थन में जनसभा करने पहुची बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी और सपा पर जमकर हमला बोला उन्होंने कहा की बीजेपी ने सिर्फ अपने राजनीतिक स्वार्थ के चलते नोटबंदी और कालेधन के झांसे जैसी बाते की थी ।
जिससे लाखो करोडो बेराजगार हो गए और एक आम चर्चा ये भी है की बीजेपी ने धन्ना सेठो काला धन ठिकाने लगवा दिया नोट बंदी के फैसले के पहले अपने चहेतो का काला धन ठिकाने लगवा दिया मायावती ने कहा की देश की जनता को ये बी नहीं बताया की नोटबंदी के बाद कितना कला धन आया और कितने लोगो को सजा दी गयी
लोकसभा चुनावी वायदों से ध्यान भटकाने के लिए बीजेपी ने नोटबंदी का मुद्दा बनाया नोटबंदी जैसे फैसले चुनावी स्टंट है । बीजेपी सिर्फ आर एस एस के अजेंडा पर काम करती है पूरे देश में गरीबो और अल्पसंख्यको का उत्पीडन हुआ अगर इस बार बीजेपी को मौका मिला गया तो पूरे भारत से आरक्षण ख़तम कर देगी दलित ऊना जैसे काण्ड फिर से होंगे
साम्प्रयदायिक और कट्टवादी ताकतों को बल मिला है और गौरक्षा लव जेहाद , और आतंकवाद के नाम पर मुस्लिम समाज का शोषड़ किया जा रहा है । 2017 के विधानसभा चुनाव में मुस्लिम अगर समाजवादी पार्टी को वोट देगा तो इसका सीधा फायदा बीजेपी का होगा । मायावती ने कहा 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने गलत नीतियों के तहत झूठे चुनावी वादे किये थे बीजेपी की सरकार बने 3 साल हो गए किसी के भी खाते में एक भी रूपए नहीं आया पूरे देश में आतंकवाद के नाम पर अल्पसंख्यक समाज को शक की नजरो से देखा जाता है !
पूरे देश में अल्पसंख्यकों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है अगर बीएसपी की सरकार सत्ता में आती है तो जंगलराज का होगा खात्मा आपराधिक मामलों की होगी समीक्षा
साथ ही मायावती ने कहा की सपा के बबुआ के गुंडाराज से दुखी होकर जनता माफ़ नहीं करेगी साथ ही उन्होंने कहा की अब अगर बीएसपी सरकार आती है तो मूर्ति और धरोहरों का निर्माण नहीं किया जायगा क्योंकि ये सब कार्य पिछली सरकारों में ही पूरे किया जा चुके है साथ ही उनकी सरकार में बुंदेलखंड के अलग राज्य का प्रस्ताव प्रमुखता से हल किया जायगा ।