Home » राष्ट्रीय/अंतराष्ट्रीय » मुंबई--फिर से महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री बने अजित पवार,36 और चेहरे शामिल हो सकते हैं सरकार में

मुंबई--फिर से महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री बने अजित पवार,36 और चेहरे शामिल हो सकते हैं सरकार में

मुंबई--महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे मंत्रिमंडल के पहले विस्तार में एनसीपी के वरिष्ठ नेता अजित पवार ने...

मुंबई--फिर से महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री बने अजित पवार,36 और चेहरे शामिल हो सकते हैं सरकार में
Share Post


मुंबई--महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे मंत्रिमंडल के पहले विस्तार में एनसीपी के वरिष्ठ नेता अजित पवार ने फिर से उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली। इस मंत्रिमंडल विस्तार में मुख्यमंंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे समेत शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस से 36 नए विधायक अब मंत्री पद की शपथ ले रहे हैं। कांग्रेस के अशोक चह्वाण ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली यह कांग्रेस के बड़े नेता हैं।

तो वहीं एनसीपी के दिलीव वलसे पाटिल ने भी कैबिनेट मंत्री की शपथ ली ।यह एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार के करीबी हैं इनको भारी भरकम मंत्रालय से नवाजा जा सकता है ।

एनसीपी के धनंजय मुंडे ने ली भी कैबिनेट मंत्री पद की शपथ। इन्होंने भाजपा की वरिष्ठ नेता पंकजा मुंडे को हराया और वह अजित पवार के करीबी हैं।

इस सूची में शिवसेना सांसद संजय राउत के भाई सुनील राउत का नाम शामिल नहीं है। सूत्रों के अनुसार सुनील राउत इस बात से नाराज हैं और वह विधायक पद से इस्तीफा भी दे सकते हैं।

कांग्रेस से अशोक चह्वाण, केसी पडवी, विजय वडेट्टीवार, अमित देशमुख, सुनील केदार, यशोमति ठाकुर, वर्षा गायकवाड, असलम शेख, सतेज पाटिल और विश्वजीत कदम मंत्री पद की शपथ लेंगे।

तो शिवसेना से आदित्य ठाकरे, उदय सामंत, अब्दुल सत्तार, शंकर गडख, अनिल परब, संदीपन भूमरे, शंभुराज देसाई, येदगाउकर, संजय राठौड़, गुलाब पाटिल और दादा भूसे को मंत्री बनाया जा सकता है ।

एनसीपी से धरमराव अत्रम, राजेश टोपे, धनंजय मुंडे, नवाब मलिक, संग्राम जगतप, हसन मुशरीफ, अनिल देशमुख, अदिति तटकरे और राजू शेट्टी के मंत्री बनाए जाने की संभावना है।

इससे पहले एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने यह कहकर मुद्दे को हवा देना का काम किया था कि एनसीपी कार्यकर्ता अजित पवार को राज्य के उप मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहते हैं। उद्धव ने 28 नवंबर को शिवाजी पार्क में मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण की थी। उस समारोह में छह मंत्रियों की छोटी सी कैबिनेट ने भी शपथ ग्रहण की थी जिसमें तीनों ही दलों की तरफ से दो-दो मंत्री शामिल थे।

शरद पवार के भतीजे अजित 2014 से पूर्व कांग्रेस-एनसीपी सरकार में भी उपमुख्यमंत्री थे। इस विधानसभा चुनाव के बाद अजित 23 नवंबर को अचानक भाजपा के साथ चले गए थे और देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार में डिप्टी सीएम बने थे। हालांकि 80 घंटे के अंदर ही अजीत ने इस्तीफा दिया और फडणवीस सरकार गिर गई। ठाकरे के नेतृत्व में 28 नवंबर को शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस के छह मंत्रियों ने भी शपथ ली थी।

कैबिनेट विस्तार में लगभग 36 मंत्री शपथ ले सकते हैं। फिलहाल मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के मंत्रिमंडल में उनके अलावा छह मंत्री हैं। शिवसेना, एनसपी और कांग्रेस के बीच हुए सत्ता साझेदारी के तहत शिवसेना के पास मुख्यमंत्री के अलावा 16 मंत्री हो सकते हैं, इसके अलावा एनसीपी के 14 और कांग्रेस के 12 मंत्री होंगे। कांग्रेस ने 12 मंत्री होने की पुष्टि कर दी है।