Home » राष्ट्रीय/अंतराष्ट्रीय » संतकबीरनगर:- स्वदेशी तकनीकी से कम्बाइन मशीन बनाने वाले सुरेंद्र प्रसाद को मिला राष्ट्रपति के हाथो मिला प्रथम पुरस्कार_ यशवंत यादव की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

संतकबीरनगर:- स्वदेशी तकनीकी से कम्बाइन मशीन बनाने वाले सुरेंद्र प्रसाद को मिला राष्ट्रपति के हाथो मिला प्रथम पुरस्कार_ यशवंत यादव की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

संतकबीरनगर:- कार्य के प्रति निष्ठा, लगन, और ईमानदारी कही जाया नहीं जाती, कठिन परिश्रम का फल एक न एक...

👤 Ajay2017-03-06 09:30:06.0
संतकबीरनगर:- स्वदेशी तकनीकी से कम्बाइन मशीन बनाने वाले सुरेंद्र प्रसाद को मिला राष्ट्रपति के हाथो मिला प्रथम पुरस्कार_ यशवंत यादव की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट
Share Post

संतकबीरनगर:- कार्य के प्रति निष्ठा, लगन, और ईमानदारी कही जाया नहीं जाती, कठिन परिश्रम का फल एक न एक दिन उस व्यक्ति को जरूर मिल ही जाती है जो अपने कार्यो को पूर्ण मनोयोग से करता है ! ऐसे ही है जनपद संतकबीरनगर के लाल सुरेंद्र प्रसाद जिनकी अथक मेहनत ने न सिर्फ उनका कद राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ाया है बल्कि जिले के लिए भी एक सम्मान और गौरवपूर्ण बात रही है ! जिले के महुली कस्बा निवासी सुरेंद्र प्रसाद की मेहनत उस वक्त रंग लाइ जब उन्होंने वर्ष २०११ में स्वदेशी तकनीकी की सहायता से एक ऐसे कम्बाइन मशीन का निर्माण कर डाला था जो कम खर्चे में ही किसानों के फसलों की मढ़ाई दवाइँ उनके खेतो में ही जाकर आसानी के साथ कर देती थी, प्रायः पूर्वांचल में गेंहू काटने की चलने वाली मशीनों में भूसा निकालने की कमी को देखते हुए अनाज और भूसा साथ निकले इस उद्देश्य को अपना लक्ष्य बनाकर लगातार मशीन के निर्माण कार्य में जुटे सुरेंद्र प्रसाद को जब कामयाबी मिली तो इसकी चरचा चारो ओर फैली, वर्ष २०११ से लेकर २०१६ तक देश के जाने माने कृषि वैज्ञानिकों और तकनीशियनों ने सुरेंद्र प्रसाद के हाथो निर्मित कम्बाइन मशीन का बारीकी से निरीक्षण करने के बाद इसकी रिपोर्ट राष्ट्रीय अन्वेषण फाउंडेशन भारत सरकार को दी जिसपर संस्थान ने अपनी अंतिम मुहर लगाते हुए इसे पुरस्कृत करवाने के लिए राष्ट्रपति के यहाँ सिफारिस भिजवाई जिसके बाद ४ मार्च २०१७ को स्वदेशी अन्वेषण के क्षेत्र में बेहतरीन योगदान के नाम पर राष्ट्रपति के हाथो सुरेंद्र प्रसाद को प्रथम पुरस्कार मिला है ! मूलतः महुली क्षेत्र के परसादीपुर गाँव के निवासी सुरेंद्र प्रसाद महुली कस्बे में सुरेंद्र एग्रो प्रोडक्ट के नाम से अपनी एक लघु इकाई की स्थपाना वर्षो पहले करते हुए लगातार स्वदेशी तकनीकी से निर्मित कबीर कम्बाइन हार्वेस्टर विथ एक्स्ट्रा मेकिंग मशीन के नाम से कम्बाइन को मूर्तरूप देने में सफल हुए है ! उनकी इस सफलता से क्षेत्र में हर्ष का माहौल है !