पालघर स्टेशन पर उतारे गये कोरोना वायरस के संक्रमण के चार संदिग्ध     

 


लॉकडाउन शब्द का इस्तेमाल पश्चिमी देश कई बार आपात स्थिति में ऐसा कर चुके हैं।
भारत में लोगों को घरों में रखने के लिए कर्फ्यू या धारा 144 जैसे कानून का सहारा लेते रहे हैं।
मगर लॉकडाउन का इस्तेमाल भारत में पहली बार हो रहा है। इसका सीधा सा मतलब है कि जरूरी सेवाओं को छोड़कर सब कुछ बंद रहेगा।
इस दौरान सिर्फ जरूरी या आपात स्थिति होने पर ही आपको घर से निकलने की अनुमति रहेगी।

*क्या पहले भी हुआ है लॉकडाउन*

अमेरिका ने 9/11 आतंकी हमले के बाद तीन दिन के लिए पहली बार लॉकडाउन किया था।
इसके बाद 2013 में बॉस्टन और 2015 में पेरिस हमले के बाद ब्रुसेल्स लॉकडाउन किया गया था।

*क्या-क्या खुलेगा रहेगा*

दूध, सब्जी और दवा की दुकानें लॉकडाउन के दौरान खुले रहेंगे।
अस्पताल और क्लीनिक भी इस दौरान खुले रहेंगे।
इसके अलावा राशन की दुकानें भी खुली रहेंगी।
किसी बेहद जरूरी काम के लिए भी प्रशासन की ओर से छूट मिल सकती है।


*क्या पेट्रोल पंप भी खुले रहेंगे*

सरकार ने पेट्रोल पंपों और एटीएम को आवश्यक श्रेणी में रखा है।
इसलिए जरूरत के हिसाब से इन्हें खोला जा सकता है।

*क्या निजी वाहन चला सकेंगे*

अगर बहुत जरूरी हो तो लॉकडाउन में भी निजी वाहनों का प्रयोग किया जा सकता है।
हालांकि बिना वजह बाहर घूमने पर सरकार कार्रवाई कर सकती है।
आपात व्यवस्था में एंबुलेंस को भी बुला सकते हैं।
क्या आप घूमने जा सकेंगे
लॉकडाउन का फैसला इसलिए लिया गया है ताकि लोग एक-दूसरे के संपर्क में न आएं।
इसलिए जरूरी नहीं होने पर घर से बाहर न निकलें।

*क्या शादी-विवाह के कार्यक्रम होंगे*

संक्रमण फैलने के डर से किसी भी कार्यक्रम के लिए लोगों के जुटने पर पाबंदी रहेगी।
बहुत जरूरी होने पर आपको प्रशासन से अनुमति लेनी होगी।

*क्या निजी कर्मचारियों को काम पर जाना होगा*

लॉकडाउन में सरकारी हो या निजी कंपनी सभी बंद रहेंगी। सिर्फ जरूरी विभाग के कार्यालय खुले रहेंगे

Read more

 


पालघर-पालघर जिले के अंतर्गत तमाम कस्बों में कोरोना वायरस (COVID-19) का खौफ के कारण आंशिक लाकडाउन हो ही गया ।संतोषभवन,स्टेशनरोड नालासोपारा,वाकनपाडा,धानिव बाग, हाइवे समेत अन्य जगहों पर चाय,पान एवं खाने के होटलों समेत ,राशन की दुकानें स्थानीय पुलिस एवं महानगरपालिका द्वारा बंद करा दी गयी हैं लोग संख्या में इकट्ठा न हों इसलिए यह कदम उठाया गया पूरे देश में सबसे अधिक कोरोना से प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है इसलिए यहां पर अधिक एहतियात बरता जा रहा है ताकि लोगों को इसके संक्रमण से बचाया जा सके इसलिए लोगों को कुछ दिनों तक घरों में ही रहने की सलाह दी जा रही है ।लेकिन इसको लेकर रोजमर्रा की जरूरत की चीजों की भारी किल्लत भी उत्पन्न हो सकती है और काफी संख्या में लोगों के समक्ष रोजी-रोटी का संकट भी उत्पन्न हो सकता है क्योंकि इनसब जगहों पर अधिकतर मजदूर वर्ग ही रहता है जिनको रोज कुआं खोदकर पानी पीना पड़ता है ।फिलहाल क्लीनिक और मेडिकल स्टोर ही खुले नजर आ रहे हैं ।

Read more

 


सुलतानपुर---पुलिस अधीक्षक शिव हरि मीणा ने थाना बल्दीराय का औचक निरीक्षण किया गया । श्री मीणा द्वारा थाना परिसर में स्थापित बैरक, सीसीटीएनएस कक्ष, भोजनालय,बन्दीगृह, स्टोर रुम व कार्यालयों का निरीक्षण किया गया । स्वच्छता के सम्बन्ध में महोदय द्वारा थाना परिसर को साफ व स्वच्छ रखने के साथ ही जनता के साथ मृदुल व्यवहार एवं जनता की समस्या को सुनने तथा उनका निस्तारण करने हेतु उचित दिशा निर्देश दिया गया । ऩिरीक्षण को दौरान क्षेत्राधिकारी बल्दीराय महोदय उपस्थित रहे।इस दौरान एसओ अखिलेश सिंह भी मौजूद रहे।

Read more

 

भारतीय रेल ने कोरोना वायरस (C0VID-19) के खतरे और यात्रियों की कम संख्या को देखते हुए  20 से 31 मार्च के बीच चलने वाली कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है।
रद्द होने वाली ट्रेनों की कुल संख्या 168 हो गई है।कोरोना वायरस के खतरे की वजह से घर से कम निकल रहे हैं, जिस वजह से ट्रेनों में यात्रियों की संख्या कम हो गई। इसी देखते हुए रेलवे के विभिन्न जोनों ने ट्रेनें रद्द करने का कदम उठाया है। रद्द की गई ट्रेनों में टिकट करवाने वाले यात्रियों को सूचित किया जा रहा है।ताकि वह समय से सूचना पा सकें ।

Read more

 


पालघर-महाराष्‍ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण से लोगों की संख्या 42 तक पहुंच गयी है । जिसके उपरांत महाराष्‍ट्र आने-जाने वाली कई ट्रेनों को भी रद्द कर दिया गया है इन सबके बावजूद बुधवार को मुंबई से दिल्‍ली आ रही गरीबरथ एक्‍सप्रेस से कोरोना वायरस के 4 संदिग्‍ध यात्रियों को पालघर स्‍टेशन पर उतार लिया गया है। इसके बाद उन्‍हें सरकारी अस्‍पताल ले जाया गया।
पश्चिमी रेलवे की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार इन सभी 4 संदिग्‍धों के हाथ में उन्‍हें घर में पृथक रहने के लिए स्‍टैंप लगाया गया था।ये सभी जर्मनी से वापस लौटे थे।इनमें कोरोना के संदिग्‍ध लक्षणों के कारण उनको 14 दिन घर पर रहने की सलाह दी गई थी। इसके बावजूद वे ट्रेन में सफर कर सूरत जा रहे थे।
हाथ में स्‍टैंप लगा होने के कारण उनकी पहचान ट्रेन में टीटीई ने की। इसके बाद उन्‍हें पालघर रेलवे स्‍टेशन पर उतारा गया।सभी को सरकारी अस्‍पताल ले जाया गया है उन्‍हें जिला स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों को सौंप दिया गया है।इतनी जागरूकता के बावजूद लोगों की यह हरकत पूर्णरूप से स्वस्थ्य लोगों को काफी भारी पड़ने वाली है लगातार सख्त दिशा-निर्देश के बावजूद संक्रमित लोग भी सफर कर रहे हैं ।इससे पहले महारास्ट्र के मुंबई शहर में संक्रमित व्यक्ति के एक टैक्सी में सफर करने के कारण चार अन्य यात्री कोरोना वायरस से संक्रमित हो गये थे ।

Read more

 

मुंबई/पालघर-कोरोना वायरस(COVID-19) को लेकर पूरे देश समेत दुनिया में तहलका मचा हुआ है ।सरकार इससे लोगों बचाने के लिए लगातार दिशा-निर्देश जारी कर रही है ।ताकि लोगों को इससे बचाया जा सके ।पूरे देश में जारी आंकडों के अनुसार देश में सबसे प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है ।यहां पर अबतक इससे पीडित 42 लोगों की पहचान हो चुकी है और ये आंकडे लगातार बढ़ते जा रहे हैं ।राज्य सरकार ने इससे बचने के लिए एक सप्ताह तक सरकारी एवं प्राइवेट कार्यालयों को बंद कर दिया है तो वहीं खान-पान के होटलों पर भी प्रतिबंध लगना शुरू हो गया है ।पालघर जिले में खान-पान के अधिकतर होटलों पर ताला लटक गया है जिससे रोज काम करने वालों मजदूरों के समक्ष पेट भरने की परेशानी उत्पन्न हो गयी है ।इस जिले में अधिकतर दूसरे प्रदेशों के लोग रहते हैं जो कंपनियों समेत कल कारखानों और कार्यालयों में काम कर होटलों में खान-पान करते हैं लेकिन इनके बंद होने से अब इनके सामने एक मुश्किल खडी हो गयी है । 30 मार्च तक इन होटलों ओर ढाबों को बंद किया गया है। तो वहीं इससे लगातार चलने वाले मुंबई शहर की सड़कों पर भी भीड़ कम हो गयी है ।खचाखच भरी रहनी वाली लोकल ट्रेनों अब थोडी बहुत खाली रहने लगी हैं फिलहाल स्थिति देखकर यही लगता है कि मुंबई शहर लाकडाउन की तरफ बढ़ रहा है जिससे लोगों को भारी कठिनाईयों का सामना करना पड़ सकता है।

Read more

 


लॉकडाउन शब्द का इस्तेमाल पश्चिमी देश कई बार आपात स्थिति में ऐसा कर चुके हैं।
भारत में लोगों को घरों में रखने के लिए कर्फ्यू या धारा 144 जैसे कानून का सहारा लेते रहे हैं।
मगर लॉकडाउन का इस्तेमाल भारत में पहली बार हो रहा है। इसका सीधा सा मतलब है कि जरूरी सेवाओं को छोड़कर सब कुछ बंद रहेगा।
इस दौरान सिर्फ जरूरी या आपात स्थिति होने पर ही आपको घर से निकलने की अनुमति रहेगी।

*क्या पहले भी हुआ है लॉकडाउन*

अमेरिका ने 9/11 आतंकी हमले के बाद तीन दिन के लिए पहली बार लॉकडाउन किया था।
इसके बाद 2013 में बॉस्टन और 2015 में पेरिस हमले के बाद ब्रुसेल्स लॉकडाउन किया गया था।

*क्या-क्या खुलेगा रहेगा*

दूध, सब्जी और दवा की दुकानें लॉकडाउन के दौरान खुले रहेंगे।
अस्पताल और क्लीनिक भी इस दौरान खुले रहेंगे।
इसके अलावा राशन की दुकानें भी खुली रहेंगी।
किसी बेहद जरूरी काम के लिए भी प्रशासन की ओर से छूट मिल सकती है।


*क्या पेट्रोल पंप भी खुले रहेंगे*

सरकार ने पेट्रोल पंपों और एटीएम को आवश्यक श्रेणी में रखा है।
इसलिए जरूरत के हिसाब से इन्हें खोला जा सकता है।

*क्या निजी वाहन चला सकेंगे*

अगर बहुत जरूरी हो तो लॉकडाउन में भी निजी वाहनों का प्रयोग किया जा सकता है।
हालांकि बिना वजह बाहर घूमने पर सरकार कार्रवाई कर सकती है।
आपात व्यवस्था में एंबुलेंस को भी बुला सकते हैं।
क्या आप घूमने जा सकेंगे
लॉकडाउन का फैसला इसलिए लिया गया है ताकि लोग एक-दूसरे के संपर्क में न आएं।
इसलिए जरूरी नहीं होने पर घर से बाहर न निकलें।

*क्या शादी-विवाह के कार्यक्रम होंगे*

संक्रमण फैलने के डर से किसी भी कार्यक्रम के लिए लोगों के जुटने पर पाबंदी रहेगी।
बहुत जरूरी होने पर आपको प्रशासन से अनुमति लेनी होगी।

*क्या निजी कर्मचारियों को काम पर जाना होगा*

लॉकडाउन में सरकारी हो या निजी कंपनी सभी बंद रहेंगी। सिर्फ जरूरी विभाग के कार्यालय खुले रहेंगे

Read more

 


पालघर-पालघर जिले के अंतर्गत तमाम कस्बों में कोरोना वायरस (COVID-19) का खौफ के कारण आंशिक लाकडाउन हो ही गया ।संतोषभवन,स्टेशनरोड नालासोपारा,वाकनपाडा,धानिव बाग, हाइवे समेत अन्य जगहों पर चाय,पान एवं खाने के होटलों समेत ,राशन की दुकानें स्थानीय पुलिस एवं महानगरपालिका द्वारा बंद करा दी गयी हैं लोग संख्या में इकट्ठा न हों इसलिए यह कदम उठाया गया पूरे देश में सबसे अधिक कोरोना से प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है इसलिए यहां पर अधिक एहतियात बरता जा रहा है ताकि लोगों को इसके संक्रमण से बचाया जा सके इसलिए लोगों को कुछ दिनों तक घरों में ही रहने की सलाह दी जा रही है ।लेकिन इसको लेकर रोजमर्रा की जरूरत की चीजों की भारी किल्लत भी उत्पन्न हो सकती है और काफी संख्या में लोगों के समक्ष रोजी-रोटी का संकट भी उत्पन्न हो सकता है क्योंकि इनसब जगहों पर अधिकतर मजदूर वर्ग ही रहता है जिनको रोज कुआं खोदकर पानी पीना पड़ता है ।फिलहाल क्लीनिक और मेडिकल स्टोर ही खुले नजर आ रहे हैं ।

Read more

 


सुलतानपुर---पुलिस अधीक्षक शिव हरि मीणा ने थाना बल्दीराय का औचक निरीक्षण किया गया । श्री मीणा द्वारा थाना परिसर में स्थापित बैरक, सीसीटीएनएस कक्ष, भोजनालय,बन्दीगृह, स्टोर रुम व कार्यालयों का निरीक्षण किया गया । स्वच्छता के सम्बन्ध में महोदय द्वारा थाना परिसर को साफ व स्वच्छ रखने के साथ ही जनता के साथ मृदुल व्यवहार एवं जनता की समस्या को सुनने तथा उनका निस्तारण करने हेतु उचित दिशा निर्देश दिया गया । ऩिरीक्षण को दौरान क्षेत्राधिकारी बल्दीराय महोदय उपस्थित रहे।इस दौरान एसओ अखिलेश सिंह भी मौजूद रहे।

Read more
(COVID-19) कोरोना का खौफ,168 ट्रेनें 30 मार्च तक रद्द

(COVID-19) कोरोना का खौफ,168 ट्रेनें 30 मार्च तक रद्द

 

भारतीय रेल ने कोरोना वायरस (C0VID-19) के खतरे और यात्रियों की कम संख्या को देखते हुए  20 से 31 मार्च के बीच चलने वाली कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है।
रद्द होने वाली ट्रेनों की कुल संख्या 168 हो गई है।कोरोना वायरस के खतरे की वजह से घर से कम निकल रहे हैं, जिस वजह से ट्रेनों में यात्रियों की संख्या कम हो गई। इसी देखते हुए रेलवे के विभिन्न जोनों ने ट्रेनें रद्द करने का कदम उठाया है। रद्द की गई ट्रेनों में टिकट करवाने वाले यात्रियों को सूचित किया जा रहा है।ताकि वह समय से सूचना पा सकें ।

Read more

 


पालघर-महाराष्‍ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण से लोगों की संख्या 42 तक पहुंच गयी है । जिसके उपरांत महाराष्‍ट्र आने-जाने वाली कई ट्रेनों को भी रद्द कर दिया गया है इन सबके बावजूद बुधवार को मुंबई से दिल्‍ली आ रही गरीबरथ एक्‍सप्रेस से कोरोना वायरस के 4 संदिग्‍ध यात्रियों को पालघर स्‍टेशन पर उतार लिया गया है। इसके बाद उन्‍हें सरकारी अस्‍पताल ले जाया गया।
पश्चिमी रेलवे की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार इन सभी 4 संदिग्‍धों के हाथ में उन्‍हें घर में पृथक रहने के लिए स्‍टैंप लगाया गया था।ये सभी जर्मनी से वापस लौटे थे।इनमें कोरोना के संदिग्‍ध लक्षणों के कारण उनको 14 दिन घर पर रहने की सलाह दी गई थी। इसके बावजूद वे ट्रेन में सफर कर सूरत जा रहे थे।
हाथ में स्‍टैंप लगा होने के कारण उनकी पहचान ट्रेन में टीटीई ने की। इसके बाद उन्‍हें पालघर रेलवे स्‍टेशन पर उतारा गया।सभी को सरकारी अस्‍पताल ले जाया गया है उन्‍हें जिला स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों को सौंप दिया गया है।इतनी जागरूकता के बावजूद लोगों की यह हरकत पूर्णरूप से स्वस्थ्य लोगों को काफी भारी पड़ने वाली है लगातार सख्त दिशा-निर्देश के बावजूद संक्रमित लोग भी सफर कर रहे हैं ।इससे पहले महारास्ट्र के मुंबई शहर में संक्रमित व्यक्ति के एक टैक्सी में सफर करने के कारण चार अन्य यात्री कोरोना वायरस से संक्रमित हो गये थे ।

Read more

 

मुंबई/पालघर-कोरोना वायरस(COVID-19) को लेकर पूरे देश समेत दुनिया में तहलका मचा हुआ है ।सरकार इससे लोगों बचाने के लिए लगातार दिशा-निर्देश जारी कर रही है ।ताकि लोगों को इससे बचाया जा सके ।पूरे देश में जारी आंकडों के अनुसार देश में सबसे प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है ।यहां पर अबतक इससे पीडित 42 लोगों की पहचान हो चुकी है और ये आंकडे लगातार बढ़ते जा रहे हैं ।राज्य सरकार ने इससे बचने के लिए एक सप्ताह तक सरकारी एवं प्राइवेट कार्यालयों को बंद कर दिया है तो वहीं खान-पान के होटलों पर भी प्रतिबंध लगना शुरू हो गया है ।पालघर जिले में खान-पान के अधिकतर होटलों पर ताला लटक गया है जिससे रोज काम करने वालों मजदूरों के समक्ष पेट भरने की परेशानी उत्पन्न हो गयी है ।इस जिले में अधिकतर दूसरे प्रदेशों के लोग रहते हैं जो कंपनियों समेत कल कारखानों और कार्यालयों में काम कर होटलों में खान-पान करते हैं लेकिन इनके बंद होने से अब इनके सामने एक मुश्किल खडी हो गयी है । 30 मार्च तक इन होटलों ओर ढाबों को बंद किया गया है। तो वहीं इससे लगातार चलने वाले मुंबई शहर की सड़कों पर भी भीड़ कम हो गयी है ।खचाखच भरी रहनी वाली लोकल ट्रेनों अब थोडी बहुत खाली रहने लगी हैं फिलहाल स्थिति देखकर यही लगता है कि मुंबई शहर लाकडाउन की तरफ बढ़ रहा है जिससे लोगों को भारी कठिनाईयों का सामना करना पड़ सकता है।

Read more