Home » स्वास्थ्य समस्या/निदान » संतकबीरनगर- स्वास्थ्य कर्मी हुए प्रशिक्षित, कुपोषित बच्चो को बचाने का करेगे कार्य_रिपोर्ट-बिट्ठल दास

संतकबीरनगर- स्वास्थ्य कर्मी हुए प्रशिक्षित, कुपोषित बच्चो को बचाने का करेगे कार्य_रिपोर्ट-बिट्ठल दास

प्रशिक्षण के उपरान्त सीएमओ ने प्रशिक्षकों को दिया प्रमाण पत्रएचबीवाईसी योजना लागू करने के लिए आशाओं...

संतकबीरनगर- स्वास्थ्य कर्मी हुए प्रशिक्षित, कुपोषित बच्चो को बचाने का करेगे कार्य_रिपोर्ट-बिट्ठल दास
Share Post


प्रशिक्षण के उपरान्त सीएमओ ने प्रशिक्षकों को दिया प्रमाण पत्र

एचबीवाईसी योजना लागू करने के लिए आशाओं को देंगे प्रशिक्षण

संतकबीरनगर। बच्चों में कुपोषण को दूर करने तथा बाल मृत्युदर को कम करने के उद्देश्य से केन्द्र सरकार द्वारा होम बेस्ड न्यू बोर्न केयर फॉर यंग चाइल्ड (एचबीवाईसी) कार्यक्रम को लागू किया जाएगा। इस कार्यक्रम को क्रियान्वित करने में महत्वपूर्ण योगदान देने वाली आशाओं को प्रशिक्षित करने के लिए जिला मुख्यालय पर प्रशिक्षकों को प्रशिक्षण दिया गया। पांच दिवसीय प्रशिक्षण के समाप्त होने के बाद प्रशिक्षकों को प्रमाण पत्र भी वितरित किया गया। उपस्थित प्रशिक्षकों को सम्बोधित करते हुए सीएमओ डॉ हरगोविन्द सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार की यह अतिमहत्वपूर्ण योजना है। इसको क्रियान्वित करने में आशा कार्यकर्ताओं की भूमिका महत्वपूर्ण है। इसलिए उन्हें बेहतर तरीके से प्रशिक्षित करें ताकि इस योजना के मूल उद्देश्यों को पूरा किया जा सके। प्रशिक्षकों को प्रशिक्षण देने वाले सर्विलांस अधिकारी डॉ ए. के. सिन्हा ने कहा कि पहले बच्चों के कुपोषण को मापने के लिए हाईट और वेट लिया जाता था। लेकिन अब हाईट, वेट और टाइम तीनों के हिसाब से कुपोषण के साथ बच्चों में आ रहे बौनापन को दूर 6 माह का समय बीतने के बाद उन्हें पूरक आहार दिए जाने की भी व्यवस्था की जाए। आशाएं बच्चों की माताओं को यह जानकारी देंगी कि किस प्रकार से वे बच्चों के लिए पूरक आहार बनाएं। इस दौरान स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी सत्येन्द्र यादव के साथ ही समाजसेवी धनन्जय ने भी सभी प्रशिक्षणार्थियों को प्रशिक्षण प्रदान किया। पांच दिनों तक चले इस प्रशिक्षण की समाप्ति के पश्चात सभी 27 प्रशिक्षित लोगों को प्रशिक्षण का प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले अब पीएचसी और सीएचसी पर आशाओं को प्रशिक्षित करेंगे। प्रशिक्षण प्राप्त करने वालों में डीसीपीएम, एडीसीपीएम, एचईओ के साथ ही विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं के सदस्य भी शामिल थे।