Home » स्वास्थ्य समस्या/निदान » बलरामपुर- 10 दिन के अभियान में 290471 की स्क्रीनिंग, 1316 संदिग्धों की जांच मिले टीबी के 64 नये मरीज_रिपोर्ट-रवि गुप्ता

बलरामपुर- 10 दिन के अभियान में 290471 की स्क्रीनिंग, 1316 संदिग्धों की जांच मिले टीबी के 64 नये मरीज_रिपोर्ट-रवि गुप्ता

बलरामपुर 19 जनवरी। टीबी के मरीजों की खोज के लिए जिले में चलाया गया 10 दिवसीय अभियान पूरा हो गया है।...

👤 Ajay20 Jan 2019 11:56 AM GMT
बलरामपुर- 10 दिन के अभियान में 290471 की स्क्रीनिंग, 1316 संदिग्धों की जांच मिले टीबी के 64 नये मरीज_रिपोर्ट-रवि गुप्ता
Share Post


बलरामपुर 19 जनवरी। टीबी के मरीजों की खोज के लिए जिले में चलाया गया 10 दिवसीय अभियान पूरा हो गया है। एक्टिव केस फाइंडिंग के दौरान जिले में 64 नये मरीजों पाये गये हैं। संदिग्ध पाये जाने पर विभाग ने करीब 1300 लोगों के नमूनों की जांच की।सबसे ज्यादा मरीज सदर ब्लाक में पाये गये हैं। सभी मरीजों का इलाज शुरू कर दिया गया है।

डा. सजीवन लाल जिला क्षय रोग अधिकारी ने शनिवार को बताया कि जिले में यह अभियान 7 से 17 जनवरी तक चलाया गया था। इस अभियान में 18 सेक्टर बनाकर 18 सुपरवाइजर व कुल 89 टीमें लगाई गई थीं। टीमों से मिली रिपोर्ट के अनुसार 290471 लोगों की स्क्रीनिंग की गई। संदिग्ध पाये जाने पर कुल 1316 लोगों के स्पुटम जांच किये गये थे जिनमें से 64 लोगों को टीबी की बीमारी की पुष्टि हुई है। बलरामपुर ब्लाक में 300 संदिग्ध मरीजों के स्पुटम व एक्स रे की जांच में 15, उतरौला में 142 में से 14, पचपेड़वा में 115 में से 8, रेहरा में 94 में से 7, तुलसीपुर में 172 में से 6, शिवपुरा में 197 में से 5, गैसड़ी में 155 में से 5 व श्रीदत्तगंज ब्लाक में 131 संदिग्ध मरीजों के स्पुटम व एक्स रे की जांच में 4 मरीज सामने आये हैं। जिनका इलाज चिकित्सक व डाट्स प्रोवाइडर की निगरानी में शुरू कर दिया गया है।

डा. सजीवन लाल ने बताया कि सक्रिय टीबी खोजो अभियान के तहत पांच चरणों में जिले की आबादी करीब 23.45 लाख की करीब 50 प्रतिशत आबादी कवर हो चुकी है। प्रथम चरण के अभियान में 60 मरीज, दूसरे चरण के अभियान में 57 मरीज, तीसरे चरण के अभियान में 47 मरीज, चैथे चरण के अभियान में 56 मरीज और पांचवे चरण के अभियान में 64 मरीज पाये गये हैं। झुग्गी झोपड़ी, औद्योगिक क्षेत्र, मलीन बस्ती तथा सार्वजनिक स्थलों को अभियान के फोकस में रखा जाता है। अभियान के दौरान अब तक 284 मरीज चिंहित किये जा चुके हैं। इस इलाज के दौरान पोषण के लिए मरीज के खाते में 500 रूपये प्रतिमाह भी दिये जाएंगे