Home » स्वास्थ्य समस्या/निदान » हापुड़:- विद्युत् कनेक्शन व उपकरणों के अभाव में शुरू नहीं हो रहा पोस्टमार्टम हाउस.सीएमओ _अवनीश पाल की रिपोर्ट

हापुड़:- विद्युत् कनेक्शन व उपकरणों के अभाव में शुरू नहीं हो रहा पोस्टमार्टम हाउस.सीएमओ _अवनीश पाल की रिपोर्ट

हापुड़-मोदीनगर रोड स्थित जसरूप नगर में 53 लाख की लागत से पोस्टमार्टम हाउस बनकर तैयार हो गया है। जो...

👤 Ajay2017-02-27 16:28:24.0
हापुड़:- विद्युत् कनेक्शन व उपकरणों के अभाव में शुरू नहीं हो रहा पोस्टमार्टम हाउस.सीएमओ _अवनीश पाल की रिपोर्ट
Share Post


हापुड़-मोदीनगर रोड स्थित जसरूप नगर में 53 लाख की लागत से पोस्टमार्टम हाउस बनकर तैयार हो गया है। जो विद्युत कनेक्शन व पोस्टमार्टम हाउस मेें प्रयोग होने पर उपकरणों के अभाव में शुरू नहीं हो रहा है। अब नव निर्मित पोस्टमार्टम हाउस से चोर एक दर्जन नये पंखे भी चोरी कर ले गये है।
आपको बता दें कि हापुड़ के जनपद बनने से पूर्व जनता द्वारा पोस्टमार्टम हाउस बनाने की मांग उठाई गयी थी। जिसे शासन ने स्वीकार करते हुए काली नदी पर पोस्टमार्टम हाउस का निर्माण कराया। जिसका भुर्जी समाज के लोगों ने विरोध किया था। क्योंकि पोस्टमार्टम हाउस के निकट भुर्जी समाज का धार्मिक स्थल था। पोस्टमार्टम हाउस शुरू होने से पूर्व ही खंडर तब्दील हो गया। इस स्थिति में लोगों को शवों का पोस्टमार्टम कराने के लिए जनपद गाजियाबाद जाना पड़ता था।
28 सितंबर 2011 में हापुड़ को जिला बनने का गौरव प्राप्त हुआ। जिसके बाद से जनपदवासियों ने जोरों से पोस्टमार्टम निर्माण की मांग उठने लगी। तो गढ़ रोड स्थित सरकारी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में पोस्टमार्टम हाउस बनाने का निर्णय लिया गया। जिसका अस्पताल सटी सर्वोदय व साकेत कालोनी के लोगों ने विरोध किया। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने बदनौली के निकट पोस्टमार्टम हाउस बनाने का प्रक्रिया शुरू की,जिसकी जानकारी मिलने पर ग्रामीणों ने इसका विरोध किया। जिसके उपरांत स्थानीय जिला प्रशासन ने पिलखुवा के अनवरपुर स्थित श्री सरस्वती अस्पताल में शवों का पोस्टमार्टम कराना शुरू किया। जिससे जिले की जनता को कुछ राहत जरूर मिली।
इसी बीच जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित की गयी जगह पर जसरूप से आगे करीब 53 लाख की लागत से पोस्टमार्टम हाउस का निर्माण कराया गया है। जिसका निर्माण कार्यदायी संस्था आवास एवं विकास परिषद गाजियाबाद ने किया है। जिसे आधुनिक उपकरणों से लैस किया जा रहा है। जिसमें छह शवों को एकसाथ रखने की क्षमता होगी।
मुख्य चिकित्साधिकारी एके सिंह ने बताया कि नव निर्मित पोस्टमार्टम हाउस में शव रखने हेतु फ्रिज,उपकरण,विद्युत कनेक्शन व वाउड्रीवाल नहीं होने के कारण शुरू नहीं हो सका है। इस सम्बंध में पत्राचार कर शासन को अवगत करा दिया गया है। उन्होंने बताया कि अब पोस्टमार्टम हाउस से चोर एक दर्जन नये पंखे भी चोरी कर ले गये है।