Home » गुड वर्क/बैड वर्क » सुल्तानपुर- फरियादी माँ संग थाने आए बच्चो को SO ने स्वयं के हाथों से खिलाया खाना_रिपोर्ट:-अज़हर अब्बास

सुल्तानपुर- फरियादी माँ संग थाने आए बच्चो को SO ने स्वयं के हाथों से खिलाया खाना_रिपोर्ट:-अज़हर अब्बास

सुल्तानपुर----जमीनी विवाद के मामले में फरियाद लेकर थाने में अपने चार छोटे-छोटे बच्चो संग पहुँची...

सुल्तानपुर- फरियादी माँ संग थाने आए बच्चो को SO ने स्वयं के हाथों से खिलाया खाना_रिपोर्ट:-अज़हर अब्बास
Share Post


सुल्तानपुर----जमीनी विवाद के मामले में फरियाद लेकर थाने में अपने चार छोटे-छोटे बच्चो संग पहुँची महिला पुलिस के इस रूप को देख रह गई दंग,पीड़ितों ने आज तक तो खाकी से डर की कहानी सुनी होगी,जो कभी थाने की दहलीज पर कदम रखने के लिए किसी न किसी की पैरवी या रसूखदार से फरियाद कर थाने जाते थे लेकिन *बल्दीराय थाने के थानाध्यक्ष आकाश पवार* ने सभी के नारजिया को बदल कर रख दिया है, *मित्र जनता की मित्र है और पीड़ितों के साथ है* इस तरह की चर्चा आज पूरे क्षेत्र के गली चौराहे चाय की दुकानों में जायके के रूप में पेश हो रही है,मामला आज सुबह का है *थानाध्यक्ष बल्दीराय आकाश पवार सुबह नाश्ते करने के लिए बैठे ही थे कि महुली गांव निवासिनी सुमिरन पत्नी राम करन अपने चार बच्चो संग थाने पहुँची* खाने की थाली देख पीड़ित फरियादी महिला बच्चो संग बाहर ही रुकी,अचानक बाहर नजर पड़ी तो थानाध्यक्ष बल्दीराय उठ आए और पूछना शुरू किया तो महिला ने कहा आप नाश्ता कर ले फिर आती हु,फिर क्या थानाध्यक्ष ने बच्चो से पूछा बेटा आप लोगो ने खाया,नन्हे मुन्ने बच्चो के मुंह नही शब्द निकला ही था कि आगे बढ़कर *थानाध्यक्ष आकाश पवार ने बच्चो को गोद में उठा उन्हें बगल बिठाया और निवाला एक बच्चो के मुंह तो दूसरा अपने मुंह डालना डालना शुरू कर दिया* ये नजारा देख थाने का स्टाफ भी चकित रहा और फरियादी महिला के आंखे खुशी के आशुओ से भर गई, थानाध्यक्ष ने महिला को आश्वासन दिया की जल्द ही उसकी समस्या का निदान किया जाएगा,अब तो थानाध्यक्ष की अच्छाइयों की चर्चा और उनके कार्यो का लोग गुणगान कहते नही थकते,अपने सरल स्वभाव और पैनी नजर ,मामले की तह तक जाकर विवादप्रस्त मामले में पीड़ितों को न्याय दिलाने वालों थानाध्यक्ष की पहचान की जाती है,और क्षेत्र वासी भी कहते फिरते है ``एसपी साहब का कोटि कोटि धन्यवाद की ऐसे सरल उधार व्यक्ति को हमारे क्षेत्र में भेजा,अब हम दबंगो के जुल्म से भयमुक्त रहते है,और कहते है हमार एसओ साहब तुहुका सबका सबक सीखाइये '' ||