Home » चुनावी चर्चा » कबीर की धरती संतकबीरनगर में खिला कमल, जनता ने प्रवीण निषाद को बनाया सांसद_रिपोर्ट-बिट्ठल दास

कबीर की धरती संतकबीरनगर में खिला कमल, जनता ने प्रवीण निषाद को बनाया सांसद_रिपोर्ट-बिट्ठल दास

मण्डलायुक्त बस्ती मण्डल अनिल कुमार सागर, आई जी बस्ती आशुतोष कुमार ने मतगणना स्थल पर किया भ्रमण, ली...

कबीर की धरती संतकबीरनगर में खिला कमल, जनता ने प्रवीण निषाद को बनाया सांसद_रिपोर्ट-बिट्ठल दास
Share Post


मण्डलायुक्त बस्ती मण्डल अनिल कुमार सागर, आई जी बस्ती आशुतोष कुमार ने मतगणना स्थल पर किया भ्रमण, ली जानकारी

जिला निर्वाचन अधिकारी रवीश गुप्ता ने सकुशल सम्पन्न कराया मतगणना, पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर फोर्स के साथ करते रहे भ्रमण


संतकबीरनगर। संतकबीरनगर लोकसभा क्षेत्र के चुनाव में एक बार फिर भाजपा ने यह सीट हासिल करने में सफलता प्राप्त कर ली। भाजपा प्रत्याशी प्रवीण निषाद ने 35 हजार 366 मतों के अंतर से बसपा-सपा गठबंधन प्रत्याशी भीष्म शंकर उर्फ कुशल तिवारी को पराजित किया। इं0 प्रवीण निषाद को कुल 4 लाख 64 हजार 227 मत मिले वहीं उनके निकटतम प्रतिद्वंदी भीष्म शंकर उर्फ कुशल तिवारी को 4 लाख 28 हजार 861 मत प्राप्त हुए। कांग्रेस प्रत्याशी भालचंद्र यादव 1 लाख 27 हजार 488 मत प्राप्त कर तीसरे स्थान पर रहे। बृहस्पतिवार से शुरू हुई मतगणना में संतकबीरनगर सीट पर शुरूआती रूझान में कुछ समय तक मामूली अंतर से भाजपा ने बढ़त बनाई लेकिन कुछ ही देर बाद सपा-बसपा गठबंधन प्रत्याशी लगातार बढत बनाए रहे लेकिन मतों का अंतर मामूली ही रहा। इसके बावजूद यह रूझान कई चक्र तक चलता रहा जिससे कांटे की टक्कर दिखाई दे रही थी। लगभग 20 चक्र की मतगणना के बाद भाजपा प्रत्याशी प्रवीण निषाद ने गठबंधन प्रत्याशी भीष्म शंकर उर्फ कुशल तिवारी पर बढ़त बनाना शुरू किया। शुरूआत में यह बढ़त कम अंतर से रही और एक-दो बार तो भाजपा पिछड़ती भी दिखाई दे रही थी लेकिन ज्यों-ज्यों मतगणना आगे बढ़ती तो भाजपा की बढ़त तेज होती गई और अंत में कांटे की लड़ाई में भाजपा ने 35 हजार से अधिक मतों की बढ़त बनाते हुए गठबंधन प्रत्याशी को शिकस्त देने में सफलता प्राप्त कर ली। इस लड़ाई में कांग्रेस शुरू से ही तीसरे स्थान पर रही और उसकी उल्लेखनी बढ़त की उम्मीदे लगभग समाप्त हो गई थी लेकिन मतगणना बढ़ते-बढ़ते तीसरे स्थान पर हने के बावजूद कांग्रेस प्रत्याशी के मतों की बढ़त लगातार बनी रही जिससे यह अंदाजा लगाया जा रहा था कि कांग्रेस प्रत्याशी की बढ़त से ही गठबंधन की राह मुश्किल होगी और अंत में वही हुआ तथा जीत की दहलीज तक पहुंचते-पहुंचते गठबंधन प्रत्याशी कुशल तिवारी धराशाई हो गए। राष्ट्रीय पार्टियों के अलावा अन्य चार प्रत्याशी जो चुनाव मैदान में रहे उनकी स्थिति बहुत ही खराब रही। मौलिक अधिकार पार्टी के अखिलेश कुमार को 7574 मत, बहुजन मुक्ति पार्टी के आनंद कुमार गौतम को 3968 मत, सर्वजन पार्टी (निर्दल) के कर्नल राजेन्द्र यादव को 6877 मत तथा निर्दल लौटन को 3943 मत ही प्राप्त हो सके।