Home » चुनावी चर्चा » संतकबीरनगर:- भाजपा और अखिलेश पर अफ़ज़ाल ने कसे तंज _ उस्मान जहीर की रिपोर्ट

संतकबीरनगर:- भाजपा और अखिलेश पर अफ़ज़ाल ने कसे तंज _ उस्मान जहीर की रिपोर्ट

संतकबीरनगर:- विधान सभा खलीलाबाद से बसपा प्रत्याशी मशहूर आलम चौधरी के पक्ष चुनाव प्रचार के अंतिम...

👤 Ajay2017-02-25 18:14:50.0
संतकबीरनगर:- भाजपा और अखिलेश पर अफ़ज़ाल ने कसे तंज _ उस्मान जहीर की रिपोर्ट
Share Post


संतकबीरनगर:- विधान सभा खलीलाबाद से बसपा प्रत्याशी मशहूर आलम चौधरी के पक्ष चुनाव प्रचार के अंतिम सेमरियावां बाजार में आयोजित विशाल जन सभा को पूर्व सांसद बसपा के स्टार प्रचारक अफजाल अंसारी ने सम्बोधित करते हुए जनता का आह्वान किया कि मुख़्तार अंसारी बन्धुओं के अपमान का बदला सपा से लें।जय जय अखिलेश को, गय गय अखिलेश में बदलें।
उन्होंने सपा भाजपा को निशाना बनाते हुए कहा कि विधान सभा 2012 तथा 2014 के लोक सभा चुनाव में किए गए वादे को प्रदेश के सी एम्,और देश के पी एम ने पूरा नही किया।रोजगार,कानून व्यवस्था,गुजरात के दलित उत्पीड़न ,दादरी की घटना,दंगा फसाद को गिनाते हुए दोनों दलों कटघरे में खड़ा करके एक सामान बताया।सच्चर कमेटी ,रंगनाथ मिश्रा कमेटी तथा जेलों में बंद बेगुनाहों की रिहाई,18 प्रतिशत आरक्षण की वादा खिलाफी ,बुनकर की समस्या पर यूपी सरकार को कोसा।सभी वादे कोरे साबित हुए।यूपी के सी एम् भी पी एम के रास्ते पर चल रहे है जुमले बाजी करके सत्ता हासिल करना चाहते है।
अफजाल अंसारी ने कहा कि गधे को लेकर दोनों नेता आमने सामने है इसको चुनावी मुद्दा बनाया जा रहा है।जन समस्या से दूर है।सी एम् को न समझ करार देते हुए कहा की सैफई का सुल्तान अब बहादुर शाह जफर की तरह आखिरी सुल्तान साबित होगा।देश के प्रधामंत्री आर एस एस का एजंडा लागु करके आरक्षण की समीक्षा करेंगे,कामन सिविल कोड लागु करेंगे,।इस से होशियार होने की जरूरत है।बंगाल बिहार के बाद यूपी में भी बीजेपी के रथ को रोकने की जिम्मेदारी यहां की जनता की है।राज्य सभा में बीजेपी की बहुमत की मंशा को बसपा सफल नही हिने देगी।
सभा में उमड़ी भीड़ से उन्होंने बसपा प्रत्याशी मशहूर आलम चौधरी जैसे शरीफ ईमानदार को वक्त की जरूरत बताते हुए ऐतिहासिक जीत दिलाने की अपील की।जिससे बसपा को मजबूती मिलेगी।उन्होंने दावा किया कि अबतक 262 सीटों पर चुनाव हो गया है जिसमे बसपा को बहुमत हासिल है,141 सीट पूर्वांचल की शेष बची है यहां भी बहुमत मिलने जा रहा है।गाजीपुर से गाजियाबाद तक हाथी ही हाथी दिखाई दे रही है।