Home » चुनावी चर्चा » कौशाम्बी:- .....और जब उदास दिखे आज़म खान _रमेश कुशवाहा की रिपोर्ट

कौशाम्बी:- .....और जब उदास दिखे आज़म खान _रमेश कुशवाहा की रिपोर्ट

कौशाम्बी:- कौशांबी जिले के मंझनपुर विधानसभा मे चुनावी जनसभा को संबोधित करने पहुंचे समाजवादी पार्टी...

👤 Ajay2017-02-20 01:41:57.0
कौशाम्बी:- .....और जब उदास दिखे आज़म खान _रमेश कुशवाहा की रिपोर्ट
Share Post



कौशाम्बी:- कौशांबी जिले के मंझनपुर विधानसभा मे चुनावी जनसभा को संबोधित करने पहुंचे समाजवादी पार्टी के फायर ब्रांड नेता व प्रदेश के नगर विकास मंत्री आजम खान काफी उदास दिखाई दिये| भाषण की शुरुआत मे ही जनसमूह को भावनाओं मे बढ़ाने की कोशिश कराते हुये कहा कि आज उनका मन उदास है, दिल खुश नहीं है| हालांकि बाद मे अपने चिरपरिचित अंदाज मे विपक्षियों पार्टियों पर शब्दों के बाण चलाते हुये उन्हे कठघरे मे खड़ा किया| अपने सम्बोधन मे आजम ने खुद के ऊपर लगाए जा रहे गद्दारी शब्द को लेकर सफाई दिया तो गंगा सफाई पर भाजपा सरकार को घेरा| आजम ने बसपा को भी नहीं बख्शा|
आजम खान ने एक कुत्ते की कहानी सुनाने के बाद बिना किसी का नाम लिए कहा कि जो समाज के साथ वफादार नहीं ही सकता वह अपने पत्नी व बच्चों के साथ भी वफादार नहीं हो सकता| उन्होने कहाकि उन्हे गद्दार कहा गया, पाकिस्तान जाने को कहा गया| उनकी देश भक्ति पर सवालिया निशान लगाया गया| एक तरफ देश भक्त लोग है तो दूसरी तफ़र भारत माता को लूटने वाले लोग है, जो अपना धन वोदेशों मे रखते हैं| जबकि उनके पाससिर्फ एक ही बैंक एकाउंट लखनऊ मे है| उन्होने कहा कि जो लेग भारत माता पर अपना अधिकार समझते हुये मातृ भूमि का संदेश देने की कोशिश करते हैं उन्हे यह भी जान लेना चाहिए कि मुस्लिम समाज भी भारत माता को उर्दू मे मादरे वतन कहता है| आर आर एस को आड़े हाथो लेते हुये कहा कि वह देश की आबो हवा मे जहर घोलना चाहते हैं| देश को बर्बाद करना चाहते हैं| कभी भाई-भाई को लड़ाकर कर तो कभी लव जेहाद के नाम पर| आजम खान ने गंगा सफाई पर भाजपा सरकार को कठघरे मे खड़ा कराते हुये कहा कि उन्होने जो प्रोजेक्ट बनाकर भेजा उस पर काम नहीं हुआ| बल्कि गंगा को साफ करने के नाम पर जमकर लूट की गई| गंगा को जितना हिन्दू मानते है उतना ही मुस्लिम समाज भी मानता है| कुरान मे कहा गया है कि बहता हुआ पानी ही सबसे अधिक परित्र है| यह भी खा कि नदिया न होती तो इंसान भी न होता| पीएम मोदी पर तंज़ कसते हुये कहा कि ढाई साल के कार्यकाल मे उन्होने अस्सी कारों का कपड़ा पहन डाला, जबकि देश के एक प्रधानमंत्री स्वर्गीय ललबहादुर शास्त्री ऐसे भपीएम थे जिनके कोट के नीचे का कुर्ता फटा रहता था| गांधी जी पर बोलते हुये कहा कि जिस इंसान ने तन पर सिर्फ एक कपड़ा लपेटकर देश को आजादी दिलाया उसका कत्ल कर दिया गया| पी एम ने उन्हे पिल्ला कहा तो उनके एक मंत्री ने उन्हे कुत्ता तक कह डाला| साध्वी प्राची की जुबान से रामजादी व हरमजादे शब्द निकलते है जो उन्हे शोभा नहीं देते| आजम ने नोटबंदी पर भी भाजपा को घेरा|

बसपा को कठघरे मे खड़ा करते हुये कहा कि उनके संस्थापक कांशीराम ने राम मंदिर-बाबरी मस्जिद की जगह पाखाना (शौचालय बनवाने की बात काही थी| वही बसपा आज मुसलमानों की हितशी बनाने का ढोंग कर रही है| उन्होने कहा कि मायावती मुसलमानों को बर्बाद कर देंगी| मुसलिम समाज को आगाह करते हुये कहा कि वह नहीं चेते तो मायावती उनकी कौम के टुकड़े टुकड़े करवा देंगी| मुलायम सिंह के तारीफ करते हुये कहा कि अयोध्या विवाद के समय उन्होने कहा था पहले देश बचा लो फिर धर्म बचाना|