Home » चुनावी चर्चा » बस्ती:-झूठे आरोपो में फंसा रही भाजपा मेरी लोकप्रियता से घबड़ा गई है-राकेश श्रीवास्तव_विवेक गुप्ता की रिपोर्ट

बस्ती:-झूठे आरोपो में फंसा रही भाजपा मेरी लोकप्रियता से घबड़ा गई है-राकेश श्रीवास्तव_विवेक गुप्ता की रिपोर्ट

बस्ती : बीजेपी के राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा की गाड़ी पर हमला करने का मेरे ऊपर आरोप लगाना राजनीतिक...

👤 Ajay2017-02-20 01:10:35.0
बस्ती:-झूठे आरोपो में फंसा रही भाजपा मेरी लोकप्रियता से घबड़ा गई है-राकेश श्रीवास्तव_विवेक गुप्ता की रिपोर्ट
Share Post

बस्ती : बीजेपी के राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा की गाड़ी पर हमला करने का मेरे ऊपर आरोप लगाना राजनीतिक षडयत्र और चपलता के अलावा कुछ नहीं है। यह कहना है सदर विधानसभा के निर्दल उम्मीदवार राकेश श्रीवास्तव का। प्रेस को जारी विज्ञप्ति में राकेश ने कहा कि राज्यसभा सांसद जिस कार्यक्रम में हिस्सा लेने बस्ती आ रहे थे उसके आयोजक एक जाति आधारित संगठन के प्रमुख पदाधिकारी हैं, इस बात की आशंका थी कि सिन्हा कायस्थ बिरादरी के लोगों से बीजेपी उम्मीदवार के पक्ष में वोट अपील करने आ रहे हैं जो आदर्श आचार सहिता और सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देशों की अवहेलना है। मैने लोकतांत्रिक तरीके से इसकी शिकायत आरओ और आब्जर्वर से की थी।


मेरा इरादा गैर लोकतांत्रिक तरीके से विरोध दर्ज कराने का होता तो हमें आब्जर्वर से शिकायत की जरूरत नही थी। राकेश ने कहा दरअसल उनकी तेजी से मतदाताओं में बढ़ती लोकप्रियता से भाजपा डरी हुई है, कहा मै ऐसी बिरादरी और प्रोफाइल से सम्बद्ध हूं कि भाजपा को लग रहा है कि मै उनकी जीत में रोड़ा बन रहा हूं। इसलिये एक षडयंत्र के तहत मुझे फंसाया जा रहा है, जिससे मतदाता दिग्भ्रमित हो जाये। सच्चाई यह है कि साजिश, आरोप प्रत्यारोप, दोहरे मापदण्ड, गुणवत्ताविहीन विकास और राजनीतिक चालाकी से किये जा रहे भ्रष्टाचार से जनता त्रस्त हो चुकी है। सदर विधानसभा में इस बार मतदाता मिथक तोड़ने का मन बना चुके हैं।


हर तरफ परिवर्तन के संकेत मिल रहे हैं। इससे घबराये भाजपा कार्यकर्ता उनकी छबि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। एक कार्यक्रम में स्वयं सांसद ने बयान दिया कि मेरे घर में 11 लाख की चोरी हुई है, चुनाव आचार संहिता के समय इतनी बड़ी धनराशि उनके घर कहां से आई मै इसकी जांच कराऊंगा, इसके जवाब में राकेश ने कहा कि मेरी पूरी हैसियत का हिसब चार्टड एकाउण्टेण्ट के पास है, मै भारत सरकार को उतनी धनराशि साल में टैक्स देता हूं जिसके लिये गंदी चरित्र वाले नेताओं के इमान डोल जाते हैं। 11 लाख के जेवर चोरी होने को सांसद कैश चोरी में बदल रहे हैं यह उनकी राजनीतिक चपलता है। कहां वक्त आने पर सब साफ हो जायेगा। फिलहाल आज जिसे लोग घटना बता रहे हैं उसमें मेरा इरादा केवल सिन्हा को माला पहनाकर स्वागत करने का था। मै राजनीतिक चालाक नही हूं, इस क्षेत्र में विशेषज्ञता रखने वाले इसे क्या रंग देते हैं वे जानें।