Home » चुनावी चर्चा » पीलीभीत:- त्रिकोणीय संघर्ष में फंसे हाजी रियाज़_विकास सक्सेना की रिपोर्ट

पीलीभीत:- त्रिकोणीय संघर्ष में फंसे हाजी रियाज़_विकास सक्सेना की रिपोर्ट

पीलीभीत/ मतदान की तिथि नज़दीक आते ही 127- सदर विधान सभा सीट पर चुनाव बेहद रोचक होता जा रहा है। बसपा...

👤 Ajay2017-02-11 05:55:37.0
पीलीभीत:- त्रिकोणीय संघर्ष में फंसे हाजी रियाज़_विकास सक्सेना की रिपोर्ट
Share Post

पीलीभीत/ मतदान की तिथि नज़दीक आते ही 127- सदर विधान सभा सीट पर चुनाव बेहद रोचक होता जा रहा है। बसपा के अरशद खां द्वारा मुस्लिम वोटों में सेंध मारी करने से इस बार कैबिनेट मंत्री हाजी रियाज़ अहमद त्रिकोणीय संघर्ष में फंस गए हैं। हालांकि भाजपा के संजय गंगवार उन्हें करारी टक्कर दे रहे हैं। सदर विधानसभा सीट पर अगर हम नज़र डालें तो इस पर पिछले डेढ दशक से सपा का कब्ज़ा रहा है। हाजी रियाज़ अहमद इस सीट से लगातार तीन बार मंत्री और विधायक बने हैं। इस बार इस सीट पर कुल 367674 मतदाता है। जाति गत आकडो पर अगर हम नज़र डालें तो 1 लाख 15 हज़ार मुस्लिम, 32 हज़ार दलित,11 हज़ार बृह्मण, 45 हज़ार कुर्मी, 25 हज़ार लोध किसान, 18 हज़ार कश्यप, 17 हज़ार मौर्या,10 हज़ार कायस्थ, 4 हज़ार छत्रय, 11 हज़ार वैश्य, वोट बैंक है। भाजपा ने इस बार संजय गंगवार को अपना प्रत्याशी बनाया है। पिछली बार के चुनाव में वह बसपा के उम्मीद वार थे और सिर्फ चार हज़ार वोट से सपा के हाजी रियाज़ से हारे थे। हाजी जी को 61 हज़ार मत मिले थे जबकि संजय को 57 हज़ार मत पाकर संतोष करना पड़ा था। लेकिन इस बार बसपा ने भी यहाँ मुस्लिम वोट बैंक को देखते हुए पूर्व विधायक अरशद खां पर अपना दाँव लगाया है। वे बसपा के दलित वोट के साथ मुस्लिम वोट में भी जमकर सेंध मारी कर रहे हैं । उनका कहना है कि समाज के सभी वर्गों का सर्मथन उनके साथ है। साथ ही मुस्लिमो के साथ जो ज्यादती की गई है उसका जवाब मिलेगा। इसलिए उनकी जीत तय है। सपा के हाजी रियाज़ जहाँ अमरिया को नई तहसील , बाईपास और अखिलेश के विकास कार्यो को लेकर पूरे दमखम से मैदान में है।लेकिन उन्हें अपनों के ही विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है। सपा ज़िलाध्यक्ष आनंद सिंह यादव अपनी सीट को लेकर पूरी तरह मुत मईन हैं। उनका कहना है कि उनकी एक तरफ़ा जीत है। किसी से कोई मुकाबला नही है।। भाजपा के संजय गंगवार को कम वोटो से पिछली हार और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की लहर की आस है।उनके लिए केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने भी नुककड सभाओं को संबोधित किया है। संजय मुस्लिम वोटों के धुर्वीकरन के चलते अपनी जीत तय मान रहे हैं । उनका कहना है कि उनकी ऐतिहासिक जीत होगी। बहर हाल मुस्लिम मत दाता अभी पूरी तरह खामोश है।जिससे रोचक मुकाबले के आसार है।