Home » अपराध / आचार » मऊ में पुलिस पर गुंडागर्दी का आरोप -जिला अस्पताल में डाक्टरों ने पुलिस पर बदसलूकी का लगाया आरोप _ अरुण सिंह भीमा की रिपोर्ट

मऊ में पुलिस पर गुंडागर्दी का आरोप -जिला अस्पताल में डाक्टरों ने पुलिस पर बदसलूकी का लगाया आरोप _ अरुण सिंह भीमा की रिपोर्ट

मऊ :- कहते हैं ना सत्ता किसी की भी हो पर हम नहीं सुधरेंगे कुछ ऐसा ही बानगी यहाँ देखने को मिला जहाँ...

👤 Ajay2017-03-14 06:29:32.0
मऊ में पुलिस पर गुंडागर्दी का आरोप -जिला अस्पताल में डाक्टरों ने पुलिस पर बदसलूकी का लगाया आरोप _ अरुण सिंह भीमा की रिपोर्ट
Share Post



मऊ :- कहते हैं ना सत्ता किसी की भी हो पर हम नहीं सुधरेंगे कुछ ऐसा ही बानगी यहाँ देखने को मिला जहाँ पुलिस ने अपनी वर्दी के मद में चूर होली के दिन जिला अस्पताल में डाक्टरों से बदसलूकी पर आमादा हो गयें ।
जी हाँ ये वाक्या कल होली के दिन का हैं । जिला चिकित्सालय में कल होली के दिन किसी कारण वश दुर्घटना में घायल हुए दो सिपाहियों का इलाज कराने पहुंचे पुलिस वालों पर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में जमकर हंगामा करने और वहां के डॉक्टर व स्टाफ के साथ बदसुलूकी करने लगे जब बनारस जाने के लिए वाहन की मांग करने लगे । वाहन उपलब्ध न कराने के ऐवज में पुलिसकर्मी ने बदसलूकी करते हुए फार्मासिस्ट कंवल भारती को एंबुलेंस में बैठा कर अपने साथ लेते गयें और दूर ले जाकर छोड़ दिया ।

जब इसकी जानकारी अन्य डाक्टरो को हुई तो आक्रोश में आ गयें और होली के दिन ही हड़ताल कर दिया ।मौके पर जिलाचिकितालय पहुंचते तब तक अस्पताल के सीएमएस मौके पर पहूंचे और अपने चिकित्सकों और स्टाफ के साथ बैठक कर इमरजेनसी वार्ड में ताला लगाकर कार्य बहिष्कार कर दिया। उन लोगों का कहना था कि जब तक उनके साथ न्याय नहीं होगा तब तक वो कार्य का बहिष्कार किये रहेंग जब तक उनके साथ में न्याय नही होगा तब तक वो कार्य का बहिष्कार किए रहेगे।
इस घटना से भयभीत हुए जिला चिकित्सालय के डाक्टर रुपेश राय ने पूरी घटना के बाद कहा कि वह इससे डरे हुए हैं और इस स्थिति में बिल्कुल काम नहीं कर सकते। सो उन्होंने अपने स्टाफ के साथ कार्य का बहिष्कार कर दिया। कहा कि पुलिस वालो 60 की संख्या में आये तो गाली गलौज देते हुए उठाकर ले गये और दूर लेजाकर छोड दिया हमको पता नही चला कि कहां पर छोडे़ हैं।
इस बाबत जिला चिकित्सालय के सीएमएस ने कहा कि मेरी बात सीओ से हुई है। लेकिन जिस तरह से घटना घटी है उससे डाक्टर भयभीत हैं और हम लोग इस दशा में काम नही कर सकते है।बाद में सिटी मजिस्ट्रेट राम अभिलाष सिओ सिटी पंकज कुमार सिहं मौके पर जिला चिकित्सालय में पहुंचे और डाक्टरों व स्टाफ से बहिष्कार खत्म कराने को कहा तो उन्होंने ऐसाा करने से इनकार कर दिया। उनके न मानने पर एक बार फिर पुलिस कर्मियों ने अस्पताल स्टाफ संग धक्का-मुक्की की। इससे डॉक्टरों व स्टाफ और नाराज हो गए। उन्होंने बात मानने से साफ इनकार कर दिया। इस दौरान हास्पिटल में दर्जनो की संख्या में पहुंचे मरीजों को कठिनाईयों का सामना करना पडा था वहीं इस पूरे मे सीओ सिटी ने चिकित्सक के साथ में बदसूलीकी के मामले मे कहा कि जो घटना सामने आयी है उसकी जांच करायी जाएगी। इसमें जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्यवायी की जाएगी।