Home » अपराध / आचार » रामपुर:- डेढ़ माह पहले हुए चौकीदार के क़त्ल का खुलासा_ जीशान खां की रिपोर्ट

रामपुर:- डेढ़ माह पहले हुए चौकीदार के क़त्ल का खुलासा_ जीशान खां की रिपोर्ट

रामपुर :- उत्तर प्रदेश रामपुर में आज स्वार पुलिस ने करीब डेढ़ माह पहले समिति चौकीदार के क़त्ल का...

👤 Ajay6 March 2017 6:53 AM GMT
रामपुर:- डेढ़ माह पहले हुए चौकीदार के क़त्ल का खुलासा_ जीशान खां की रिपोर्ट
Share Post

रामपुर :- उत्तर प्रदेश रामपुर में आज स्वार पुलिस ने करीब डेढ़ माह पहले समिति चौकीदार के क़त्ल का खुलासा करते हुए चचेरे भाई-बहन को गिरफ्तार किया है। पकड़ा गया लड़का कंप्यूटर इंजीनियर है। उसने समिति चौकीदार का क़त्ल नाजायज़ रिश्तों और छेड़छाड़ के विरोध में की थी। क्षेत्र के ग्राम मधुपुरा का महबूब छोटे वाल्मीकी समोदिया समिति पर चौकीदारी करता था।13 जनवरी की रात समिति में सोते समय किसी ने गोली मारकर उसकी हत्या कर दी थी। पुलिस ने अज्ञात में हत्या का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी । पुलिस को काफी भागदौड़ के बाद हत्या के संबंध में ग्रामीणों से अहम जानकारी मिली इसी दोरान पुलिस ने इसी जानकारी के आधार पर थाना अजीमनगर के गांव खिजरपुर के मुर्शद और समिति के पास रहने वाली रुखसार के मोबाइल सर्विलांस पर लगाए। सर्विलांस से पता चला कि दोनों के बीच घटना की रात हत्या से पहले बात हुई थी। पुलिस ने युवती को हिरासत में लेकर पूछताछ की। सीओ राधेश्याम ने बताया कि पूछताछ में युवती ने सच्चाई बता दी। युवती ने बताया कि चौकीदार का उनके घर में आना-जाना था। चौकीदार के उसकी मां नन्ही से अवैध संबंध हो गए थे। युवती ने दोनों को आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था।
युवती का कहना था कि उसके पिता की गैर मौजूदगी में चौकीदार घर की दीवार फांदकर अंदर आता था या फिर मां को समिति में बुला लेता था। करीब तीन माह पहले चौकीदार ने युवती के साथ अश्लील हरकत की थी। युवती ने इसकी जानकारी आने चचेरे भाई मुर्शद को दी। दोनों भाई-बहन ने चौकीदार की हत्या का फैसला कर लिया। कोतवाल मनोज कुमार ¨सह ने बताया कि घटना की रात युवती ने फोन करके भाई को बुलाया था। उसका भाई तमंचा लेकर आया। समिति के कमरे में सो रहे चौकीदार की कनपटी पर गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद युवक वापस गांव भाग गया था। युवक की निशानदेही पर पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त तमंचा भी बरामद कर लिया है ।
एसएसआइ लक्ष्मीशंकर ने बताया कि युवक को जरा भी अंदाजा नहीं था कि पुलिस उसे पकड़ लेगी। अगर उसे भनक लग जाती तो वह सऊदी अरब चला जाता। उन्होंने बताया कि आरोपी मुर्शद चार साल सऊदी अरब में रह चुका है।