Home » अपराध / आचार » पीलीभीत :- हत्यारोपी बेटा चढ़ा पुलिस के हत्थे _विकास सक्सेना की रिपोर्ट

पीलीभीत :- हत्यारोपी बेटा चढ़ा पुलिस के हत्थे _विकास सक्सेना की रिपोर्ट

पीलीभीत- 28 फरवरी को अपनी माँ की हत्या कर फरार चल रहा आरोपी हत्यारा बेटा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया,...

👤 Ajay2017-03-03 14:52:44.0
पीलीभीत :- हत्यारोपी बेटा चढ़ा पुलिस के हत्थे _विकास सक्सेना की रिपोर्ट
Share Post


पीलीभीत- 28 फरवरी को अपनी माँ की हत्या कर फरार चल रहा आरोपी हत्यारा बेटा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, आरोपी को आज एसपी के सामने पेश किया,। जघन्य अपराध में सजा से बचने के लिए पागलों जैसी हरकतें कर रहा था,। हत्यारें ने अपनी मां की हत्या का आरोप तो स्वीकार ही किया साथ ही हत्यारा में प्रयुक्त बांका भी पुलिस को बरामद करा दिया,आरोपी को जेल भेजा गया है,।
पुलिस अधीक्षक देवरंजन ने 28 फरवरी को हुए गोमती हत्याकांड का खुलासा किया,। गोमती देवी हत्याकांड के आरोपी रूपलाल (मृतक का बेटा)निवासी ग्राम हिम्मतपुर उर्फ चिरैंदापुर थाना न्यूरिया( आरोपी) ने जहां हत्या की बात स्वीकार की वहीं उसने हत्या में प्रयुक्त बांका भी बरामद करा दिया,।आपको बता दें की (बेटा )रूपलाल ने 28 फरवरी को अपनी मां गोमती देवी की रात नौ बजे बांका मारकर उस समय हत्या कर दी थी जब वह अपनी पुत्री सावित्री देवी के यहां गई हुई थी,|अभियुक्त अपने तीन भाईयों में सबसे छोटा था, उसके पिता कलेक्ट्रेट में चपरासी थी,। उनकी मृत्यु पर बडे भाई भगवानदास को नौकरी मिल गई थी, गोमती देवी को पति की पेंशन मिलती थी। मां ही अपने पुत्र रूपलाल का सारा खर्च उठाती थी। उसे सबसे अधिक मानती थी। यां यूं कहे कि मां के लाड प्यार में रूपलाल बिगड गया था। उसका कामधंधें में मन नहीं लगता था। रूपलाल की हरकतों से आजिज आकर गोमती देवी अपनी पुत्री सावित्री देवी के यहां रहने लगी थी। 28 फरवरी को दिन में रूपलाल ने पैसों के लिए अपनी मां से झगडा भी किया था, और रात में अलाव तापते समय मां की हत्या भी कर दी थी,। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मां की हत्या करने के बाद वह फरार हो गया था। वह गोला भी गया था। अपने गांव में श्मशान घाट के आसपास देखा गया था। वहां से फिर वह अपनी बहन के घर की ओर जा रहा था। तभी उसे बिठौरा कलां से एक किलोमीटर पहले पुलिस ने आज दबोच लिया,
पुलिस अधीक्षक देवरंजन ने बताया कि इसका मेडिकल परीक्षण कराया जाएगा,। जिससे यह बात सामने आ सकती है कि कहीं यह मानसिक रूप से बीमार तो नहीं है अथवा उस दिशा की ओर बढ रहा है। अभी तो यहीें कहा जा सकता है कि वह वह बचने के लिए यह हरकतें कर रहा है,। पुलिस अधीक्षक ने हत्यारोपी को पकडने वाली टीम को ढाई हजार रूपये का पुरस्कार देने की घोषणा की,।वही आरोपी को जेल भेजा जा रहा है,।